1. home Home
  2. state
  3. up
  4. gorakhpur
  5. cds bipin rawat helicopter crash group captain varun singh injured admitted in hospital acy

CDS Bipin Rawat Helicopter Crash: ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह कौन हैं, जो हादसे में एकमात्र जीवित बचे हैं?

तमिलनाडु के कुन्नूर में क्रैश हुए हेलिकॉप्टर में सीडीएस विपिन रावत और उनकी पत्नी सहित 13 लोगों की मौत हो गई. ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह हादसे में एकमात्र जीवित बचे हैं. फिलहाल वे घायल हैं और उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया गया है.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Gorakhpur
Updated Date
ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह
ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह
सोशल मीडिया

CDS Bipin Rawat Death: तमिलनाडु के कुन्नूर के समीप भारतीय वायुसेना का एमआई17 वी5 हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया, इस दुर्घटना में सीडीएस बिपिन रावत और उनकी पत्नी सहित हेलिकॉप्टर पर सवार 13 लोगों की मौत हो गयी है. हेलिकॉप्टर में सीडीएस बिपिन रावत, उनकी पत्नी और कुल 14 लोग सवार थे. यह जानकारी वायुसेना ने ट्‌वीट कर दी है. हादसे में ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह बुरी तरह से घायल हुए हैं और अभी उनका इलाज चल रहा है.

ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह (40) देवरिया जिले के रुद्रपुर कोतवाली क्षेत्र के कन्हौली गांव के रहने वाले हैं. हेलिकॉप्टर में सीडीएस बिपिन रावत के साथ वह भी सवार थे. वह हादसे में एकमात्र जीवित बचे हैं.

तमिलनाडु के वेलिंग्टन में है तैनाती

ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह की वर्तमान में तैनाती तमिलनाडु के वेलिंग्टन में है. उनके साथ उनकी पत्नी और एक बेटा और बेटी भी रहते हैं. वरुण सिंह के पिता केपी सिंह सेना से रिटायर्ड कर्नल हैं. उनका घर मध्य प्रदेश के भोपाल में भी है. वहीं पर वह पत्नी के साथ रहते हैं. वरुण सिंह के भाई तनुज सिंह की बात करें तो वह नेवी में हैं.

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता व रुद्रपुर से विधायक रह चुके वरुण सिंह के चाचा अखिलेश प्रताप सिंह ने बताया कि हादसे में वरुण के गंभीर रूप से घायल होने की सूचना मिली है. सेना ने घटना की जानकारी परिवार को दी है. हादसे के बाद से वरुण की पत्नी उनके साथ अस्पताल में है. परिवार के अन्य लोग भी वहां पहुंच रहे हैं.

गौरतलब है कि तमिलनाडु के कुन्नूर में हुए हेलीकॉप्टर हादसे में सीडीएस विपिन रावत के साथ आगरा जिले का एक लाल भी शहीद हो गया. पृथ्वी सिंह चौहान भी उसी हेलीकॉप्टर में पायलट के तौर पर मौजूद थे. पृथ्वी अपनी कार्यकुशलता में परिपक्व थे. उनके कार्य से वायुसेना भी काफी प्रभावित थी.

पृथ्वी ने वायुसेना की सूडान में विशेष ट्रेनिंग ली थी. दुर्घटना की सूचना मिलते ही उनके घर पर शोक की लहर दौड़ गई. साथ ही तमाम रिश्तेदार व पास पड़ोसियों का उनके घर पर जमावड़ा लग गया. हालांकि अभी तक उनके निधन की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन उनके परिजनों ने इस घटना की जानकारी दी है.

Posted By: Achyut Kumar

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें