सिमडेगा : लचरागढ़ में 20 दिनों से जलापूर्ति ठप, लोग परेशान

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

सिमडेगा : कोलेबिरा प्रखंड के लचरागढ़ में विगत बीस दिन से पेयजल जलापूर्ति ठप है. लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. लोग पेयजल के लिए इधर-उधर भटक रहे हैं. मालूम हो कि लचरागढ़ में जल मीनार से पेयजल की आपूर्ति की जाती है, लेकिन बीस दिन पूर्व से ही मोटर जल जाने से पेयजल आपूर्ति ठप है.

लचरागढ़ में लगभग 200 से अधिक पेयजल कनेक्शन धारी हैं. पानी सप्लाई नहीं होने से लोगों की परेशानी बढ़ गयी है. ग्रामीण दूरदराज से पानी ला रहे हैं. ग्रामीणों ने बताया कि मोटर जल जाने की जानकारी संबंधित विभाग के पदाधिकारी को दिया गया है, लेकिन इस पर अब तक कोई पहल नहीं किया गया.

वहीं कुआं में मिट्टी भर जाने से पानी का स्रोत कम होते जा रहा है. जिससे पानी सप्लाई अक्सर प्राभावित हो जाता है. ग्रामीणों ने बताया कि पंचायत के मुखिया और विभाग के पदाधिकारियों को कई बार पेयजल आपूर्ति करने की मांग की गयी किंतू अब तक कोई पहल नहीं किया गया.

इससे लोगों में रोष है. मुखिया जेराल्ड एक्का ने बताया कि मोटर जल जाने और लचरागढ़ में पेयजल आपूर्ति ठप होने की जानकारी पीएचडी विभाग को दिया गया है. जल मीनार चलाने की व्यवस्था पेयजल विभाग ने पंचायत को नहीं सौंपा है. पेयजल कनेक्शन धारियों द्वारा लगातार पेयजल कर नहीं देने कारण पेयजल आपूर्ति सुचारू रूप से करने में असुविधा हो रही है.

गांव के मनोज सेठिया ने कहा कि पानी सप्लाई नहीं होने से काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. कई बार संबंधित विभाग के लोगों से कहा गया, लेकिन पानी सप्लाई शुरू नहीं किया गया. मनोज साहू ने कहा पानी सप्लाई नहीं होने से सबसे ज्यादा परेशानी पाहन टोली मोहल्ले में हो रही है.

उन्होंने बताया कि टोली में चापाकल की संख्या कम है. सभी लोग पानी सप्लाई के भरोसे रहते हैं. पानी सप्लाई नहीं होने से लोगों को पानी के लिए दूर-दूर से जुगाड़ करके लाना पड़ रहा है. जया देवी व ममता देवी ने बताया कि पानी सप्लाई होने से सुबह-सुबह सप्लाई पानी मिल जाता था.

बीस दिन से पानी सप्लाई बंद होने से इंद टांड से पानी लाने जाना पड़ता है. गांव के एस ठाकुर, गौतम पाणीग्राही, बिहारी पंडा, राजू सिंह व संतोष बड़ाईक सहित अन्य ग्रामीणों ने जल पेयजल आपूर्ति सुचारू रूप से सप्लाई करने की मांग की है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें