पत्नी का ब्लड प्रेशर सामान्य रामचरण की मौत भूख से नहीं

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

महुआडांड़ : महुआडांड़ प्रखंड की दुरूप पंचायत के लुरगुमी कला गांव में वृद्ध रामचरण मुंडा (65) की मौत के बाद प्रशासन की नींद खुली है. शुक्रवार की सुबह एसडीओ सुधीर कुमार दास गांव पहुंचे और मृतक की पत्नी चमरी देवी से घटना की जानकारी ली. इसके बाद प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारी डाॅ गणेश राम ने चमरी देवी के ब्लड प्रेशर की जांच की, जो सामान्य मिला. एसडीओ ने कहा कि रामचरण मुंडा की मौत भूख से नहीं हुई है. यदि उसकी मौत भूख से हुई होती, तो उसकी पत्नी का ब्लड प्रेशर सामान्य नहीं रहता. इसके बाद उन्होंने ग्रामीणों के बीच राशन का वितरण कराया.

उन्होंने सरकारी नियम की अवहेलना कर ऑफलाइन राशन का वितरण कराया. इससे पूर्व ऑनलाइन राशन वितरण का आदेश उपायुक्त ने दिया था. नाराज ग्रामीणों का कहना है कि यह व्यवस्था पहले ही कर दी जाती, तो शायद रामचरण मुंडा की जान नहीं जाती.
लोगों ने प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी धीरू बाखला को काफी खरी-खोटी सुनायी. उन्होंने कहा कि डीलर की लापरवाही से तीन माह से राशन नहीं मिल रहा था. रामचरण के घर में अनाज नहीं होने के कारण तीन दिनों से चूल्हा नहीं जला था. मृतक के परिजनों ने गुरुवार को आरोप लगाया था कि भूख से रामचरण की मौत हो गयी.
डीलर ने 24 अप्रैल को दिया था ई-पॉश को ऑफलाइन करने का आवेदन : दूसरी ओर, डीलर मीना देवी ने गांव में नेटवर्क नहीं रहने से ई-पॉश मशीन को ऑनलाइन के बदले ऑफलाइन करने का आवेदन 24 अप्रैल 2019 को प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी को दिया था. डीलर के आवेदन को प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी ने जिला में अग्रसारित कर दिया.
डीलर के आवेदन के आलोक में उपायुक्त ने 10 मई 2019 को खाद्य सार्वजनिक वितरण उपभोक्ता मामले के सचिव को पत्र लिख कर राशन वितरण सुनिश्चित करने के उद्देश्य से ई-पॉश मशीन को ऑफलाइन करने की अनुशंसा की थी, जो अब तक नहीं मिली थी. अनुशंसा नहीं मिलने से राशन वितरण नहीं हो रहा था.
रामचरण की मौत के बाद गांव पहुंची लातेहार प्रशासन की टीम
ग्रामीणों के बीच ऑफलाइन राशन का वितरण कराया
प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी को ग्रामीण ने सुनायी खरी-खोटी
लोग बोले : पहले बंट गया होता राशन, तो नहीं जाती रामचरण की जान
Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें