26.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

Home Remedies For Constipation: कब्ज की समस्या से परेशान हैं, तो आजमाएं ये घरेलू उपाय

कब्ज पेट से जुड़ी एक गंभीर समस्या है, जिससे ज्यादातर लोग परेशान रहते हैं. कब्ज होने पर हमारे पेट में दर्द, सूजन, ऐंठन और अन्य परेशानियां भी हो सकती हैं.

Home Remedies For Constipation: कब्ज पेट से जुड़ी एक गंभीर समस्या है, जिससे ज्यादातर लोग परेशान रहते हैं. कब्ज होने पर हमारे पेट में दर्द, सूजन, ऐंठन और अन्य परेशानियां भी हो सकती हैं. दरअसल, कब्ज की स्थिति तब बनती है, जब मल त्यागने में परेशानी होती है या फिर पेट ठीक तरह से साफ नहीं हो पाता है. वैसे कब्ज की कई वजहें हो सकती हैं, जिनमें मुख्य रूप से सही डायट नहीं लेना, टाइम पर खाना नहीं खाना, व्यायाम या किसी तरह की फिजिकल एक्टिविटी नहीं करना, पर्याप्त नींद नहीं लेना और तनाव शामिल है. हालांकि, यह बहुत ही सामान्य बीमारी है, लेकिन इसे नजरअंदाज करने पर स्वास्थ्य संबंधी दूसरी समस्याएं हो सकती हैं. इसलिए कब्ज से छुटकारा पाने के लिए आप कोई भी तरीका अपना सकते हैं. चाहे दवाएं हों या घरेलू उपचार, स्वास्थ्य पर पड़ने वाले नकारात्मक प्रभावों से लड़ने के प्रयास किये जाने चाहिए. जानिए कब्ज की समस्या से निपटने के लिए कुछ असरदार घरेलू उपचारों के बारे में…

फाइबर युक्त चीजों का सेवन करें

पाचन तंत्र को ठीक रखने में फाइबर अहम भूमिका निभाता है. क्योंकि, इसमें रेशेदार तत्व होते हैं, जो पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने में मदद करते हैं. इससे भोजन आसानी से डाइजेस्ट और पेट भी साफ रहता है. फाइबर से भरपूर डायट कब्ज को कम करने और समग्र पाचन स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है. वैसे फाइबर दो प्रकार के होते हैं: घुलनशील व अघुलनशील. घुलनशील फाइबर पानी को अवशोषित करता है और एक जेल जैसा पदार्थ बनाता है, जबकि अघुलनशील फाइबर मल में रेशे की मात्रा को बढ़ाता है और आंतों के माध्यम से मल के मार्ग को क्लियर करता है. इसलिए अपनी डायट में जई, जौ, फलियां (बीन्स, दाल), फल (सेब, संतरे, जामुन), सब्जियां (गाजर, ब्रोकोली, ब्रसेल्स स्प्राउट्स), साबुत अनाज (साबुत गेहूं, ब्राउन चावल), मेवे, बीज और फलों के छिलके शामिल करें. धीरे-धीरे फाइबर का सेवन बढ़ाने और तरल पदार्थों का पर्याप्त सेवन करने से कब्ज से जुड़ी असुविधा या सूजन को रोकने में मदद मिल सकती है.

खूब पानी पिएं

शरीर को हाइड्रेटेड रखने और अच्छी तरह से मल त्यागने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन बहुत जरूरी है. शरीर में मौजूद पानी मल को नरम कर देता है, जिससे पाचन तंत्र से गुजरना आसान हो जाता है. शरीर को हाइड्रेटेड रखने में पानी के अलावा अन्य हाइड्रेटिंग पेय पदार्थ जैसे हर्बल टी, क्लियर सूप और प्राकृतिक फलों के रस काफी मदद कर सकते हैं. यदि आप गर्म जलवायु में रहते हैं या शारीरिक गतिविधि में संलग्न हैं, तो प्रतिदिन कम से कम आठ गिलास (64 औंस) पानी अवश्य पिएं.

नियमित व्यायाम करें

शारीरिक गतिविधियां पाचन तंत्र की मांसपेशियों को उत्तेजित करती हैं और मल त्याग को बढ़ावा देती हैं. इससे कब्ज से निजात मिलती है. व्यायाम आंतों की गतिशीलता को बढ़ाता है, जिससे मल को बड़ी आंत के माध्यम से अच्छी तरह से स्थानांतरित करने में मदद मिलती है. यहां तक ​​कि मीडियम लेवल वाली गतिविधियां जैसे पैदल चलना, साइकिल चलाना, तैराकी या योग भी कब्ज से राहत दिलाने में फायदेमंद साबित हो सकती हैं. सप्ताह में कम से कम 30 मिनट तक
हल्की-फुल्की एक्सरसाइज जरूर करें.

नेचुरल लैक्सटिव का इस्तेमाल करें

कुछ खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों में नेचुरल लैक्सटिव गुण होते हैं, जो कब्ज को कम करने में मदद कर सकते हैं. जैसे एलोवेरा जूस, एप्सम सॉल्ट आदि. हालांकि, इस बात का ख्याल रखें कि इन लैक्सटिव का अधिक मात्रा में सेवन न करें. इसके डोज पर ध्यान दें और अगर इनका सेवन करने के बाद आपको अच्छा महसूस न हो, तो हमेशा डॉक्टर से सलाह लें.

आराम दिलाने वाले तकनीकों की प्रैक्टिस करें

तनाव और चिंता आंतों की मूवमेंट और वर्क को काफी प्रभावित करते हैं, जिससे कब्ज जैसी पाचन संबंधी दिक्कतें बढ़ सकती हैं. गहरी सांस लेने, ध्यान या योग जैसी आराम पहुंचाने वाले तकनीकों के नियमित अभ्यास से तनाव के स्तर को कम करने और आराम को बढ़ावा देने में मदद मिलती है, जिससे पाचन की सेहत ठीक रहती है.

​हर्बल उपचार आजमाएं

कब्ज से राहत पाने और आंतों को दुरुस्त रखने के लिए पारंपरिक रूप से कई हर्बल उपचारों का उपयोग किया जाता रहा है। ये जड़ी-बूटियां आंतों की गतिशीलता को उत्तेजित करने, मल को नरम करने या पाचन तंत्र को चिकना करने का काम करती हैं. उदाहरण के लिए, साइलियम भूसी एक घुलनशील फाइबर है जो प्लांटैगो ओवाटा पौधे के बीजों से प्राप्त होता है. यह पाचन तंत्र में पानी को अवशोषित करता है, एक जेल जैसा पदार्थ बनाता है, जो मल को नरम करता है और मल त्याग को बढ़ावा देता है. साइलियम भूसी पाउडर या कैप्सूल के रूप में उपलब्ध है और आसानी से सेवन के लिए इसे पानी या जूस के साथ मिलाया जा सकता है.

Also Read :Health Tip: अगर आप आइबीएस की समस्या से हैं परेशान, तो इन चीजों को खाने से करें परहेज

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें