स्थापना दिवस को पखवारा के रूप में मनायेंगे : स्वास्थ्य मंत्री

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

बोकारो: झारखंड स्थापना दिवस को हम पखवारा के रूप में मनायेंगे. इसकी शुरुआत भगवान बिरसा के गांव से की जायेगी. इसके बाद पूरे झारखंड में विभिन्न जिलों में यह कार्यक्रम चलेगा. इसके तहत विभिन्न विकास योजनाओं को धरातल पर 15 नवंबर तक पूरा कर उतारा जायेगा. यह बातें पत्रकारों से बातचीत करते हुए मंत्री राजेंद्र सिंह ने सदर अस्पताल के प्रांगण में कही.

कहा : पूरे राज्य में अभी मात्र 47 ब्लड बैंक ही है. इसे हम बढ़ायेंगे. पूरे राज्य में बर्न यूनिट व ब्लड बैंक खुलेगा. रिम्स को एम्स से जोड़ दिया गया है. चिकित्सकों को भी बेहतर लाभ मिले. इस पर अमल शुरू कर दिया गया है. एमजीएम व धनबाद में हार्ट के सरकारी अस्पताल खोले जायेंगे. पूरे राज्य के मेडिकल कॉलेज व डिस्पेंसरी की रंगाई-पुताई 15 नवंबर तक कर ली जायेगी. तीन माह में अब तक पूरे राज्य में 4200 मेडिकल कैंप लगाया जा चुका है. 15 नवंबर तक इसका लक्ष्य पांच हजार पूरा कर लेना है. यही नहीं मरीजों को खाने के लिए पहले 30 रुपये मिलते थे. उसे हमने बढ़ा कर 50 रुपया कर दिया है.

1071 चिकित्सकों की होगी बहाली : आठ दंत चिकित्सक को नियमित नहीं किये जाने के मामले में मंत्री ने कहा : पहल शुरू कर दी गयी है. फाइल आगे बढ़ा दी गयी है. राज्य की चिकित्सा व्यवस्था सुदृढ़ करने के लिए 1071 चिकित्सकों की बहाली होगी. इसमें 938 नयी बहाली व 133 (डिसमिस हुए चिकित्सक के जगह) खाली पड़े पदों पर बहाली निकलेगी. प्रशिक्षण के दौरान चिकित्सकों को सात हजार रुपये मिलते हैं. उसे बढ़ाया जायेगा. अनुबंध पर कार्य कर रही एएनएम सहित 1400 पारा कर्मियों को स्थायी करने पर भी पहल शुरू कर दी गयी है. जूनियर चिकित्सकों का भी मानदेय बढ़ाया जायेगा.

मार्च 2014 में होगा रांची में जीरो पावर कट : राज्य को ऊर्जा के मामले में बेहतर बनाने पर पहल शुरू कर दी गयी है. रांची में जीरो कट पावर के लिए पांच केवी का 10 सब स्टेशन व 10 केवी का पांच सब स्टेशन लगाने की जरूरत है. इसे मार्च तक पूरा कर लिया जायेगा. इसके बाद व्यवस्था बेहतर होगी. गढ़वा व पलामू में भी व्यवस्था बेहतर कर लिया जायेगा. बीटीपीएस बंद करने के सवाल पर मंत्री ने कहा : प्रदूषण के मामले पर बीटीपीएस को दो माह का समय दिया गया है. प्लांट शुरू कर दिया गया है. कोल आवंटन की फाइलें कचरे में फेक दी गयी है. इस मामले पर मंत्री ने कहा : फाइलें कोल आवंटन से जुड़ी होती, तो जला दी गयी होती. फेंकी नहीं जाती. वह फाइल कुछ और होगी.

    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें