1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. yaas became weak in bihar electricity water crisis in many districts yellow alert in 18 districts even today asj

बिहार में यास हुआ कमजोर, कई जिलों में बिजली-पानी का संकट, 18 जिलों में आज भी यलो अलर्ट

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
बिहार के कई जिलों में आज भी वज्रपात की संभावना
बिहार के कई जिलों में आज भी वज्रपात की संभावना
प्रभात खबर

पटना. राज्य में यास तूफान का असर शुक्रवार को भी दिखा, पटना सहित कई जिलों में हल्की से तेज बारिश हुई. कई जिलों में बिजली-पानी का संकट बना रहा. कोरोना संकट से मुकाबला कर रहे राज्य के 13 में 11 मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में भी बिजली बाधित रही. हालांकि, बिजली कंपनी का दावा है कि इन मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में दो घंटे में आपूर्ति बहाल कर दी गयी है. इनमें से मगध मेडिकल कॉलेज में पांच मिनट और एकेएमसीएच में तो 20 मिनट में आपूर्ति बहाल कर दी गयी.

वहीं, बारिश के कारण मुजफ्फरपुर-हाजीपुर रेलखंड में सुबह ओवरहेड वायर में खराबी आ गयी, जिससे विभिन्न स्टेशनों पर 11 एक्सप्रेस ट्रेनें साढ़े चार घंटे तक खड़ी रहीं. पटना के बिहटा, विक्रम, पालीगंज, नौबतपुर, मोकामा, बाढ़ के इलाके में गुरुवार की दोपहर से शुक्रवार की दोपहर तक बिजली गुल रही.

मौसम विभाग के अनुसार झारखंड के ऊपर बना हवा के कम दबाव का क्षेत्र उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ रहा है. ऐसे में उत्तरी भाग में अगले 48 घंटे तक एक दो जगहों पर भारी बारिश की संभावना है. यहां से डिप्रेशन कमजोर होने के बाद पूर्व भाग में बढ़ेगा.

उत्तर बिहार के 18 जिलों में अभी येलो अलर्ट जारी है. इन जिलों में कई जगहों पर भारी बारिश की संभावना है.पटना में भी कुछ जगहों पर बारिश की संभावना है. मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक अगले दो दिनों तक तापमान में कोई बदलाव नहीं होगा और उसके बाद दो से तीन डिग्री सेल्सियस की वृद्धि होने की संभावना है.

32 ग्रामीण फीडर में अब भी बिजली बाधित

बिजली कंपनी के अनुसार तूफान से 35 शहरी फीडर प्रभावित हुए थे. उन्हें ठीक कर बिजली आपूर्ति शुरू कर दी गयी है. इसके साथ ही 1015 ग्रामीण फीडर में से 139 में आपूर्ति बाधित हुई थी. इनमें से 107 फीडर को ठीक कर बिजली आपूर्ति बहाल कर दी गयी है, जबकि अन्य को ठीक किया जा रहा है.

अमनौर ग्रिड में तकनीकी (नमी) ख़राबी को ठीक किया गया. इसके कारण पांच पावर सब स्टेशन में बिजली आपूर्ति प्रभावित हो गयी थी. बारसोई 132 केवी लाइन खराब होने से छह पावर सब स्टेशन और 55 11केवी फ़ीडर में बिजली की आपूर्ति बाधित हो गयी थी. इस कारण पूर्णिया जिले की भी बिजली बाधित हो गयी थी, जिसे ठीक कर दिया गया है.

पटना सहित अन्य जिलों में भी बाधित रही बिजली

सूत्रों के अनुसार पटना में गुरुवार से ही बिजली की आंख-मिचौली शुरू हो गयी थी, जो शुक्रवार की दोपहर बाद ठीक हो सकी. वहीं, बिहटा, विक्रम, पालीगंज, नौबतपुर, मोकामा, बाढ़ के इलाके बिजली संकट से प्रभावित रहे. इन इलाकों में गुरुवार की दोपहर से शुक्रवार की दोपहर तक बिजली गायब रही. यही हाल समस्तीपुर, मुजफ्फरपुर, औरंगाबाद, रोहतास, अररिया, भागलपुर, पूर्णिया सहित राज्य के अन्य जिलों का भी रहा.

ऊर्जा विभाग के सचिव सह बिजली कंपनी के सीएमडी संजीव हंस ने कहा कि हवा की रफ्तार तेज होने से उत्तर बिहार में अधिक पेड़ गिर गये. इस कारण वहां बिजली आपूर्ति अधिक बाधित हुई. उन्होंने कहा कि करीब 71 हजार किमी की लंबाई में जर्जर तार बदलने का फायदा इस तूफान में दिखा.

तूफान से बिजली का तार कहीं भी टूटकर नहीं गिरा. जान-माल का नुकसान नहीं हुआ. वहीं, बिजली आपूर्ति बहाली के लिए मेडिकल कॉलेजों और अस्पतालों को प्राथमिकता में रखा गया था. अधिकतम छह घंटे में आपूर्ति बहाली की समय सीमा तय की गयी थी, उसे दो घंटे में ही पूरा कर लिया गया.

येलो अलर्ट : इन जिलों में भारी बारिश की संभावना

पश्चिम चंपारण, सीवान, सारण, पूर्वी चंपारण, गोपालगंज, सीतामढ़ी, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, वैशाली, शिवहर, समस्तीपुर, सुपौल, अररिया, किशनगंज, मधेपुरा, सहरसा व पूर्णिया.

यहां भी बारिश की संभावना पर चेतावनी जारी नहीं

बक्सर, भोजपुर,रोहतास, कैमूर, औरंगाबाद, जहानाबाद, अरवल, पटना, गया, नालंदा, शेखपुरा, नवादा, बेगूसराय, लखीसराय, कटिहार, भागलपुर, बांका, जमुई, मुंगेर व खगड़िया.

एक जून तक मौसम पूर्वानुमान

  • 29 मई : हल्की बारिश के साथ बादल छाये रहने की संभावना.

  • 30 मई : बादल छाये रहने और गरज के साथ बारिश की संभावना.

  • 31 मई : आंशिक रूप से बादल के साथ बारिश व बिजली चमकने की संभावना

  • एक जून : आंशिक रूप से बादल छाये रहने की संभावना.

Posted by Ashish Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें