1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. calcutta
  5. trinamool congress counter attacks amit shah says look at uttar pradesh before commenting on law and order in bengal mtj

अमित शाह पर तृणमूल का पलटवार, बंगाल में कानून-व्यवस्था पर टिप्पणी करने से पहले उत्तर प्रदेश की ओर देखिए

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
अमित शाह पर तृणमूल का पलटवार, बंगाल में कानून-व्यवस्था पर टिप्पणी करने से पहले उत्तर प्रदेश की ओर देखिए.
अमित शाह पर तृणमूल का पलटवार, बंगाल में कानून-व्यवस्था पर टिप्पणी करने से पहले उत्तर प्रदेश की ओर देखिए.
Prabhat Khabar

कोलकाता : तृणमूल कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल में कानून-व्यवस्था पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की टिप्पणियों को लेकर पलटवार किया है. तृणमूल कांग्रेस ने गृह मंत्री से कहा है कि उन्हें पहले भाजपा शासित उत्तर प्रदेश को देखना चाहिए, जहां कानून का शासन ‘समाप्त हो गया’ है.

तृणमूल कांग्रेस नेतृत्व ने पश्चिम बंगाल में विपक्षी दल के कार्यकर्ताओं की हत्या के संबंध में शाह के बयान पर कहा, ‘राजनीतिक हत्याएं ऐसा विषय है, जिसके बारे में वह अच्छे से जानते हैं.’ ये बातें तृणमूल के प्रवक्ता डेरेक ओ ब्रायन ने कहीं.

उन्होंने कहा, ‘पहली बात यह है कि अमित शाह जी के स्वास्थ्य को लेकर कई प्रकार की अटकलें लग रही हैं. हम उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हैं. जहां तक राजनीतिक हत्याओं पर उनके विचारों की बात है, तो मृतक संख्या बढ़ाने के लिए भाजपा अब टीबी या कैंसर से हुई मौत को भी ‘राजनीतिक हत्या’ बताने की कोशिश कर रही है.’

ओ ब्रायन ने कहा, ‘वह पहले अपनी बंगाल इकाई में बड़े टकराव से क्यों नहीं निबटते? उन्हें यह समझने के लिए माकपा के शासन में बंगाल के इतिहास का अध्ययन करना चाहिए कि राज्य कितना आगे आ गया है.’ उन्होंने कहा कि तृणमूल शांति एवं सद्भावना में भरोसा करती है.

उन्होंने कहा, ‘अमित शाह जी को अपना ध्यान उत्तर प्रदेश और गुजरात पर केंद्रित करना चाहिए. आखिरकार, ‘राजनीतिक हत्याएं’ ऐसा विषय है, जिसके बारे में अमित शाह जी अधिक जानते हैं.’ तृणमूल के वरिष्ठ नेता सौगत रॉय ने भी कहा, ‘उन्हें (शाह को) राज्य के जमीनी हालात की जानकारी नहीं है. उत्तर प्रदेश में कानून का शासन नहीं है, लेकिन वह उसके बारे में कुछ नहीं कहते.’

उल्लेखनीय है कि अमित शाह ने एक निजी समाचार चैनल को दिये साक्षात्कार में कहा कि पश्चिम बंगाल में कानून-व्यवस्था की स्थिति गंभीर है और भाजपा जैसे राजनीतिक दलों को वहां राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग करने का हर अधिकार है.

श्री शाह ने कहा, ‘हालांकि केंद्र सरकार संविधान को ध्यान में रखते हुए और राज्यपाल की रिपोर्ट के आधार पर उचित निर्णय लेगी.’ उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में ‘विपक्षी दलों के कार्यकर्ताओं को झूठे मामलों में फंसाकर उनकी हत्या किये जाने’ की बात चिंताजनक है.

Posted By : Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें