1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. saraikela kharsawan
  5. 4 tourist places including kharsawan shaheed park got a grade tourist place status in the district sam

खरसावां का शहीद पार्क समेत 4 पर्यटन स्थल को मिला जिला में ए- ग्रेड टूरिस्ट प्लेस का दर्जा

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news : जिला में ए- ग्रेड पर्यटन स्थल की श्रेणी में खरसावां का शहीद पार्क. इस पार्क का जल्द होगा कायाकल्प.
Jharkhand news : जिला में ए- ग्रेड पर्यटन स्थल की श्रेणी में खरसावां का शहीद पार्क. इस पार्क का जल्द होगा कायाकल्प.
प्रभात खबर.

Jharkhand news, Saraikela news : सरायकेला- खरसावां (शचीन्द्र दाश/प्रताप मिश्रा) : सरायकेला- खरसावां जिला अंतर्गत अंतरराष्ट्रीय महत्व के 4 पर्यटन स्थलों को जिला में ए-ग्रेड पर्यटन स्थल का दर्जा मिला है. इसके अलावा राष्ट्रीय महत्व के 5 स्थल को बी ग्रेड, राजकीय महत्व के पर्यटन स्थल को जिला में सी ग्रेड और स्थानीय महत्व के पर्यटन स्थलों को डी ग्रेड की श्रेणी में रखा गया है. जिला समाहरणालय में डीसी इकबाल आलम अंसारी की अध्यक्षता में जिला स्तरीय पर्यटन संवर्धन समिति की बैठक में जिला के पर्यटन स्थलों की ग्रेडिंग हुई. इस अवसर पर खरसावां विधायक दशरथ गागराई भी उपस्थित थे. बैठक में ए ग्रेड में शामिल खरसावां के शहीद पार्क कायाकल्प करने पर भी चर्चा हुई.

बैठक में जिला के 13 पर्यटन स्थल की ग्रेडिंग की गयी है. इसमें जिला में अंतरराष्ट्रीय महत्व रखने वाले 4 पर्यटन स्थलों को ए-ग्रेड में रखा गया है. इसमेें चांडिल डैम, नीमड़ीह आर्ट एवं क्राफ्ट गांव का विकास, दलमा आश्रयणी एवं खरसावां प्रखंड अंतर्गत शहीद पार्क मुख्य है. राष्ट्रीय महत्व रखने वाले पर्यटन स्थलों को बी ग्रेड में रखा गया है, जिसमें 5 स्थल हैं. राजकीय महत्व रखने वाले सी ग्रेड के पर्यटन स्थल एक भी नहीं हैं. स्थानीय महत्व रखने वाले पर्यटन स्थलों को डी ग्रेड में रखा गया है.

खरसावां शहीद पार्क का है ऐतिहासिक महत्व

शहीद पार्क एैतिहासिक धरोहर है. इसकी रखरखाव की आवश्यकता है, जिस पर डीसी ने श्री सीमेंट कंपनी को सीएसआर के तहत देखरेख करने की बात कही. श्री सीमेंट कंपनी की ओर से श्री सीमेंट प्लांट के डीजीएम आरके सिंह एवं प्रबंधक बीके त्रिपाठी ने बताया कि कंपनी शहीद पार्क के संरक्षण के लिए तत्काल सीएसआर से 5 लाख रुपये देगी. वहीं, देखरेख के लिए श्री फाउंडेशन से विचार- विमर्श करने की बात कही गयी.

जिला प्रशासन और व्यवसायियों के सहयोग से हो सकता है संरक्षित : विधायक

खरसावां विधायक दशरथ गागराई ने कहा कि खरसावां शहीद पार्क में एक जनवरी को झारखंड के अलावा पश्चिम बंगाल, ओड़िशा समेत अन्य राज्यों से काफी संख्या में लोग आते हैं. यह राज्य का अति महत्वपूर्ण ऐतिहासिक स्थल है. वर्तमान में रख- रखाव की समुचित व्यवस्था नहीं रहने के कारण यह अव्यवस्थित है. इसे जिला प्रशासन और स्थानीय उद्योग आदि के सकारात्मक प्रयास से संरक्षित किया जा सकता है.

माली के बकाया का भुगतान करे वन विभाग : डीसी

बैठक में डीसी ने वन प्रमंडल पदाधिकारी, सरायकेला को वन प्रमंडल से शहीद पार्क में कार्यरत माली एवं गार्ड के मानदेय भुगतान के लिए बकाया राशि भुगतान करने की बातें कही है. इस पर जिला वन प्रमंडल पदाधिकारी द्वारा इस मद में 5 लाख रुपये की आवश्यकता होने की बात कही गयी, जबकि कार्यालय सहायक द्वारा पर्यटन संर्वधन मद में 5.68 लाख होने की बात कही. इस पर डीसी ने बकाया मानदेय भुगतान के लिए कार्रवाई करने का निर्देश दिया है.

एक नजर में जिला के पर्यटन स्थल

ए- ग्रेड पर्यटन स्थल : चांडिल डैम, नीमडीह आर्ट एवं क्राफ्ट गांव का विकास, दलमा आश्रयणी एवं खरसावां का शहीद पार्क.

बी- ग्रेड पर्यटन स्थल : पालना डैम, कशीदा डैम, आकर्षणी मंदिर, जयदा मंदिर और भीमखंदा.

सी- ग्रेड पर्यटन स्थल : जिला में एक भी नहीं है.

डी- ग्रेड पर्यटन स्थल : सीतारामपुर डैम, गीतिलता में रोजो संक्रांति, जार्गो देवस्थल एवं सिदो-कान्हू पार्क.

8 अगस्त को प्रभात खबर ने उठाया था मामला

रख-रखाव के अभाव में अपनी सुंदरता खो रहे शहीद पार्क का मामला प्रभात खबर ने 8 अगस्त, 2020 के अंक में उठाया था. 'सरकारी उपेक्षा से 2.20 करोड़ का खरसावां शहीद पार्क बदहाल, चारों ओर उगीं झाडियां' शीर्षक की रिपोर्ट में पार्क की बदहाली का मामला दर्शाया गया था.

क्या है मामला

विगत 17 अगस्त, 2020 को खरसावां विधायक दशरथ गागराई ने राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को ज्ञापन सौंप कर खरसावां के ऐतिहासिक शहीद पार्क के रख- रखाव के लिए राशि उपलब्ध कराने, शहीद पार्क की साफ- सफाई करते हुए एक एजेंसी बहाल करने की मांग की थी. 30 अगस्त, 2020 को डीसी इकबाल आलम अंसारी और विधायक दशरथ गागराई ने शहीद पार्क का निरीक्षण करने के साथ- साथ रखरखाव को लेकर बैठक किया. मालूम हो कि रख- रखाव नहीं होने एवं राशि नहीं मिलने के कारण पार्क की खूबसूरती खराब होती जा रही है. पूरे पार्क में झाड़ियां उग आयी हैं. पार्क में लगाये गये लाइट फाउंटेन, सेल्टर, लिटिल पुल, चिल्ड्रन कॉर्नर आदि खराब हो गये हैं. बच्चों के लिये लगाये गये करीब दो दर्जन खेल के उपकरण और लोगों के बैठने के लिए बनाये गये बेंच भी खराब हो गया है. अब प्रशासनिक स्तर पर शहीद पार्क को संवारने की तैयारी शुरू हो गयी है.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें