1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. delhi investors meet jharkhand will invest 10000 crores about 15 lakh jobs will be created what cm hemant soren said to investors grj

दिल्ली इंवेस्टर्स मीट : झारखंड में 10,000 करोड़ निवेश से करीब 1.5 लाख रोजगार, निवेशकों से क्या बोले सीएम हेमंत

झारखंड औद्योगिक एवं निवेश प्रोत्साहन नीति 2021 का लोकार्पण करते हुए सीएम हेमंत सोरेन (CM Hemant Sore) ने कहा कि दिल्ली में दो दिवसीय इन्वेस्टर्स मीट (Delhi Investors Meet) आनेवाले दिनों में झारखंड में 10,000 करोड़ के निवेश के साथ करीब 1.5 लाख रोजगार (jobs) सृजन का मार्ग प्रशस्त करेगा.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
औद्योगिक एवं निवेश नीति का लोकार्पण करते सीएम एवं अन्य
औद्योगिक एवं निवेश नीति का लोकार्पण करते सीएम एवं अन्य
फोटो-राजेश कुमार

Jharkhand News, रांची न्यूज : झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने नई दिल्ली स्थित होटल ताज में उद्योग विभाग द्वारा आयोजित इन्वेस्टर्स मीट में झारखंड औद्योगिक एवं निवेश प्रोत्साहन नीति 2021 का लोकार्पण करते हुए कहा कि दो दिवसीय इन्वेस्टर्स मीट आनेवाले दिनों में झारखंड में 10,000 करोड़ के निवेश के साथ करीब 1.5 लाख रोजगार सृजन का मार्ग प्रशस्त करेगा. टाटा स्टील अगले तीन वर्ष में तीन हजार करोड़, डालमिया भारत ग्रुप 758 करोड़, आधुनिक पावर 1900 करोड़ और सेल द्वारा गुवा माइंस में अगले तीन वर्ष में चार हजार करोड़ एवं प्रेम रबर वर्क्स प्राइवेट लिमिटेड 50 करोड़ का निवेश एवं एक हजार प्रत्यक्ष रोजगार का सृजन करेगा. सीएम के समक्ष उद्योग सचिव और कंपनियों के प्रतिनिधियों ने करीब 10, 000 करोड़ निवेश के एमओयू पर हस्ताक्षर किया.

सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि राज्य सरकार निवेशकों का सहयोग लेकर आगे बढ़ना चाहती है. यहां के प्रचुर संसाधनों का उपयोग करते हुए झारखंड को विकास की ओर ले जाने का प्रयास करेंगे. इसमें सभी का सहयोग अपेक्षित है. सरकार ने कदम बढ़ा दिया है. ये कदम अब थमेंगे नहीं. झारखंड में माइंस और मिनरल के इर्द गिर्द बातें सोची गई. ये तो पूर्व की तरह कार्य करती रहेंगी. इसके अतिरिक्त टूरिज्म, एजुकेशन, रिन्यूबल एनर्जी, फूड प्रोसेसिंग, ऑटोमोबाइल, फार्मा, टेक्सटाइल के क्षेत्र में भी काम हो रहा है. रिन्यूबल एनर्जी में हम बड़ा प्रोजेक्ट ले कर आ रहे हैं. झारखंड में देश का सबसे बड़ा फ्लोटिंग सोलर प्लांट स्थापित होने जा रहा है, जो बहुत जल्द बड़े पैमाने पर बिजली का उत्पादन करेगा. सरकार राज्य में रोजगार सृजन करने के लिए, उद्योग का मार्ग प्रशस्त करने जा रही है. झारखंड को अग्रणी राज्यों में ले जाने का प्रयास किया जा रहा है.

सीएम के समक्ष एमओयू के बाद कंपनी के प्रतिनिधि
सीएम के समक्ष एमओयू के बाद कंपनी के प्रतिनिधि
फोटो-राजेश कुमार

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के संसाधनों का उपयोग कर इसका लाभ लोगों को नहीं दे पाए हैं. हमारे पास जो खनिज संपदा का भंडार है, उसके बारे में बताने की जरूरत नहीं है. हमारे राज्य में पर्यटन और शिक्षा क्षेत्र में भी संभावनाएं हैं. प्रसिद्ध नेतरहाट स्कूल हमारे राज्य में ही है. जिसकी गुणवत्तापूर्ण शिक्षा ने देश को सबसे ज्यादा आईएएस और आईपीएस अधिकारी दिये हैं. इसके अतिरिक्त इजीनियरिंग और मेडिकल के क्षेत्र में भी झारखंड अच्छा कर रहा है. झारखंड शिक्षण और तकनीकी संस्थानों को भी बढ़ावा देगा.

झारखंड के मुख्य सचिव सुखदेव सिंह ने कहा कि मैं हेड ऑफ ब्यूरोक्रेसी के नाते निवेशकों को आश्वस्त करता हूं कि राज्य की कार्यपालिका तक आपकी पहुंच आसानी से होगी. यहां प्रोएक्टिव अप्रोच से काम करनेवाले अधिकारी हैं, जो समस्या का समाधान करने के उद्देश्य से काम करते हैं. नीति के क्रियान्वयन में किसी भी तरह की समस्या का सामना निवेशकों को नहीं करना पड़ेगा. झारखंड निवेशकों के लिए सबसे बेहतर अवसर है. आज 2021 में प्रदेश के मुख्यमंत्री अपने टॉप ब्यूरोक्रेट के साथ निवेशकों को आमंत्रित करने के लिए लंबी दूरी तय कर दिल्ली पहुंचे हैं. यह एक बड़ा बदलाव है. ऐसा संभव हुआ है, क्योंकि लोगों को यह बात समझ में आ रही है कि किसी देश और राज्य के विकास की दास्तां तकनीक के विकास, रोजगार के सृजन से ही संभव है. झारखंड फ्लोरा एवं फोना से भरा पड़ा राज्य है. 30 प्रतिशत हिस्सा जंगल से भरा है. बड़ी मात्रा में यहां वनोपज का उत्पादन किया जा रहा है. राज्य का मौसम देश के बाकी हिस्सों से कहीं बेहतर है. अच्छे वातावरण से मानव संसाधन की क्षमता बढ़ जाती है.

दिल्ली में इंवेस्टर्स मीट को संबोधित करते सीएम हेमंत सोरेन
दिल्ली में इंवेस्टर्स मीट को संबोधित करते सीएम हेमंत सोरेन
फोटो-राजेश कुमार

उद्योग सचिव पूजा सिंघल ने कहा कि झारखंड सरकार ने निवेशकों को आमंत्रित करने के लिए विभिन्न क्षेत्रों में सिंगल विंडो क्लियरेंस पॉलिसी तैयार कर ली है. उन्होंने कहा कि उद्योग स्थापित करने के लिए सरकार के पास 1000 एकड़ जमीन का लैंड बैंक है. उन्होंने निवेशकों को जेआईआईपी, इथनॉल पॉलिसी, रोड कनेक्टिविटी, इलेक्ट्रिक वेकिल पॉलिसी, आदित्यपुर क्लस्टर के बारे में प्रेजेंटेशन के माध्यम से बताया. उन्होंने कहा कि झारखंड को सोलर पार्क, ऑटो हब, इलेक्ट्रॉनिक निर्माण का हब बनाने के लिए सरकार सभी निवेशकों को आमंत्रित कर रही है.

इस मौके पर विकास आयुक्त अरुण कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव एल.खिंग्याते, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, रेसिडेंशियल आयुक्त मस्तराम मीणा, सचिव अविनाश कुमार, मुख्यमंत्री के सचिव विनय कुमार चौबे, निदेशक उद्योग जितेंद्र कुमार सिंह एवं उद्योगपति एवं उनके प्रतिनिधि उपस्थित थे.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें