159 मुखिया व पंसे से स्पष्टीकरण

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
गड़बड़ी. 14वें िवत्त आयोग की रािश में हुआ करोड़ों रुपये का घोटाला
टैंकर व सोलर लाइट की खरीद में सरकारी राशि की बंदरबांट की गयी है
दुर्जय पासवान
गुमला : गुमला जिले के 12 प्रखंडों में 14वें वित्त आयोग की राशि में करीब तीन करोड़ रुपये का घोटाला हुआ है. मुखिया व पंचायत सेवकों ने अपनी जेब भरने के लिए ढाई गुणा अधिक की दर पर सोलर लाइट व पानी टैंकर की खरीद की है. प्रभात खबर ने घोटाले को उजागर किया है.
इसके बाद जिले के अधिकारी हरकत में हैं. डीडीसी नागेंद्र कुमार सिन्हा ने जिले की सभी 159 पंचायत के मुखिया व पंचायत सेवकों से स्पष्टीकरण मांगा है. इस संबंध में डीडीसी ने सभी 12 प्रखंड के बीडीओ को पत्र लिखा है. पत्र में डीडीसी ने बीडीओ से कहा है कि संबंधित पंचायत के पंचायत सेवक व मुखियाओं को पत्र की जानकारी दें और बतायें कि उनसे स्पष्टीकरण मांगा गया है. डीडीसी ने कहा है कि 14वें वित्त आयोग की राशि से सोलर लाइट व पानी टैंकर की खरीदारी में विभागीय निर्देशों का पालन नहीं किया गया है. एक सप्ताह के अंदर स्पष्टीकरण मांगा गया है, ताकि आगे की कार्रवाई की जा सके.
दो टीमों से करायी गयी है जांच
14वें वित्त आयोग की राशि में घोटाला का मामला सामान्य प्रशासन जांच समिति की जांच से हुआ है. इसके बाद मामले को प्रभात खबर ने उजागर किया. सामान्य प्रशासन समिति की जांच व प्रभात खबर में खबर छपने के बाद डीडीसी नागेंद्र कुमार सिन्हा ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच का आदेश दिया था. इसके लिए दो जांच टीम बनी थी. गुमला जिले के चार विधानसभा क्षेत्रों में इसकी जांच करायी गयी. जांच में पाया गया कि अपनी कमाई के लिए मुखिया व पंचायत सेवकों ने सोलर लाइट व पानी टैंकर की खरीद की है. इसमें बाजार मूल्य से ढाई गुणा ज्यादा खर्च दिखाया गया है. सभी 159 पंचायतों में जांच हुई है. जांच में स्पष्ट हो गया है कि मुखिया व पंचायत सेवकों ने नियम-कानून को ताक पर रख कर पानी टैंकर व सोलर लाइट की खरीदारी की है. .
घाघरा व सिसई में सबसे ज्यादा घोटाला
14वें वित्त की राशि में घाघरा व सिसई प्रखंड में सबसे अधिक घोटाला हुआ हैं. इन दोनों प्रखंड के मुखियाओं व पंचायत सेवकों ने सबसे अधिक टैंकर व सोलर लाइट की खरीदारी की है. कई पंचायत सेवकों ने तो बिन सोलर लाइट खरीदे ही पैसे की निकासी कर ली है. हालांकि प्रभात खबर में समाचार छपने के बाद कई पंचायत में मुखियाओं ने आनन-फानन में सोलर लाइट लगाना शुरू कर दिया है.
इस प्रकार गड़बड़ी की गयी है
जिस सोलर पैनल की खरीदगी हुई है, उसका बजार मूल्य प्रति पीस 12000 रुपये है. लेकिन सरकारी राशि हड़पने के चक्कर में मुखिया व पंचायत सेवक ने उक्त सोलर पैनल को 31500 रुपये में खरीद कर फरजी बिल वाउचर प्रस्तुत किया है. वहीं पानी टैंकर का दाम प्रति अदद 65000 रुपये है. पर, इसे 149000 रुपये में खरीद दिखाया गया है. पंचायत के सभी मुखिया ने उपस्कर की खरीदारी एचए इंटरप्राइज टीवी टावर रोड डालटनगंज पलामू से की हैं. उसी कंपनी का बिल वाउचर भी प्रशासन के समक्ष प्रस्तुत किया गया है, जबकि खरीदे गये उपस्कर गुमला व रांची में सस्ते दर पर उपलब्ध है. लेकिन इन जगहों को छोड़ पलामू से खरीदारी की गयी है.
14वें वित्त से पंचायतों में ये काम होने हैं
पंचायती राज विभाग के अनुसार 14वें वित्त आयोग की राशि से पंचायतों में विकास का काम करना है. जैसे जलापूर्ति की व्यवस्था, स्वच्छता, नाली निर्माण, ठोस अपशिष्ट प्रबंधन, सामुदायिक संसाधनों का रख रखाव, तालाब निर्माण, बाजार की व्यवस्था, आंगनबाड़ी केंद्र की मरम्मत व निर्माण, सड़क व फुटपाथ का रख रखाव, सार्वजनिक मार्ग व अन्य स्थानों में बिजली की व्यवस्था व रख रखाव, कब्रगाह व श्मशान घाट के रख रखाव में राशि खर्च करना है. परंतु मुखियाओं ने निर्धारित दाम से करीब दुगुने दाम पर सोलर लाइट व पानी टैंकर खरीद कर राशि की बंदरबांट की है.
गुमला : 14वें वित्त आयोग की राशि से खरीदे गये पानी टैंकर व सोलर लाइट मामले में मुखिया व पंचायत सेवकों से मांगे गये स्पष्टीकरण से अगर डीडीसी नागेंद्र कुमार सिन्हा संतुष्ट नहीं होते हैं, तो कार्रवाई होना तय है. डीडीसी ने कहा है कि बीडीओ को पत्र लिख कर सभी पंचायत सेवक व मुखियाओं से स्पष्टीकरण देने के लिए कहा है. कुछ लोगों पर कार्रवाई निश्चित होगी.
मुखिया, जिनसे स्पष्टीकरण मांगा गया है
बिशुनपुर प्रखंड से मुखिया जयप्रकाश उरांव, सुषमा देवी, प्रसन्न टोप्पो, दीपमाला कुमारी बाड़ा, बिलटू लोहरा, राजमुनी उरांव, सुरेश भगत, क्लोस्टिका तिग्गा, दिगंबर मुंडा, तारामणि किंडो से स्पष्टीकरण मांगा गया है. इसके अलावा डुमरी प्रखंड से मुखिया विमला तिग्गा, क्लोस्टिका खलखो, रेखा मिंज, बिबियानी कुजूर, प्रकाश एक्का, प्रभा तिर्की, बसंत भगत, रंजीता एक्का व विनोद कुजूर हैं. जारी प्रखंड से मुखिया रजनी मिंज, दिलीप बड़ाइक, सावित्री टोप्पो व शीतल खलखो हैं. यहां जरडा पंचायत की मुखिया फुलमनी तिर्की के निधन पर पद रिक्त है.
चैनपुर प्रखंड से मुखिया गाब्रियल कुजूर, जसिंता किंडो, कमल केरकेट्टा, ग्लोरिया खलखो, मनोहर बड़ाइक, शोभा बाड़ा, सामुवेल टोप्पो, देवमती देवी, रोकी बाड़ा व संध्या देवी हैं. रायडीह प्रखंड से मुखिया अनिता देवी, विनीका देवी, मुकेश खेरवार, अज्ञाती मिंज, मनोज एक्का, जीवंती टोप्पो, अनूप फ्रांसिस कुजूर, श्वेता उरांव, एडमोन इंदवार, चौठी देवी, रंजीत उरांव, कमला देवी व बिसु सोरेंग हैं. पालकोट प्रखंड से मुखिया सुषमा केरकेट्टा, भगवती देवी, संतोष टेटे, संगीता देवी, चंद्रकिशोर खड़िया, पूनम देवी, गौतम उरांव, पूनम उराइन, मायावती देवी, मनोनीत लकड़ा, इग्नेसिया लकड़ा, रीता देवी, जगेश्वर बड़ाइक व ज्योति लकड़ा हैं.
गुमला प्रखंड से मुखिया अरुणा एक्का, अनिता उरांव, रंजय उरांव, आशा उराइन, दिनेश उरांव, मोनिका नीलम तिर्की, महादेव उरांव, वीणा देवी, गौरी उरांव, मानकी देवी, अनिल कुजूर, पूनम देवी, सुखदेव उरांव, मालती बड़ाइक, बुधू टोप्पो, सरोज उरांव, बंधु उरांव, असमति देवी, पतराज टोप्पो, हीरा देवी, सुनील कुल्लू, फुलमनी बाड़ा, सुशीला सोरेंग, ललिता देवी व शांति इंदवार हैं. घाघरा प्रखंड से मुखिया जनक राज भगत, चांदनी देवी, राजीव उरांव, बिहनिया देवी, आदित्य भगत, बांदो उरांव, नारायण भगत, गीता देवी, विनोद उरांव, उमा भगत, घुड़ा उरांव, तेम्बो देवी, झरी उरांव, बिरसमुनी देवी, संजय उरांव, राजमुनी देवी, सोमरा उरांव व मंगलमुनी उरांव है. सिसई प्रखंड से मुखिया सुफल उरांव, सुधा देवी, अशोक कुमार भगत, पार्वती देवी, रेखा देवी, रेणुका देवी, फ्लोरेंस देवी, रंजीता कुमारी, रेणु कुमारी, सुगिया देवी, शंकुतला उरांव, सुनीता कुमारी, कृष्णा उरांव, हेमा देवी, चमरू उरांव, विनीता देवी, कार्तिक उरांव व जयंती देवी है. भरनो प्रखंड से मुखिया पंचु उरांव, पतिराम देवी, बुधराम उरांव, बसंती उरांव, मंजु देवी, सूरजमनी उरांव, मणी देवी, माधुरी देवी, चंद्रदेव उरांव, रश्मि लकड़ा, सूरज उरांव व इंद्रो देवी हैं.
बसिया प्रखंड से मुखिया चुमानी उरांव, सरिता उरांव, पंचू उरांव, रश्मि टेटे, सरोज आइंद, रामेश्वरी उरांव, बसंत गुड़िया, पुष्पा देवी, प्रद्धुमन सिंह, तेरेसा लकड़ा, आलोक टोप्पो, प्रसन्न कुजूर, जसिंता बागे, लीली ग्रेस सोरेंग व जीवन मसीह बारला हैं. कामडारा प्रखंड से मुखिया विमल केरकेट्टा, एस्थेर होरो, विजय टोपनो, रीता टोपनो, नूतन टोपनो, विश्वासी केरकेट्टा, सुनील सुरीन, रीलन सुरीन, चोड़या सिंह मुंडा व रोसालिया सोरेंग से स्पष्टीकरण मांगा गया है.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें