1. home Hindi News
  2. religion
  3. chandra grahan 2020 date timings in india sutak grahan kab lagega tomorrow is the last lunar eclipse of the year know the complete details related to this eclipse rdy

Grahan 2020 Date, Timings in India: खत्म हुआ चंद्रग्रहण, जानिए कब लगेगा साल का अगला सूर्यग्रहण

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Chandra Grahan 2020 Date & Time, Lunar Eclipse 2020
Chandra Grahan 2020 Date & Time, Lunar Eclipse 2020
Prabhat Khabar Graphics

Chandra Grahan November 2020 Date and Time in India: आज कार्तिक पूर्णिमा है. आज देव दीपावली भी मनाई जाती है. वहीं आज दोपहर से इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण (Lunar Eclipse Nov 2020) भी लगा. ज्योतिष शास्त्र में चंद्रग्रहण को बहुत अधिक प्रभावशाली माना जाता है. यह चंद्र ग्रहण 30 नवंबर दिन सोमवार कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को लगा यानि कि आज. आज लगने वाला यह ग्रहण कुल 04 घंटे 18 मिनट 11 सेकंड तक रहा. जबकि, 3:13 मिनट पर यह अपने चरम पर रहा. ग्रहण रोहिणी नक्षत्र और वृषभ राशि में इस बार का चंद्रगहण पड़ा. यह चंद्र ग्रहण भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर और एशिया में दिखाई दिया.

email
TwitterFacebookemailemail

खत्म हुआ चंद्रग्रहण, जानिए कब लगेगा साल का अगला सूर्यग्रहण

साल 2020 का अंतिम चंद्रग्रहण खत्म हो चुका है. अब साल का दूसरा सूर्य ग्रहण लगने वाला है. यह सूर्य ग्रहण 14 दिसंबर 2020 को लगेगा. यह सूर्य ग्रहण साल का आखिरी सूर्य ग्रहण होगा, इससे पहले साल का पहला सूर्य ग्रहण 21 जून 2020 को लगा था. बताते चले कि इस साल में कुल छह ग्रहण लगने हैं जिनमें से चार चंद्र ग्रहण और दो सूर्य ग्रहण हैं. माना जाता है कि सूर्य ग्रहण का प्रभाव हमारी राशियों पर पड़ता है. जिसके चलते मानव जीवन प्रभावित होता है. भारत में यह सूर्यग्रहण 14 दिसंबर 2020 की शाम को 07:03 बजे शुरू हो जाएगा और सूर्यग्रहण की समाप्ति 14 दिसंबर 2020 की मध्यरात्रि उपरान्त यानि 15 दिसंबर 2020 की 12:23 बजे पर होगी. इस सूर्यग्रहण लगभग पांच घंटे का होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण के बाद घर के मंदिर को करें शुद्ध

अब चंद्र ग्रहण समाप्त हो चुका है. ग्रहण समाप्त होने के बाद घर के मंदिर में गंगा जल छिड़क कर शुद्ध करें. देवी-देवताओं की प्रतिमाओं को भी गंगा जल से शुद्ध करें और इसके बाद ही पूजा करें. ऐसा करने से घर के मंदिर में व्याप्त ग्रहण की नकारात्मक छाया नष्ट हो जाएगी.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्रग्रहण में इस मंत्र का करें जाप

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ग्रहण के दौरान भगवान कुछ समय के लिए कष्ट में होते हैं. ऐसे में कष्ट को कम करने ग्रहण के दौरान मंत्रों का जाप करना शुभफलदायक होता है. चंद्रग्रहण के दौरान इस मंत्र का जाप करना चाहिए.

ॐ क्षीरपुत्राय विद्महे अमृत तत्वाय धीमहि तन्नोः चन्द्रः प्रचोदयात्

email
TwitterFacebookemailemail

14 दिसंबर को लगेगा सूर्य ग्रहण

 साल 2020 का अंतिम सूर्य ग्रहण 14 दिसंबर को लगेगा. यह सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। इससे पहले 21 जून को सूर्य ग्रहण लगा था.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्रग्रहण का चरम काल

अभी चंद्रग्रहण चल रहा है। यह ग्रहण आज दोपहर 01 बजकर 04 मिनट पर शुरू हुआ. 03 बजकर 13 मिनट पर चंद्रग्रहण अपने चरम पर होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

क्या होता है सूतक काल

चंद्र ग्रहण से 9 घंटे पहले लगने वाले सूतक काल में शुभ कार्य वर्जित होते हैं. सूतक काल में पूजा-पाठ भी नहीं की जाती है. इस दौरान मंदिर के कपाट भी बंद रहते हैं. कहते हैं कि गर्भवती महिलाओं को सूतक काल में छोंक, तड़का, धारदार और नुकीली वस्तुओं से दूर रहना चाहिए. सूर्य ग्रहण में सूतक काल 12 घंटे का होता है.

email
TwitterFacebookemailemail

वृषभ राशि और रोहिणी नक्षत्र में लगेगा ग्रहण

ज्योतिष गणना के अनुसार, चंद्र ग्रहण वृषभ राशि और रोहिणी नक्षत्र में लगेगा जिसके कारण वृषभ राशि के जातकों पर ग्रहण का सर्वाधिक प्रभाव देखने को मिलेगा. ज्योतिषीय गणना के अनुसार, ग्रहण के दौरान वृषभ राशि के जातकों को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

देश और दुनिया पर ग्रहण का प्रभाव

ज्योतिष विद्वानों का कहना है कि उपछाया चंद्र ग्रहण होने के कारण यह इतना प्रभावशाली नहीं होगा। देश और दुनिया पर इस ग्रहण का खास प्रभाव नहीं देखा जा सकेगा, लेकिन ग्रहण के कारण लोगों की मानसिक स्थिति में प्रभाव जरूर पड़ेगा. इसके अलावा सेहत पर भी यह विपरीत प्रभाव डाल सकता है। ऐसे में ग्रहण से बचने के लिए ज्योतिष में बताए गए उपाय जरूर करें.

email
TwitterFacebookemailemail

लोगों के मन पर पड़ता है चंद्र ग्रहण का असर

ज्योतिष शास्त्र में चंद्रमा को मन प्रभावित करने वाला ग्रह माना जाता है. कहा जाता हैं कि जब चंद्र ग्रहण होता है तो इसका सीधा असर व्यक्ति के मन पर पड़ता है.

email
TwitterFacebookemailemail

इस दौरान बरतें ये विशेष सावधानियां

मान्यता हैं कि चंद्रग्रहण के दौरान विशेष सावधानियां बरतनी चाहिए, नहीं तो चंद्रग्रहण के नकारात्मक प्रभावों को सहना पड़ सकता है. चंद्रग्रहण में इस बात का खास ख्याल रखें कि आप और आपके परिवार का कोई भी सदस्य चंद्रग्रहण के समय चंद्रमा की ओर ना देखे और ना ही चांद की रोशनी में बैठे

email
TwitterFacebookemailemail

आकाश में लग चुका चंद्र ग्रहण

आकाश में इस साल का अंतिम चंद्रग्रहण लग चुका है. चंद्रग्रहण दोपहर 1 बजकर 4 मिनट से आरंभ होकर शाम 5 बजकर 22 मिनट पर समाप्त होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

कुछ ही मिनट में लगेगा चंद्रग्रहण

कुछ ही मिनट में इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण लग जाएगा. ग्रहण काल के समय मांस या मदिरा पान का सेवन भी नहीं करना चाहिए. ग्रहण काल की अवधि में सोने से भी बचना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण के समय ये काम करने से बचें

ग्रहण के समय किसी नए व शुभ कार्य की शुरुआत करने से बचें. असफलता हाथ लग सकती है. साथ ही ग्रहण के समय कभी भी पति-पत्नी को शारीरिक संबंध नहीं बनाना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

गर्भवती महिलाओं को नहीं निकलना चाहिए घर से बाहर

ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को ग्रहण की छाया आदि से विशेष रूप से बचना चाहिए. क्योंकि ग्रहण की छाया का कुप्रभाव गर्भस्थ शिशु पर पड़ने का डर रहता है. इसके अलावा बुजुर्ग और पीड़ित व्यक्ति को भी बाहर जाने से परहे करना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण के बाद बचा हुआ भोजन नहीं करना चाहिए

चंद्र ग्रहण के बाद बचा हुआ भोजन नहीं करना चाहिए. ऐसा भोजन पशुओं को डाल देना चाहिए. यदि घर में दूध से बनी चीजें रखी हैं तो उन्हें फेंकने की बजाए उनमें तुलसी के पत्ते डाल दें.

email
TwitterFacebookemailemail

नहीं देखना चाहिए नग्न आंखों से ग्रहण

चंद्र ग्रहण को नग्न आंखों से देखने से भी परहेज करना चाहिए. ग्रहण के समय भोजन करने और बनाने दोनों से बचना चाहिए. ग्रहण के बाद स्नान करने से उसका प्रभाव कम हो जाता है.

email
TwitterFacebookemailemail

इन बातों का रखें ध्यान

आज चंद्रग्रहण लग रहा है. कोशिश करें कि ग्रहण के दौरान आप ना सोएं. विशेष तौर पर अगर आप गर्भवती हैं तो ग्रहण के दौरान सोना नहीं चाहिए. मान्यता है कि इससे बच्चे में शारीरिक या मानसिक विकार आ सकता है.

email
TwitterFacebookemailemail

साल के आखिरी चंद्र ग्रहण में नहीं करें ये काम

हिंदू धर्म में मान्यता है कि चंद्र ग्रहण के दौरान बालों में तेल लगाना, भोजन करना, पानी पीना, सोना, बाल बांधना, दातुन करना, कपड़े धोना, ताला खोलना आदि कार्य नहीं करने चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

कुछ घंटे बाद लगने वाला है उपच्छाया चंद्र ग्रहण

साल का आखिरी चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan 2020) अब से कुछ घंटे बाद लगने वाला है. ये ग्रहण 4 घंटे 21 मिनट तक रहेगा. हिंदू मान्यता के अनुसार, ग्रहण काल में कुछ चीजों की मनाही होती है. हालांकि साल का ये आखिरी चंद्र ग्रहण एक उपच्छाया चंद्र ग्रहण है. माना गया है कि इसका इंसान के जीवन पर सीधे कोई प्रभाव नहीं पड़ता है. हालांकि राशियों के परिवर्तन के कारण ज्योतिष गणना में इसकी मान्यता है.

email
TwitterFacebookemailemail

वृषभ राशि वालों को रखनी होगी विशेष सावधानी

आज इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण वृषभ राशि में लगेगा. इसलिए वृषभ राशि के जातकों को ग्रहण के समय थोड़ी सावधानी बरतने की आवश्यकता होगी. खासकर इस दौरान स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना होगा. क्योंकि इस ग्रहण का बुरा प्रभाव वृषभ राशि वालों पर सीधे पड़ेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

भारत में इस चंद्र ग्रहण का असर

ये चंद्र ग्रहण उपछाया चंद्र ग्रहण है, जो भारत में दिखाई नहीं देगा. शास्त्रों में उपछाया चंद्र ग्रहण को ग्रहण नहीं माना जाता है. इसलिए ना तो यहां सूतक काल माना जाएगा और ना ही किसी तरह के कार्यों पर पाबंदी होगी. ग्रहण पर स्नान-दान करने का विशेष महत्व है.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण के दौरान पानी भी पीने से बचना चाहिए

चंद्र ग्रहण के दौरान पानी पीने से भी बचना चाहिए. अगर आप बीमार हैं या आप गर्भवती हैं तो आप हल्का गर्म पानी पी सकते हैं. इसमें तुलसी का पत्ता डालकर जूस पी सकते हैं. इसके साथ ही अगर आप सादा पानी नहीं पीना चाहते तो नारियल का पानी पी सकते हैं. सबसे बेहतर यह होगा कि आप ग्रहण से पहले ही अच्छी मात्रा में पानी पी लें.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण के समय मंत्र जाप करने पर पूरी होती है इच्छाएं

ग्रहण के सूतक काल को इच्छापूर्ति के लिए अच्छा माना जाता है. मान्यता हैं कि ग्रहण के दौरान इच्छा पूरी करवाने के लिए किया गया मंत्र जाप बहुत शीघ्र सफल हो सकता है.

email
TwitterFacebookemailemail

व्यक्ति के मन पर पड़ता है चंद्र ग्रहण का असर

ज्योतिष शास्त्र में चंद्रमा को मन प्रभावित करने वाला ग्रह माना जाता है. कहा जाता हैं कि जब चंद्र ग्रहण होता है तो इसका सीधा असर व्यक्ति के मन पर पड़ता है.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्रग्रहण के नकारात्मक प्रभाव

मान्यता हैं कि चंद्रग्रहण के दौरान विशेष सावधानियां बरतनी चाहिए, नहीं तो चंद्रग्रहण के नकारात्मक प्रभावों को सहना पड़ सकता है. चंद्रग्रहण में इस बात का खास ख्याल रखें कि आप और आपके परिवार का कोई भी सदस्य चंद्रग्रहण के समय चंद्रमा की ओर ना देखे और ना ही चांद की रोशनी में बैठे.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्रग्रहण में ये पांच काम न करें

- भोजन ना पकाएं ना खाएं

- कपड़े ना धोएं

- सब्जी व फल आदि ना काटें

- किसी की बुराई ना करें

- किसी जीव की हत्या ना करें.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्रग्रहण के इन मामलों में बरते सावधानियां

चंद्रग्रहण के दिन विशेष सावधानियां बरतनी चाहिए, इस बात का ध्यान रखना चाहिए परिवार का कोई भी सदस्य चंद्रमा की ओर न देखें न ही चंद्रमा की रोशनी में बैठे

email
TwitterFacebookemailemail

पांच बजकर 22 मिनट तक रहेगी चंद्रग्रहण

आपको बता दें कि दोपहर एक बजकर चार मिनट से शुरू होगा जो कि शाम पांच बजकर 22 मिनट तक रहेगी. इस बार का चंद्रग्रहण भारत सहित अमेरिका, प्रशांत महासागर, एशिया और आस्ट्रेलिया में भी दिखाई देगा.

email
TwitterFacebookemailemail

तीन प्रकार के होते हैं चंद्र ग्रहण

बता दें कि चंद्र ग्रहण तीन प्रकार के होते हैं

पहला चंद्रगहण कुल चंद्रग्रहण होता है

दूसरा आंशिक चंद्रग्रहण

और तीसरा उपच्छाया चंद्रग्रहण

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्रग्रहण में ये काम भूलकर भी न करें

- किसी की बुराई न करें

- किसी भी जीव की हत्या न करें

- सब्जी व फल न काटें

- भोजन न पकाएं न ही खाएं

email
TwitterFacebookemailemail

इस बार का ग्रहण वृषभ राशि में लगेगा

साल 2020 का आखिरी चंद्र ग्रहण 30 नवंबर यानी अब से कुछ घंटों बाद लगने वाला है. यह चंद्र ग्रहण कई मायनों में खास है. इसी दिन कार्तिक पूर्णिमा का पर्व भी देशभर में मनाया जा रहा है. कार्तिक शुक्ल पक्षी की पूर्णिमा तिथि गंगा स्नान, पूजा इत्यादि के लिए खास मानी जाती है वहीं इसी दिन इस बार साल का आखिरी चंद्र ग्रहण भी लग रहा है. ज्योतिष गणना के अनुसार इस बार का ग्रहण वृषभ राशि में लगेगा. साथ ही इस दिन रोहिणी नक्षत्र भी है.

email
TwitterFacebookemailemail

कहां दिखेगा साल का अंतिम चंद्र ग्रहण

30 नवंबर दिन सोमवार यानि आज लगने वाला चंद्र ग्रहण ऑस्ट्रेलिया, नॉर्थ अमेरिका, यूरोप, साउथ अमेरिका, प्रशांत और अटलांटिक महासागर के अलावा एशिया के कुछ हिस्सों में ही दिखाई देगा. ये चंद्रग्रहण भारत में नहीं देखा जा सकेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्रग्रहण लगने की तिथि और समय

साल का अंतिम चंद्र ग्रहण 30 नवंबर को दोपहर 1 बजकर 4 मिनट से आरंभ होगा और 30 नवंबर को शाम 5 बजकर 22 मिनट पर समाप्त हो जाएगा.

email
TwitterFacebookemailemail

यहां दिखाई देगा चंद्र ग्रहण

साल का यह आखिरी चंद्र ग्रहण (Last Lunar Eclipse of The Year) एशिया, ऑस्ट्रेलिया (Australia), प्रशांत महासागर और अमेरिका (America) के कुछ हिस्सों में दिखाई देगा. यह चंद्र ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा. चंद्र ग्रहण के शुरू होने से 9 घंटे पहले सूतक लग जाता है. हालांकि यह चंद्र ग्रहण एक उपछाया ग्रहण है और भारत में दिखाई नहीं देगा. इसीलिए यहां इसका सूतक काल मान्य नहीं होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

भारत में चंद्र ग्रहण का असर

शास्त्रों में उपछाया चंद्र ग्रहण को ग्रहण नहीं माना जाता है. इसलिए न तो भारत में सूतक काल माना जाएगा और न ही किसी कार्य को करने की पाबंदी होगी. हालांकि नक्षत्र और राशि में लगने का असर कुछ राशि के जातकों पर जरूर पड़ सकता है.

email
TwitterFacebookemailemail

ये बन रहे हैं खास संयोग

कार्तिक पूर्णिमा आज है. ये कार्तिक महीने का आखिरी दिन होता है. वहीं इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण कल ही लग रहा है. स्नान और दान के लिहाज से यह दिन बहुत महत्वपूर्ण होता है. सर्वार्थसिद्धि योग व वर्धमान योग इस बार कार्तिक पूर्णिमा के दिन रहेंगे. ये दो शुभ संयोग इस पूर्णिमा को और भी खास बना रहे हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण के समय ये काम न भूलें

ज्योतिष के अनुसार ग्रहण शुरू होने से लेकर उसका समय पूरा होने तक गर्भवती महिलाओं को अपने हाथ-पैर बिना मोड़े, हाथ में नारियल लेकर बैठना चाहिए और ग्रहण समाप्त होने के बाद स्नान कर इस नारियल को जल में प्रवाहित कर देना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

इन जगहों पर दिखाई देगा चंद्रग्रहण

यह खगोलीय घटना दोपहर एक बजकर चार मिनट से शुरू होकर शाम पांच बजकर 22 मिनट तक होगी. यह कुल चार घंटे 18 मिनट 11 सेकंड तक रहेगा, जबकि, 3:13 मिनट पर यह अपने चरम पर होगा. इस बार का चंद्रग्रहण भारत सहित अमेरिका, प्रशांत महासागर, एशिया और आस्ट्रेलिया में भी दिखाई देगा.

email
TwitterFacebookemailemail

आखिरी चंद्रग्रहण

कार्तिक शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को 30 नवंबर दिन सोमवार को इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण लग रहा है. इस बार चंद्र ग्रहण वृषभ राशि में लगने जा रहा है. पंचांग के अनुसार इस दिन रोहिणी नक्षत्र रहेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

बन रहा है अद्भुत संयोग

इस बार 30 नवंबर को कार्तिक पूर्णिमा पर चंद्र ग्रहण का साया रहेगा. हालांकि उपच्छाया चंद्र ग्रहण दिखाई न देने के कारण इसका प्रभाव और सूतक काल भी प्रभावी नहीं होगा. शास्त्रानुसार कार्तिक पूर्णिमा के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग का संयोग होने से जप, तप, दान व धर्म-कर्म का लाभ कई गुणा अधिक प्राप्त होता है.

email
TwitterFacebookemailemail

सूतक काल में परहेज जरूरी

चंद्र ग्रहण से 9 घंटे पहले लगने वाले सूतक काल में शुभ कार्य वर्जित होते हैं. सूतक काल में पूजा-पाठ भी नहीं की जाती है. इस दौरान मंदिर के कपाट भी बंद रहते हैं. कहते हैं कि गर्भवती महिलाओं को सूतक काल में छोंक, तड़का, धारदार और नुकीली वस्तुओं से दूर रहना चाहिए. सूर्य ग्रहण में सूतक काल 12 घंटे का होता है.

email
TwitterFacebookemailemail

इस समय लगेगा चंद्रग्रहण

  • उपचछाया से पहला स्पर्श : दोपहर 1:04 बजे

  • परमग्रास चंद्र ग्रहण : दोपहर 3:13 बजे

  • उपछाया से अंतिम स्पर्श : शाम 5:22 बजे

email
TwitterFacebookemailemail

ऐसे दिखेगा चंद्रग्रहण

यह खगोलीय घटना दोपहर एक बजकर चार मिनट से शुरू होकर शाम पांच बजकर 22 मिनट तक होगी. यह कुल चार घंटे 18 मिनट 11 सेकंड तक रहेगा, जबकि, 3:13 मिनट पर यह अपने चरम पर होगा. इस बार का चंद्रग्रहण भारत सहित अमेरिका, प्रशांत महासागर, एशिया और आस्ट्रेलिया में भी दिखाई देगा.

email
TwitterFacebookemailemail

साल का आखिरी चंद्रग्रहण

साल 2020 का आखिरी चंद्र ग्रहण नवंबर महीने के आखिरी में यानी कि 30 नवंबर यानि आज दोपहर में लगेगा. ये चंद्रग्रहण उपच्छाया (Upachhaya) ग्रहण होगा. ये साल का चौथा चंद्रग्रहण होगा. साल 2020 में इससे पहले 10 जनवरी, 5 जून और 5 जुलाई को चंद्रग्रहण देखा गया था.

email
TwitterFacebookemailemail

इस बार का चंद्रग्रहण है खास

इस बार ये चंद्रग्रहण बेहद खास माना जा रहा है. दरअसल इसी दिन कार्तिक पूर्णिमा भी है. इसी दिन कार्तिक स्नान खत्म होगा. इसके अलावा इसी दिन सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक जी का 551वां जन्मदिन भी मनाया जाएगा. बता दें, 30 नवंबर को चंद्र ग्रहण लगेगा. इसी दिन कार्तिक पूर्णिमा भी है और सोमवार का दिन है.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र या सूर्य ग्रहण पर लगता है सूतक

धार्मिक मान्यता के अनुसार तो जब कभी भी चंद्र या सूर्य ग्रहण की स्थिति बनती है तो सूतक लगता है. इस दौरान पूजा-पाठ और मंदिर के कपाट बंद हो जाते हैं, लेकिन इस बार लग रहे उपछाया ग्रहण से सूतक कोई प्रभाव नहीं होगा, इस दिन भी आम दिनों की तरह मंदिर खुला रहेगा और सभी धार्मिक कार्यक्रम जारी रहेंगे.

email
TwitterFacebookemailemail

टेलीस्कोप से देखा जा सकता है चंद्रग्रहण

विज्ञान केंद्र के अधिकारियों के अनुसार, आमजन की सुविधा को ध्यान में रखते हुए टेलीस्कोप के माध्यम से चंद्रग्रहण दिखाने की व्यवस्था की गई है. केंद्र में आम लोगों के लिए शाम 5:00 बजे से लेकर 5:22 तक चंद्रग्रहण देखने की सुविधा रहेगी. वहीं, कोरोना संक्रमण की गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए किसी भी व्यक्ति को टेलीस्कोप छूने की इजाजत नहीं होगी. हर बार टेलीस्कोप को सैनिटाइज करने के बाद ही दूसरे व्यक्ति को ग्रहण देखने के लिए दिया जाएगा.

email
TwitterFacebookemailemail

कब लगता है उपछाया चंद्र ग्रहण

उपछाया चंद्र ग्रहण तब लगता है जब चंद्रमा धरती की वास्तविक छाया में न आकर उसकी उपछाया से ही वापस लौट जाता है. आचार्य शक्तिधर त्रिपाठी ने बताया कि उपछाया चंद्र ग्रहण का कोई भी धार्मिक असर मान्य नहीं होता है. कुछ राशियों पर इसका असर पड़ेगा, लेकिन ग्रहण के दौरान किसी भी तरह का लोकाचार करने की जरूरत नहीं है.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्रग्रहण की तिथि और समय

ये ग्रहण 30 नवंबर को दोपहर 1 बजकर 4 मिनट से आरंभ होगा और 30 नवंबर को शाम 5 बजकर 22 मिनट पर समाप्त हो जाएगा.

email
TwitterFacebookemailemail

कहां दिखेगा चंद्र ग्रहण

रिपोर्ट्स की मानें तो 30 नवंबर को लगने वाला चंद्र ग्रहण यूरोप, ऑस्ट्रेलिया, नॉर्थ अमेरिका, साउथ अमेरिका, प्रशांत और अटलांटिक महासागर के अलावा एशिया के कुछ हिस्सों में ही दिखाई देगा. भारत में ये नजर नहीं आएगा.

email
TwitterFacebookemailemail

क्या होता है उपछाया ग्रहण

चंद्र ग्रहण के शुरू होने से पहले चंद्रमा धरती की उपछाया में प्रवेश करता है. जब चंद्रमा पृथ्वी की वास्तविक छाया में प्रवेश किए बिना ही बाहर निकल आता है तो उसे उपछाया ग्रहण कहते हैं. चंद्रमा जब धरती की वास्तविक छाया में प्रवेश करता है, तभी उसे पूर्ण रूप से चंद्रग्रहण माना जाता है.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण काल का सूतक

यह ग्रहण चंद्रमा का उपछाया ग्रहण है, इसलिए इसमें सूतक काल मान्य नहीं होगा. सूतक काल चंद्र ग्रहण के लगने से 9 घंटे पहले शुरू हो जाता है. बिना सूतक वाले ग्रहण काल का प्रभाव ज्यादा नहीं होता है.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण का समय

  • ग्रहण प्रारंभ - 30 नवंबर दोपहर 1 बजकर 4 मिनट

  • ग्रहण मध्यकाल - 30 नवंबर दोपहर 3 बजकर 13 मिनट

  • ग्रहण समाप्त - 30 नवंबर शाम 5 बजकर 22 मिनट

email
TwitterFacebookemailemail

साल 2020 में कब-कब पड़े चंद्र ग्रहण

  • पहला चंद्र ग्रहण- 10 जनवरी

  • दूसरा चंद्र ग्रहण- 5 जून

  • तीसरा चंद्र ग्रहण- 5 जुलाई

  • चौथा चंद्र ग्रहण- 30 नवंबर को पड़ रहा है

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण के दौरान न करें ये काम

मान्यता है कि ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाएं को किसी भी नुकीली वस्तु का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, इनमें चाकू, कैंची, सूई और तलवार आदि शामिल हैं. साथ ही इस दौरान सोना, खाना, पीना, नहाना और किसी की बुराई करने पर भी पाबंदी होती है. ज्योतिष के अनुसार सूतक काल शुरू होने से लेकर उसका समय पूरा होने तक गर्भवती महिलाओं को अपने हाथ-पैर बिना मोड़े, हाथ में नारियल लेकर बैठना चाहिए और ग्रहण समाप्त होने के बाद स्नान कर इस नारियल को जल में प्रवाहित कर देना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

विज्ञान केंद्र में शाम के समय देखें साल का अंतिम चंद्रग्रहण

श्रीकृष्ण विज्ञान केंद्र में आकाश दर्शन का कार्यक्रम होने वाला है. इसमें सोमवार को लगने वाले चंद्रग्रहण को आम लोगों को दिखाया जाएगा. केंद्र के डायरेक्टर अमिताभ ने बताया, यह साल का अंतिम चंद्रग्रहण है और यह अन्य ग्रहणों से खास और महत्वपूर्ण है. इस ग्रहण में सूर्य से चंद्रमा पर सीधे नीचे जाने वाले प्रकाश का कुछ हिस्सा पृथ्वी पर आकर उसकी बाहरी परछाईं रोक देगा. इसी कारण इस बार चंद्रमा की चमक मध्यम दिखाई पड़ेगी. निदेशक के अनुसार यह खगोलीय घटना दोपहर 01 बजकर 04 मिनट से शुरू होकर शाम 5 बजकर 22 मिनट तक होगी. हालांकि, दिन में ग्रहण के समय चंद्रमा क्षितिज के बीच होने के कारण यह राजधानी के लोगों को शाम के समय सिर्फ 22 मिनट तक ही दिखाई देगा.

email
TwitterFacebookemailemail

पटना में 22 मिनट तक दिखाई देगा चंद्रग्रहण

कार्तिक पूर्णिमा के पावन अवसर पर सोमवार की शाम पांच बजे से बिहार की राजधानी में चंद्रग्रहण दिखाई देगा. यहां पर 5 बजे से 5 बजकर 22 मिनट तक चंद्रग्रहण देखा जा सकता है. वहीं दिन में अपराह्न 1 बजकर 4 मिनट से ही चंद्र ग्रहण प्रारंभ हो जाएगा, जो शाम 5 बजकर 22 मिनट तक रहेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

टेलीस्कोप से देखा जा सकता है चंद्रग्रहण

बिहार की राजधानी पटना के विज्ञान केंद्र के अधिकारियों के अनुसार, आमजन की सुविधा को ध्यान में रखते हुए टेलीस्कोप के माध्यम से चंद्रग्रहण दिखाने की व्यवस्था की गई है. केंद्र में आम लोगों के लिए शाम 5 बजे से लेकर 5 बजकर 22 मिनट तक चंद्रग्रहण देखने की सुविधा रहेगी. वहीं, कोरोना संक्रमण की गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए किसी भी व्यक्ति को टेलीस्कोप छूने की इजाजत नहीं होगी. हर बार टेलीस्कोप को सैनिटाइज करने के बाद ही दूसरे व्यक्ति को ग्रहण देखने के लिए दिया जाएगा.

email
TwitterFacebookemailemail

कब लगेगा सूतक

चंद्र ग्रहण के शुरू होने से 9 घंटे पहले सूतक लग जाता है. हालांकि ये चंद्र ग्रहण एक उपछाया ग्रहण है और ये भारत में दिखाई नहीं देगा, इसलिए यहां इसका सूतक काल मान्य नहीं होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्रग्रहण के दौरान बरते ये सावधानियां

- ग्रहण के दौरान खासकर गर्भवती महिलाओं को घर से बाहर निकलना वर्जित होता है.

- ऐसी मान्यता है कि इस दौरान यदि व ग्रहण देख लेंगी तो इसका सीधा और नकारात्मक असर बच्चे के शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ सकता है.

- बच्चे का जन्म लाल चक्रों या धब्बे के साथ हो सकते है साथ ही साथ अन्य त्वचा संबंधी रोग भी संभव है.

email
TwitterFacebookemailemail

- गर्भवती महिलाओं को इस दौरान अपने पास नुकीली चीजें रखनी चाहिए. इसके लिए वे चाकू, कैंची, सुई आदि का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. ऐसी मान्यता है कि इससे शिशु व गर्भवती महिला की दोनों पर ग्रहण का काला साया नहीं पड़ता है.

- हालांकि, नुकीली चीजें रखने समय यह ध्यान देना जरूरी है कि इससे शरीर के किसी अंग को हानि न पहुंचे.

- ग्रहण के दौरान बचा हुआ खाना भी नहीं खाना चाहिए. ऐसी मान्यता है कि ग्रहण की हानिकारक किरणों से भोजन दूषित हो जाता है.

email
TwitterFacebookemailemail

इस समय घर से बाहर न निकलें

ग्रहण के दौरान खासकर गर्भवती महिलाओं को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए. मान्यता है कि चंद्र ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाएं घर से बाहर निकलती है तो इसका बुरा प्रभाव पेट में पल रहे शिशु पर पड़ता है.

email
TwitterFacebookemailemail

14 दिसंबर 2020 को लगेगा सूर्य ग्रहण

14 दिसंबर 2020 को लगने वाला ग्रहण साल का दूसरा और आखिरी सूर्य ग्रहण होगा. यह ग्रहण पैसेफिक, साउथ अमेरिका और अंटार्कटिका में दिखेगा. सूर्य ग्रहण की शुरुआत 14 दिसंबर की शाम 7 बजकर 03 मिनट से होगी और समाप्त 15 दिसंबर की रात 12 बजे के करीब होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

जानें कहां-कहां दिखाई देगा कल लगने वाला चंद्र ग्रहण

साल का आखिरी चंद्र ग्रहण एशिया, ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर और अमेरिका के कुछ हिस्सों में दिखाई देगा. हालांकि इस चंद्र ग्रहण का असर भारत में नहीं पड़ेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

गर्भवती महिलाएं बरतें सावधानी

ज्योतिषियों के अनुसार सभी ग्रहण का एक सूतक काल होता. सूतक काल ग्रहण लगने से पहले ही शुरू हो जाता है. इस दौरान ध्यान और मंत्र जाप के अलावा कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता. अगर उपच्छाया ग्रहण है तो कोई सूतक काल नहीं होगा. लेकिन ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाएं अपने घर के बुजुर्गों की सलाह के अनुसार कुछ उपाय जरूर अपना सकती हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

वृषभ राशिवाले बरतें सावधानी

वृषभ राशि वालों को ग्रहण के समय और कुछ दिनों तक थोड़ी सावधानी बरतने की आवश्यकता होगी. खासकर इस दौरान स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

इस बार नहीं लगेगा सूतक काल

चंद्र ग्रहण 30 नवंबर यानि कल लग रहा है. यह इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण होगा, जो उपछाया चंद्र ग्रहण होगा. धार्मिक मान्यता के अनुसार ग्रहण का लगना अशुभ माना जाता है. ग्रहण में लगने वाले सूतक का विचार किया जाता है. ज्योतिष विद्वानों का मानना है कि उपछाया चंद्र ग्रहण के कारण इस बार सूतक काल मान्य नहीं होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण के दौरान कुछ खाने से बचें

ग्रहण काल के समय भोजन नहीं करना चाहिए. क्योंकि ये शरीर के लिए नुकसानदायक माना गया है. घर में पके हुए भोजन में सूतक काल लगने से पहले ही तुलसी के पत्ते डालकर रख देने चाहिए. इससे भोजन दूषित नहीं होता है.

email
TwitterFacebookemailemail

कैसे लगता है चंद्रग्रहण

जब पृथ्वी सूर्य के प्रकाश को चंद्रमा तक पहुंचने से रोक देता है तो उसे चंद्रग्रहण कहा जाता है. या यूं कहे कि यह तब होता है जब चंद्रमा पृथ्वी की छाया में चली जाती है.

email
TwitterFacebookemailemail

किस राशि पर कैसा पड़ेगा चंद्र ग्रहण का प्रभाव

कार्तिक महीने की पूर्णिमा पर उपच्छाया चंद्र ग्रहण वृष राशि और रोहिणी नक्षत्र में लगेगा. जिसका अशुभ असर वृष, मिथुन, सिंह, कन्या और धनु राशि वाले लोगों पर रहेगा. वहीं मेष, कर्क, तुला, वृश्चिक, मकर, कुंभ और मीन राशि वाले लोग अशुभ प्रभाव से बच जाएंगे.

email
TwitterFacebookemailemail

जानें किस नक्षत्र में लगेगा चंद्रग्रहण

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, कार्तिक शुक्ल की पूर्णिमा तिथि यानि कल इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है. इस बार का ग्रहण वृषभ राशि में लगेगा. वहीं, पंचांग के अनुसार इस समय रोहिणी नक्षत्र रहेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

कैसे लगता है उपछाया चंद्र ग्रहण

जब धरती की वास्तविक छाया पर ना पहुंच कर चंद्रमा उसकी उपच्छाया से ही लौट जाती है तो इसे उपछाया चंद्रग्रहण कहते हैं. इस स्थिति में चांद पर धुंधली परत भी बन जाती है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ऐसे ग्रहण के दौरान सूतक काल नहीं पड़ता. आमतौर पर ऐसे ग्रहण नंगी आंखों से नहीं दिख पाते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

भारत में नहीं दिखाई देगा चंद्रग्रहण

इस साल का आखिरी चंद्रग्रहण कल लग रहा है. यह चंद्र ग्रहण एशिया, ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर और अमेरिका के कुछ हिस्सों में दिखाई देगा. यह चंद्रग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा, क्योंकि यहां जब चंद्र ग्रहण लगेगा उस समय दोपहर रहेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

इस बार नहीं होगी सूतक काल की मान्यता

चंद्र ग्रहण 30 नवंबर यानि कल दोपहर में लग रहा है. यह चंद्र ग्रहण इस साल का आखिरी है, जो उपछाया चंद्र ग्रहण होगा. धार्मिक और ज्योतिषीय दृष्टि से ग्रहण का लगना अशुभ माना जाता है. ग्रहण में लगने वाले सूतक का विचार किया जाता है. ज्योतिष विद्वानों का मानना है कि उपछाया चंद्र ग्रहण के कारण इस बार सूतक काल मान्य नहीं होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

यहां जानें चंद्र ग्रहण का सही समय

चंद्र ग्रहण कल यानि 30 नवंबर दिन सोमवार की दोपहर 1 बजकर 04 मिनट से शुरू होगा और शाम 5 बजकर 22 मिनट पर समाप्त होगा. चंद्र ग्रहण का परमग्रास दोपहर 3 बजकर 13 मिनट पर को होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

गर्भवती महिलाएं रखें विशेष सावधानी

कल जो ग्रहण लगेगा, वह उपछाया चंद्र ग्रहण होगा. इसका सूतक काल मान्य नहीं होगा. लेकिन गर्भवती महिलाओं को विशेष सावधानी रखनी होगी. ग्रहण काल में गर्भवती महिलाओं के लिए अधिक विचार किया जाता है. माना जाता है कि ग्रहण के हानिकारक प्रभाव से गर्भ में पल रहे शिशु के शरीर पर उसका नकारात्मक असर होता है. इसलिए गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान बाहर नहीं निकलने की सलाह दी जाती है.

email
TwitterFacebookemailemail

क्या है उपछाया चंद्रग्रहण

जब चन्द्रमा पृथ्वी की धूसर छाया में से होकर गुजरता है तो इस तरह की परिस्थिति बनती है. इसे उपच्छाया चन्द्रग्रहण कहते हैं. ज्योतिषीय गणना के अनुसार इस बार चंद्र ग्रहण में सूतक काल मान्य नहीं होगा. इस दौरान मंदिर आदि बंद नहीं किए जाएंगे. पूजा-पाछ को लेकर भी कोई नियम आदि नहीं माना जाएगा. दरअसल यह उपछाया चंद्रग्रहण है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें