1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. bhagalpur
  5. tnb topper student failed in ssc committing suicide in depression in bhagalpur bihar asj

टीएनबी की टॉपर रही छात्रा एसएससी में विफल, डिप्रेशन में आकर की खुदकुशी

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
शोकाकुल परिवार
शोकाकुल परिवार
प्रभात खबर

भागलपुर : बबरगंज थाना क्षेत्र के छोटी हसनगंज मोहल्ला स्थित मां तारा कॉलोनी निवासी रतन गुप्ता की 25 वर्षीय बेटी शालिनी कुमारी ने डिप्रेशन में आकर खुदकुशी कर ली. घटना की जानकारी सबसे पहले मृतका की मां को हुई जब वह सुबह पांच बजे जगने के बाद अपने बच्चों को उठाने के लिए गयी थी. बेटी का शव फंदे से लटका देखने के बाद सबसे पहले उन्होंने अपने रिश्तेदारों और पुलिस को इस बात की जानकारी दी. घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंची बबरगंज पुलिस ने शव को फंदे से उतारा और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

परीक्षा परिणाम से निराश थी

परिजनों के मुताबिक शालिनी टीएनबी कॉलेज में बीए इंग्लिश ऑनर्स की सेकेंड टॉपर रह चुकी थी और वह पढ़ने-लिखने में काफी तेज थी. मार्च माह में ही उसने बीपीएससी की तैयारी के लिए पटना के एक कोचिंग संस्थान में एडमिशन लिया था. उसने पहली बार एसएससी की परीक्षा दी थी. उसे पूरा यकीन था कि वह एसएससी की परीक्षा में सफलता प्राप्त करेगी. लेकिन, एसएससी परीक्षा के परिणामों में शालिनी को निराशा हाथ लगी और वह डिप्रेशन में चली गयी. डिप्रेशन में ही आकर उसने फंदे से लटककर खुदकुशी कर ली.

स्नोफेलिया की पेसेंट थी शालिनी

मृतका के सबसे छोटे भाई प्रिंस ने बताया कि दो बहनों व एक भाई में शालिनी सबसे बड़ी है और प्रेरणा उससे छोटी है. उसने बताया कि रात खाना खाने के बाद हर रोज की तरह वे लोग सोने चले गये. शालिनी व प्रेरणा सोने के लिए घर में बने हॉल में चली गयी, जहां आधी रात प्रेरणा को गर्मी लगी तो उसने कूलर चला लिया. वहीं शालिनी स्नोफेलिया की पेसेंट थी. इसकी वजह से उसे कूलर के हवा से तकलीफ होने लगी, तो वह आधी रात ही उठकर हॉल से ही जुड़े कमरे में सोने के लिए चली गयी. सुबह करीब पांच बजे जब उनकी मां देवी गुप्ता की नींद खुली, तो शालिनी को उठाने के लिए वह कमरे में गयी. उनकी मां ने देखा कि शालिनी का शव कमरे में पंखे में लगे स्टोल (छोटा डुपट्टा) से लटक रहा था.

पुलिस कर रही मामले की जांच

इस बात की जानकारी उन्होंने फौरन रिश्तेदारों को पुलिस को दी. पुलिस ने ही मौके पर पहुंच कर शव को फंदे से उतारा. प्रिंस ने बताया कि उनकी बहन पढ़ाई में काफी अच्छी थी. उसने लॉकडाउन से पूर्व एसएससी परीक्षा दी थी. परिजनों की लिखित शिकायत पर बबरगंज पुलिस ने यूडी केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है. बबरगंज थानाध्यक्ष एसआइ पवन कुमार सिंह ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर ही शालिनी के मौत के कारणों का पता चल पायेगा.

गुजरात के भुज में रहकर प्राइवेज जॉब करते हैं पिता

मृतका शालिनी के भाई प्रिंस ने बताया कि उनके पिता रतन गुप्ता गुजरात के भुज में रहकर वहां प्राइवेट जॉब करते हैं. कुछ साल पहले ही उन लोगों ने मां तारा कॉलोनी में घर बनाकर रहना शुरू किया था. मंगलवार सुबह शालिनी का शव फंदे से लटका देख उनकी मां ने सबसे पहले पिता को फोन लगाया. लेकिन, भुज में लगातार हो रही बारिश की वजह से वहां का नेटवर्क खराब है और इसकी वजह से फोन नहीं लगा. मंगलवार सुबह दस बजे उनके पिता का फोन आया, तो मां ने सारी घटना के बारे में पिता को बताया. इधर घटना की जानकारी पाकर पिता भी गुजरात से भागलपुर आ रहे हैं.

लिया था सिविल सर्विस की तैयारी के लिए कोचिंग में एडमिशन

परिजनों से मिली जानकारी के अनुसार पढ़ाई में अच्छी होने की वजह से शालिनी का मन था कि वह सिविल सर्विसेज में जाये. सिविल सर्विसेज की परीक्षा की तैयारी के लिए शालिनी ने लॉकडाउन से ठीक पहले पटना जाकर वहां सिविल सर्विसेज परीक्षा की तैयारी कराने वाले एक प्रतिष्ठित कोचिंग संस्थान में एडमिशन भी लिया था. कोचिंग में बताया गया था कि क्लासेज मार्च माह के अंतिम सप्ताह से शुरू होगा. पर उसके पहले ही लॉकडाउन लग गया. कोचिंग संस्थान को एडमिशन फीस सहित एडवांस फीस भी दे दिया गया था.

posted by ashish jha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें