Advertisement

saran

  • Dec 21 2017 4:40AM

पहली बार बिजली से जगमग होंगे 20 गांव

 खुशखबरी . दिघवारा व सोनपुर प्रखंडों के दियारा क्षेत्रों के 20 गांवों के विद्युतीकरण का कार्य पूरा 

दिघवारा : दियारा क्षेत्र का नाम जेहन में आते ही असुविधाओं को झेलने वाला इलाका मानस पटल पर छाने लगता है. दियारा मतलब अमूमन लोग समझते हैं कि एक ऐसा इलाका जो बिजली व विकास से कोसों दूर होता है. मगर अब आप अपनी सोच बदलिए क्योंकि दियारा क्षेत्रों में पहले विकास की रोशनी पहुंची और अब बिजली की रोशनी से भी दियारा रोशन होगा.
 
सारण जिले के दिघवारा व सोनपुर प्रखंड के दियारा क्षेत्रों में अवस्थित लगभग 20 गांवों में रहने वाली लगभग 20 हजार की आबादी को इसी महीने बिजली रूपी सौगात में मिलेगी. ढिबरी युग में कई दशकों से जीने को विवश हजारों दियारावासियों तक अब बिजली के सहारे विकास की रोशनी पहुंचेगी और वे लोग भी विकास की मुख्यधारा में शामिल होते हुए डिजिटल इंडिया की दौर में शामिल हो सकेंगे. बिजली आने से न केवल गांवों का अंधियारा दूर होगा. बल्कि दियारावासी अपने जीवन में पहली बार अपने गांवों में सरकारी बिजली का दर्शन कर सकेंगे. इन क्षेत्रों के लोगों के लिए विकास के नये दरवाजे खुलेंगे. बच्चों की पढ़ाई से लेकर खेतों की सिंचाई होने से जीवन में खुशहाली आयेगी. विद्युत संचालित उपकरणों का उपयोग बढ़ेगा और लोगों का जीवन सरल होगा और जीवन स्तर ऊपर उठेगा. बताते चले कि लोकसभा चुनाव के वक्त स्थानीय सांसद राजीव प्रताप रूडी ने दियारा क्षेत्र में बिजली पहुंचाने का वादा किया था. चुनाव के बाद सांसद ने पहल कर केंद्रीय ऊर्जा मंत्री से विद्युतीकरण का शिलान्यास करवाया था.  
 
27 दिसंबर को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार करेंगे उद्घाटन
 
दिघवारा व सोनपुर प्रखंडों के दियारा क्षेत्रों के लगभग 20 गांवों में आगामी 24 दिसंबर को पहली बार बिजली जलेगी, इससे लिए बिजली विभाग युद्धस्तर पर कार्य कर रहा है. मिशन 255 के तहत राज्य सरकार का ऊर्जा विभाग आगामी 27 दिसंबर को प्रदेश के सारण समेत कुल नौ जिलों के 255 गांवों तक बिजली पहुंचा देगा और उसी दिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सचिवालय स्थित संवाद कक्ष से बिहार के संपूर्ण गांवों के विद्युतीकृत होने का एलान करेंगे. इसी के साथ सारण जिले के दिघवारा व सोनपुर प्रखंडों के दियारा क्षेत्रों के भी लगभग 20 गांव भी पहली बार बिजली से रोशन होंगे. ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने 24 दिसंबर तक इन गांवों में बिजली पहुंचाने व उसकी सप्लाई शुरू कर देने का टास्क दिया है. जिसमें पूरा विभाग जुटा है और 24 दिसंबर को ही बिजली की सप्लाई शुरू हो जाने की संभावना है.
16 अगस्त, 2015 को हुई थी प्रोजेक्ट की शुरुआत 
 
पटना में आयोजित एक कार्यक्रम में तात्कालिक केंद्रीय ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने सारण सांसद राजीव प्रताप रूडी व केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव की उपस्थिति में इस पायलट प्रोजेक्ट की शुरुआत की थी. इसके तहत दियारा क्षेत्रों में अवस्थित सारण के 28 व पटना के 26 गांवों में बिजली पहुंचाने की घोषणा की गयी थी. उसके बाद दियारा में मिशन बिजली में विद्युत विभाग जुट गया और 2017 की समाप्ति तक इन गांवों में बिजली की सप्लाई शुरू हो जायेगी और लोग पहली बार अच्छे दिन के आने का अनुभव कर सकेंगे.
मार्च में शुरू होगा दियारे का सबस्टेशन
दियारा के इन गांवों में पंडित दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना के तहत बिजली पहुंचाने का लक्ष्य है. इसके लिए दिघवारा के अकिलपुर के रामदासचक व दानापुर के रमसापुर में 33/11 केवी क्षमता के दो विद्युत सबस्टेशन बनाये जा रहे हैं जिसका निर्माण विंध्य टेली लिंक कंपनी कर रही है.                                              कंपनी द्वारा युद्धस्तर पर दो सबस्टेशन बनाये जा रहे हैं जिसका निर्माण कार्य मार्च 2018 तक पूरा हो जाने की संभावना है. अभी दियारा क्षेत्रों में वैकल्पिक इंतजाम कर बिजली की सप्लाई होगी.
शीतलपुर सबस्टेशन से दियारे में होगी बिजली की सप्लाई 
 
जब तक दियारा में सबस्टेशन का निर्माण कार्य पूरा नहीं हो जाता है तब तक शीतलपुर सबस्टेशन से बिजली की वैकल्पिक सप्लाई दियारा क्षेत्रों तक होगी. इसके लिए शीतलपुर सबस्टेशन में 10 एमवीए क्षमता का एक मेगा पावर ट्रांसफॉर्मर लगाया गया है. सबस्टेशन से बस्तीजलाल, निजामचक, राजापुर, बरियारचक के रास्ते गंगा में बने टॉवरों के सहारे अभी 11 हजार क्षमता के बिजली को गंगा पार कराया जायेगा और इसी बिजली से दियारा का इलाका रोशन होगा. बाद में फिर इसी टॉवरों से 33 हजार क्षमता का बिजली तार सबस्टेशनों तक पहुंचेगा.
 
सोनपुर प्रखंड के भी दर्जनों गांवों में भी लेजर कंपनी कार्यों को अंतिम रूप दे रही है. प्रखंड के बनवारीचक, बरियारचक, गडिपट्टी, मिर्जापुर, मुहम्मदपुर, रसूलपुर सलेहपुर, छितरचक, सिंघिमपुर आदि दियारा क्षेत्र के गांवों में भी पोल, तार व ट्रांसफॉर्मर लगाने का काम पूरा हो गया है. लगभग 14 किलोमीटर तक 11 हजार व 16 किलोमीटर तक एलटी तार बिछाया गया है. कंपनी द्वारा 63 केवीए क्षमता के 20 ट्रांसफॉर्मर लगाया गया है. इसके सहारे हर घर तक बिजली पहुंचाई जायेगी. दियारा क्षेत्रों में बिजली को पार करने में विभाग को कई परेशानियों का सामना करना पड़ा. कभी बाढ़ ने काम की रफ्तार को कम किया तो कभी बिजली को रेलवे लाइन को पार कराने में परेशानी झेलनी पड़ी. कभी दियारा में सबस्टेशन के लिए चयनित भूमि को लेने के लिए विभाग को जन आक्रोश को झेलना पड़ा तो बिजली को गंगा नदी पार कराने के लिए बरियारचक के पास तीन बड़े टॉवर बनवाने में वक्त लगा. अंततः बिजली दियारा पहुंच ही गयी. 27 दिसंबर से जब दियारा क्षेत्रों में बिजली की निरंतर सप्लाई शुरू होगी तो बिहार अपने राज्य के हर गांवों को विद्युतीकृत करने का गौरव प्राप्त करेगा तो दिघवारा व सोनपुर प्रखंडों का दियारा का इलाका भी पहली बार सरकारी बिजली से रोशन होगा.  
 
अकिलपुर पंचायत के आठ गांवों में लग चुका है पोल
 
दिघवारा प्रखंड अधीन अकिलपुर ही एक ऐसा पंचायत है जो दियारा में अवस्थित है. इस योजना के तहत इसी पंचायत के आठ गांवों में बिजली पहुंचेगी.पंचायत के अकिलपुर, सलहली, रामदासचक, बभनगामा,बाकरपुर, बतरौली,
 
  पकौलिया व दूधिया गांवों में लेजर पॉवर एक्स्ट्रा कंपनी द्वारा 16 किलोमीटर तक 11 हजार क्षमता का तार व 20 किलोमीटर तक एलटी तार लगाया गया है. पूरे पंचायत में हर मुहल्ले में बिजली का पोल लगाने के साथ साथ 63 केवीए क्षमता के लगभग 24 ट्रांसफॉर्मरों को लगा दिया गया है जिसके सहारे बिजली की             आपूर्ति की जायेगी.
 
Advertisement

Comments

Advertisement