1. home Hindi News
  2. health
  3. smokers who scores higher in mathematics were more likely than others to quit smoking

इस विषय की बेहतर जानकारी रखने वाले लोग आसानी से छोड़ सकते हैं स्मोकिंग

By Shaurya Punj
Updated Date

स्मोकिंग या धूम्रपान कर रहे काफी लोग उसे छोड़ना चाहते हैं, कई तरह की दवाईयां या एंटी टोबैको च्यूइंग गम जैसी चीजों का इस्तेमाल करते हैं. पर अगर आप सच में स्मोकिंग छोड़ने का विचार कर रहे हैं, तो आपके लिए एक अच्छी खबर है. एक रिपोर्ट के अनुसार अगर आपका प्रदर्शन गणित विषय में अच्छा है तो आपको स्मोकिंग छोड़ने में ज्यादा परेशानियों का सामना नहीं करना होगा.

शोधकर्ताओं ने पाया कि धूम्रपान करने वालों ने गणित की क्षमता के परीक्षण में अधिक अंक हासिल किए, यह कहना दूसरों की तुलना में अधिक था कि वे धूम्रपान छोड़ने का इरादा रखते थे. अध्ययन को हाल ही में स्वास्थ्य मनोविज्ञान पत्रिका में ऑनलाइन प्रकाशित किया गया था.

कारण: उनके पास धूम्रपान जोखिम से संबंधित संख्याओं के लिए एक बेहतर स्मृति थी, जिसके कारण धूम्रपान से अधिक जोखिम और फिर छोड़ने का एक बड़ा इरादा था.

ओहियो यूनिवर्सिटी यूनिवर्सिटी में मनोविज्ञान में अध्ययन और अनुसंधान सहायक प्रोफेसर के प्रमुख लेखक, ब्रिटनी शूट्स-रेइनहार्ड ने कहा कि बेहतर गणित कौशल रखने वाले लोगों ने धूम्रपान के जोखिमों के बारे में अधिक याद किया जो हमने उन्हें दिया था, और इससे फर्क पड़ा. इसके अलावा इन परिणामों से यह समझाने में मदद मिल सकती है कि क्यों कई अध्ययनों से पता चलता है कि धूम्रपान करने वाले जो अधिक शिक्षित हैं, उनके सफलतापूर्वक छोड़ने की अधिक संभावना है.

सिगरेट के हर कश में कई जहरीले पदार्थ होते हैं, और जब कोई धूम्रपान करता है तो उसके शरीर को इन पदार्थों के कारण हो रही हानि को रिपेयर करना पड़ता है. यदि व्यक्ति कुछ देर धूम्रपान न करे तो उसके शरीर को इस रिपेयर के लिए कुछ ज्यादा टाइम मिल पाता है. कुछ घंटे, कुछ दिन, कुछ हफ्ते, जितना भी टाइम व्यक्ति धूम्रपान से दूर रह पाता है, उतना ही अच्छा होता है.

धूम्रपान बंद करने के बाद शुरुआत में होते है कुछ ऐसे बदलाव

शुरू शुरू में तो धूम्रपान करने पर व्यक्ति का अनुभव सुखद होता है, पर समय के साथ साथ तंबाकू सेवन के कारण व्यक्ति शारीरिक और मानसिक रूप से निकोटीन पर निर्भर (आधीन, dependent) हो जाता है. धूम्रपान बंद करने पर शारीरिक और मानसिक लक्षण ( withdrawal symptoms) होते हैं. ये लक्षण हर व्यक्ति में अलग अलग होते हैं, आम तौर पर देखे जाने वाले लक्षण हैं: नींद आने में दिक्कत, चिडचिडापन, थकान, बेचैनी, मूड अजीब होना, अवसाद, सोचने में और काम करने में ध्यान न लग पाना (एकाग्रता में दिक्कत), भूख कम या ज्यादा लगना, चक्कर आना, वजन बढ़ना, वगैरह. छोड़ने के बाद पहले दो-तीन हफ्ते ये लक्षण खास तौर से तीव्र होते हैं जिससे छोड़ने के इरादे पर कायम रहना मुश्किल हो जाता है. इन लक्षणों से जूझने पर कॉउन्सिलर और डॉक्टर से सलाह मिल सकती है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें