1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. dhanbad
  5. jharkhand news anger in santali society over conversion hookah water stopped for adopting christianity grj

Jharkhand News : धर्म परिवर्तन पर संताली समाज में गुस्सा, ईसाई धर्म अपनाने पर हुक्का पानी किया बंद

ग्रामीणों का कहना है कि यदि श्यामपद टुडू व सहदेव टुडू ने मंगलवार तक सरना धर्म नहीं अपनाया, तो उन्हें गांव से बाहर कर दिया जायेगा. मंगलवार को गांव में सोनोत संताल समाज की बैठक होगी. ईसाई धर्म अपनाने वाली महिलाओं ने कहा कि किसी भी कीमत पर सरना धर्म में वापस नहीं आयेंगे.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand News : धर्म परिवर्तन से संताली समाज नाराज
Jharkhand News : धर्म परिवर्तन से संताली समाज नाराज
प्रतीकात्मक तस्वीर

Jharkhand News, धनबाद न्यूज : झारखंड के धनबाद जिले के बलियापुर थाना क्षेत्र के सांवलापुर आदिवासी टोला में दो परिवारों के धर्म परिवर्तन को लेकर गुस्साये संताल समाज के लोगों ने सोमवार को दोनों परिवारों का हुक्का पानी बंद करा दिया. कुआं व चापाकल से पानी लेने की भी मनाही कर दी. इससे दोनों परिवारों को काफी परेशानी हुई. भारी दिक्कतों के बीच दोनों परिवारों ने सोमवार का दिन काटा.

इधर, इसकी सूचना पाकर थाना प्रभारी श्वेता कुमारी गांव पहुंचीं और मामले में हस्तक्षेप करते हुए दोनों पक्षों को थाना बुलाया. थाना में दोनों पक्षों से लिखित शिकायत करने को कहा गया. ग्रामीण रवीश्वर मरांडी, मांझी हाड़ाम अनिल टुड्डू, अविलाल किस्कू, जगरू बास्की, परमेश्वर सोरेन, मोनू टुडू समेत अन्य ग्रामीणों का कहना है कि यदि श्यामपद टुडू व सहदेव टुडू ने मंगलवार तक सरना धर्म नहीं अपनाया, तो उन्हें गांव से बाहर कर दिया जायेगा.

किसी भी कीमत पर उनलोगों को रहने नहीं दिया जायेगा. लोगों ने कहा कि मंगलवार को गांव में सोनोत संताल समाज की बैठक होगी. बैठक में इसाई धर्म अपनाने वाली शिवानी देवी व सावित्री देवी के मायके वालों को भी बुलाया जायेगा. इसके बावजूद समस्या का समाधान नहीं हुआ, तो उन्हें गांव से निकाला जायेगा.

ईसाई धर्म अपनाने वाली श्यामपद टुडू की पत्नी शिवानी देवी व सहदेव दुडू की पत्नी सावित्री देवी ने कहा कि किसी भी कीमत पर सरना धर्म में वापस नहीं आयेंगे. ग्रामीण बेवजह दबाव बना रहे हैं. हमलोगों का हुक्का पानी बंद कर दिया है. इससे परेशानी हो रही है.

आसनसोल ईसाई मिशनरी के फादर लुका मरांडी ने बताया कि दोनों परिवारों ने स्वेच्छा से ईसाई धर्म अपनाया है. उन्हें किसी प्रकार का लालच या लोभ नहीं दिया गया है.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें