Advertisement

siwan

  • Jul 17 2019 2:59AM
Advertisement

दुर्घटना के बाद लोगों का फूटा आक्रोश तीन घंटे तक जाम की सड़क, प्रदर्शन

 बसंतपुर  : स्टेट हाइवे 73 पर लहेजी मोड़  के समीप कार और बाइक की बाइक सवार दंपती की मौत के बाद मंगलवार की सुबह लगभग तीन बजे दोनों का शव पोस्टमार्टम से जैसे ही मोलनापुर पहुंचा की कोहराम मच गया. देखते ही देखते कई गांव के सैकड़ों लोग मृतकों के दरवाजे पर जुट गये. 

 
मृतकों के परिजनों के विलाप से माहौल गमगीन हो गया. मृतक बसंतपुर थाना क्षेत्र के मोलनापुर के देवेंद्र कुमार (31) व ज्योति कुमारी है. मृतक देवेंद्र कुमार डाक विभाग में रुकुन्दीपुर शाखा डाकघर में ग्रामीण डाक सेवक के पद पर तैनात थे.
 
 वहीं मृतका ज्योति कुमारी गृह रक्षा वाहिनी की महिला सिपाही थी. घटना के बारे में बताया गया सोमवार की देर शाम ज्योति कुमारी का दरौंदा में अल्ट्रासाउंड कराकर बाइक से घर लौट रहे थे. जैसे ही उनकी बाइक स्टेट हाइवे 73 पर लहेजी मोड़ से आगे बढ़ी की सामने से आ रही तेज रफ्तार की कार ने दूसरे वाहन से साइड लेने के दौरान बाइक में जोरदार टक्कर मार दी. 
 
 सूचना मिलते ही बसंतपुर थानाध्यक्ष रणधीर कुमार, एसआइ अखिलेश सिंह, राजकुमार झा दलबल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे व जांच में जुट गये. घटना को लेकर ग्रामीण आक्रोशित हो गये व स्टेट हाइवे 73 को घटनास्थल के पास जाम कर दिया. 
 
उसके बाद घटनास्थल पर पहुंचे बीडीओ म. आशिफ, सीओ मालती कुमारी व थानाध्यक्ष ने हर संभव सरकारी सहायता दिलाने के आश्वासन पर ग्रामीण शांत हुए. तब लगभग तीन घंटे के बाद यातायात सामान्य हुआ. उसके बाद पुलिस ने शव को सीवान पोस्टमार्टम में भेज दिया. 
 
20-22 दिन बाद होनी थी डिलीवरी
दरौंदा थाना क्षेत्र के उजांय गांव निवासी चंदन  कुमार साह की पुत्री ज्योति कुमारी साह व दमाद देवेंद्र कुमार साह बाइक से  बंसतपुर थाना क्षेत्र के मोल्लापुर जा रहे थे. चंदन कुमार साह की बेटी ज्योति कुमारी की शादी 31 अप्रैल  2012 में बंसतपुर थाना क्षेत्र के मोल्लापुर निवासी कामदेव प्रसाद के पुत्र  देवेंद्र कुमार साह के साथ हुई थी. ज्योति का एक पांच वर्षीय पुत्र अनुराग  कुमार हैं व ज्योति दूसरे बच्चे का जन्म अगले माह देने वाली थी. 
 
मौत पर मोलनापुर पहुंचे डाक निरीक्षक
पूर्वी अनुमंडल महाराजगंज के डाक निरीक्षक अरविंद कुमार रमण सूचना पाकर मंगलवार को मृतक डाककर्मी देवेंद्र कुमार के घर मोलनापुर पहुंचे व उसकी अंतिम यात्रा में शामिल हुए. उन्होंने डाक विभाग द्वारा अपने कर्मी की मौत पर दी जाने वाली आठ हजार रुपये दाह-संस्कार की राशि परिजनों को सौंपा व सांत्वना देते हुए हर संभव मदद करने की बात कही. साथ ही उन्होंने कहा की मृतक डाककर्मी के बेटे की उम्र 18 वर्ष होने के बाद अनुकंपा पर डाक विभाग नौकरी देगा.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement