1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. dhanbad
  5. pm krishi samman nidhi yojana online application land documents dhanbad hindi news jharkhand news fake land paper prt

धनबाद में 1,02,048 लोगों ने पीएम कृषि सम्मान निधि के लिए आवेदन दिया, 76,198 की जांच, 67,550 निकले फर्जी

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के नाम पर धनबाद जिले में फर्जी तरीके से किसान बता कर उन्हें राशि दिलाने की काेशिश हाे रही है. एक ही रैयती जमीन के कागजात पर कई लोगों को किसान बता कर ऑनलाइन आवेदन करा दिया जा रहा है.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के नाम पर धनबाद जिले में फर्जीवाड़ा
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के नाम पर धनबाद जिले में फर्जीवाड़ा
प्रतीकात्मक तस्वीर

संजीव झा, धनबाद : प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के नाम पर धनबाद जिले में फर्जी तरीके से किसान बता कर उन्हें राशि दिलाने की काेशिश हाे रही है. एक ही रैयती जमीन के कागजात पर कई लोगों को किसान बता कर ऑनलाइन आवेदन करा दिया जा रहा है. बच्चाें-नाबालिग को भी किसान बता कर पेंशन के लिए आवेदन करा दिया गया है. केंद्रीय कृषि निदेशालय के निर्देश पर अभी 1,02, 048 नये किसानाें में से 76,198 की जांच हुई, जिनमें से 67,550 किसान फर्जी निकले हैं. जांच पूरी हाेते ही इस आशय की रिपाेर्ट सरकार काे साैंप दी जायेगी. वैसे धनबाद जिले में पहले से भी 75 हजार किसान निबंधित हैं, जिन्हें पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ मिल चुका है. इनमें से भी 10 हजार संदिग्ध हैं.

पहले के 75 हजार किसानों में 10 हजार संदिग्ध

धनबाद जिले में वर्ष 2019 में पीएम किसान सम्मान योजना के तहत लगभग 75 हजार किसानों को पेंशन राशि का भुगतान हुआ.जांच के दौरान 10 हजार किसानों का मामला संदिग्ध मिला है. ऐसे किसानों के बैंक खाते व दावों की जांच चल रही है. वर्तमान वित्तीय वर्ष में ऐसे किसानों की पेंशन राशि रोक दी गयी है.

सक्रिय हाे गया है सिंडिकेट

लाेगाें काे इस याेजना का लाभ दिलाने के लिए दलाल व सिंडिकेट के सदस्य सक्रिय हाे गये हैं. वे किस्त के हिसाब से लाभुकों से पैसे ले रहे हैं और उनसे आवेदन करा रहे हैं. इनसे पहले आवेदन फॉर्म भरने व प्रोसेस के नाम पर तीन से पांच सौ रुपये लिये जा रहे हैं. सूत्रों के अनुसार सिंडिकेट के सदस्य असली किसान के कागजात की फोटो कॉपी कर उस पर दूसरे लाेगाें का नाम चढ़ा देते हैं. बहुत सारे मामलों में आधार कार्ड भी असली किसान का होता है, लेकिन बैंक खाता नकली किसान का निकल रहा है. आवेदन फॉर्म में पहली नजर में कोई तकनीकी त्रुटि नहीं लगती, लेकिन जब सूक्ष्मता से जांच हो रही है, तब इस खेल का पता चल रहा है.

कृषि व राजस्व विभाग करता है फेंका-फेंकी

इस मामले में कृषि व राजस्व विभाग एक-दूसरे पर फेंका-फेंकी करते हैं. कृषि विभाग जहां यह कह कर पल्ला झाड़ लेता है कि जमीन संबंधी कोई रिकॉर्ड नहीं होने के चलते किसान के दावे को असली या नकली बताना उसके लिए संभव नहीं है, जबकि राजस्व विभाग यह कह कर पिंड छुड़ा लेता है कि किसान कौन है और कौन नहीं, यह कृषि विभाग ही बता सकता है.

मुख्य बातें :-

  • सबसे ज्यादा फर्जीवाड़ा गोविंदपुर अंचल में

  • एक ही जमीन के कागज पर कइयों को कराया आवेदन

  • नाबालिग, बच्चों को भी बना दिया किसान

  • केंद्रीय कृषि निदेशालय ने पकड़ी गड़बड़ी

धनबाद जिले में कोरोना के चलते लागू लॉकडाउन के दौरान अचानक किसानों की बाढ़ आ गयी. चार माह में ही एक लाख से अधिक नये आवेदनों ने केंद्रीय कृषि निदेशालय की नींद उड़ा दी. केंद्रीय कृषि निदेशक ने 11 अगस्त को पत्र लिख कर इस मामले की जांच राज्य के कृषि विभाग से कराने को कहा. इस पर राज्य के कृषि सचिव ने धनबाद के उपायुक्त को जांच कराने को कहा.

चार महीने में 1.02 लाख आवेदन आये

जिले में चालू वित्तीय वर्ष 2020-21 में पीएम किसान सम्मान योजना के तहत पेंशन के लिए अप्रैल से 31 जुलाई के बीच 1.02 लाख आवेदन आये. सारे आवेदन ऑनलाइन ही आये हैं. आवेदनों के साथ आधार कार्ड, रैयती जमीन का ब्योरा व लगान रसीद तक की कॉपी लगायी जा रही है. एक किसान को प्रति वर्ष तीन किस्तों में छह हजार रुपये पीएम किसान सम्मान याेजना के तहत मिलते हैं.

हर अंचल में मिल रही गड़बड़ी

उपायुक्त उमा शंकर सिंह ने एक सितंबर को आदेश जारी किया कि हर अंचल में अब किसान पेंशन योजना के लिए अंचलाधिकारी नोडल पदाधिकारी होंगे. साथ ही किसाानें के दावों की जांच कराने को कहा. हर अंचल में कमेटी बनायी गयी. टीम में सभी प्रखंडों के कृषि पदाधिकारी, कृषि मित्र, जनसेवक, प्रखंड कृषि प्रबंधक (बीटीएम) तथा सहायक तकनीकी प्रबंधक (एटीएम) को शामिल किया गया. टीम ने ऑनलाइन आवेदन का भौतिक सत्यापन शुरू किया. साथ ही वंशावली का सत्यापन संबंधित पंचायत के मुखिया से कराया.

सत्यापित प्रति की जांच संबंधित अंचलाधिकारी कर रहे हैं. जांच के दाैरान जिले के हर अंचल में गड़बड़ी पायी गयी. 15 सितंबर तक कुल 76,198 ऑनलाइन आवेदनों का भौतिक सत्यापन हुआ, तो इसमें से 67,550 आवेदक फर्जी निकले. केवल 8,648 आवेदन ही सही मिले. यानी इतने ही नये किसानों को पेंशन लायक पाया गया. अब भी लगभग 26 हजार आवेदनों की जांच जारी है.

कहां कितने असली, कितने फर्जी आवेदन

प्रखंड कुल आवेदन फर्जी असली

बाघमारा 13,228 12,028 1200

बलियापुर 6753 5,679 1074

धनबाद (पुटकी सहित) 509 364 145

गोविंदपुर 24,275 23,917 358

निरसा 24,478 22,163 2315

पूर्वी टुंडी 8,254 7,649 605

तोपचांची 15,290 13,972 1318

टुंडी 9,261 7,925 1336

कुल : 1,02, 048 67,550 8,648

(नोट : सभी आंकड़े 15 सितंबर 2020 तक के हैं)

Post by : Pritish Sahay

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें