योजना आयोग की मोदी का स्पेशल-5 पैनल

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
शिवसेना के सुरेश प्रभु होंगे मुखिया!एजेंसियां, नयी दिल्लीप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने योजना आयोग को खत्म करने की जबसे बात कही है, इसकी वैकल्पिक व्यवस्था के बारे में कयास शुरू हो गये हैं. अंगरेजी अखबार 'द इकोनॉमिक टाइम्स' की मानें तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शक्तियां लेनेवाला पांच सदस्यीय थिंक टैंक योजना आयोग की जगह लेगा. अखबार ने सूत्रों के हवाले से संभावना जतायी है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु इस पैनल का सबसे अहम चेहरा हो सकते हैं. साथ ही मुक्त बाजार के हिमायती भारतीय-अमेरिकी अर्थशास्त्री अरविंद पनगढि़या और विवेक देबरॉय भी इस टीम का हिस्सा हो सकते हैं. आधिकारिक रूप से पैनल की अध्यक्षता प्रधानमंत्री ही करेंगे. अखबार ने चर्चा में शरीक रहे अधिकारियों के हवाले से लिखा है कि इस पैनल का एलान अगले दो दिनों में ही किया जा सकता है.दो नाम अभी फाइनल होने बाकीविस्तृत विज्ञान और तकनीकी विशेषज्ञता वाला एक अकादमिक व्यक्ति, जो संभवत: आइआइटी से होगा और संघ परिवार की सोच से इत्तेफाक रखने वाला सामाजिक विज्ञान का एक विशेषज्ञ भी पैनल में हो सकता है. हालांकि इन दोनों पदों के लिए अभी नाम सामने नहीं आये हैं. सूत्रों ने नाम न छापने की शर्त पर अखबार को बताया कि विज्ञान और सामाजिक विज्ञान के विशेषज्ञों के नाम फाइनल होने की प्रक्रि या में हैं.पुराने भरोसेमंद लोग होंगे टीम मेंदेबरॉय और पनगढि़या दोनों ही चुनाव से पहले से नरेंद्र मोदी की सलाहकार टीम में रहे हैं. एक वरिष्ठ अधिकारी ने अखबार को बताया कि अब पैनल का नाम सोचा रहा है. चीन के डेवलपमेंट एंड रिफॉर्म्स कमीशन से अलग एक नाम खोजा जा रहा है. पैनल में सदस्यों की संख्या पर अधिकारी ने कहा कि एक राय यह भी थी कि ज्यादा सदस्य होंगे तो जाति और प्रदेश जैसे प्रतिनिधित्ववादी राजनीतिक मुद्दों को उपयुक्त जगह मिल सकेगी. हालांकि एक छोटा और दक्ष पैनल ज्यादा लोगों की पसंद बताया जा रहा है, क्योंकि वह मौजूदा आठ सदस्यीय योजना आयोग से अलग होगा. अधिकारी ने बताया कि थिंक टैंक के पास दूसरे क्षेत्रों से विशेषज्ञ लेने का अधिकार होगा. साथ ही अभी विस्तृत दिशा-निर्देश भी अभी तय किये जाने हैं.कौन हैं सुरेश प्रभुमहाराष्ट्र की राजापुर लोकसभा से शिवसेना सांसद सुरेश प्रभु पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं और इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेट्स ऑफ इंडिया के सदस्य हैं. वह चौथी बार राजापुर से सांसद चुने गये हैं. वह एनडीए सरकार के अलग-अलग कार्यकाल में केंद्रीय उद्योग मंत्री और पर्यावरण व वन मंत्री रह चुके हैं. मोदी सरकार ने उन्हें एडवाइजरी ग्रुप फॉर इंटीग्रेटेड डेवलपमेंट ऑफ पावर, कोल एंड रिन्यूएबल एनर्जी के उच्च स्तरीय सलाहकार पैनल का मुखिया नियुक्त किया है.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें