ममता दीदी सत्ता के नशे में चूर होकर लोकतंत्र विरोधी मानसिकता के साथ काम कर रहीं : नरेंद्र मोदी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

मऊ (उत्तर प्रदेश) :प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के मऊ में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि बंगाल की मुख्यमंत्री ममता दीदी सत्ता के नशे में चूर हैं और लोकतंत्र विरोधी मानसिकता के साथ काम कर रही हैं. दीदी का रवैया तो मैं बहुत दिनों से देख रहा हूं, अब इसे पूरा देश भी देख रहा है. पीएम मोदी ने कहा कि टीएमसी के गुंडों की दादागीरी परसों रात अमित शाह की रैली में देखने को मिली है. परसों कोलकाता में भाई अमित शाह के रोड शो के दौरान इन गुंडों ने ईश्वर चंद विद्यासागर की मूर्ति को तोड़ दिया. ऐसा करने वालों को कठोर से कठोर सज़ा दी जानी चाहिए.

पीएम मोदी ने कहा कि कुछ महीनों पहले मिदनापुर में मेरी सभा में टीएमसी के गुंडों ने अराजकता फैलायी थी जिसके कारण मुझे अपना संबोधन छोड़कर हटना पड़ा था.पीएम मोदी ने कहा कि जिस तरह ममता दीदी वहां पर यूपी-बिहार और पूर्वांचल के लोगों पर निशाना साध रही हैं, मुझे लगा बहन मायावती इस पर ममता दीदी को जरूर खरी-खोटी सुनाएंगी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं. सपा-बसपा ने यहां से ऐसे उम्मीदवार को टिकट दिया है जो बलात्कार के आरोप में भगोड़ा है. समाजवादी पार्टी का इतिहास तो लोग जानते हैं, लेकिन बहन मायावती ने ऐसे उम्मीदवार को क्यों सलेक्ट किया यह मैं सोच रहा हूं.


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि मऊ की जनता अच्छे से जानती है कि देश को कौन मजबूत सरकार दे सकता है और कौन आतंकियों के घर में घुसकर मार सकता है. इसलिए जनता एक मजबूत सरकार बनाने वाले को वोट देगी. हालांकि विपक्ष यह चाहता है कि देश में कमजोर सरकार बने, खिचड़ी सरकार बने.

पीएम मोदी ने सपा-बसपा पर हमला बोलते हुए कहा कि वे लोग जाति आधारित राजनीति सिर्फ सत्ता के लिए कर रहे हैं. इन्होंने मोदी का विरोध सिर्फ अपना भ्रष्टाचार छुपाने के लिए किया है. मेरे विरोधियों की गालियां बढ़ती जा रही हैं, लेकिन मुझे उसकी परवाह नहीं है. मैं गरीबों के लिए काम करना बंद नहीं करूंगा.वो महामिलावटी जो महीनेभर पहले तक मोदी हटाओ का राग अलाप रहे थे, वो आज बौखलाए हुए हैं.

उनकी पराजय पर देश ने मुहर लगा दी है. उत्तर प्रदेश ने तो इनका सारा गुणा गणित ही बिगाड़ दिया है. देश में भाजपा की सरकार बनना तय है.बुआ और बबुआ गरीबों से दूर हैं, जबकि मोदी की सरकार गरीबों का हित चाहती है. इन्होंने अपने बंगले बनाये और गरीबों से दूर होते गये हैं.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें