1. home Hindi News
  2. opinion
  3. weather update increasing concern from the sweltering metropolis article by pankaj chaturvedi srn

तपते महानगर से बढ़ती चिंता

शहरों की घनी आबादी संक्रामक रोगों के प्रसार का आसान जरिया होते हैं. देश के सभी बड़े शहर इन दिनों कूड़े को निबटाने की समस्या से जूझ रहे हैं.

By पंकज चतुर्वेदी
Updated Date
तपते महानगर से बढ़ती चिंता
तपते महानगर से बढ़ती चिंता
Prabhat Khabar

अभी आगे पूरा मई और जून बकाया है, इस बार तो मनमोहक कहे जाने वाले वसंत के मौसम में हे गर्मी ने जेठ की तपन का अहसास करवा दिया. बहुत कम लोगों को पता होगा कि इस प्रचंड गर्मी ने देश में पिछले 50 साल में 17,000 से ज्‍यादा लोगों की जान ली है. 1971 से 2019 के बीच लू चलने की 706 घटनाएं हुई हैं. शहरीकरण ने इस मौसमी आग में ईंधन का काम किया है, शहर अब जितने दिन में तपते हैं, रात उससे भी अधिक गरम हवा वाली होती है.

जान लें आबादी से उफनते महानगरों में बढ़ता तापमान अकेले संकट नहीं होता, उसके साथ बढ़ती बिजली-पानी की मांग, दूषित होता पर्यावरण भी नया संकट खड़ा करता है. अमरीका की कोलंबिया यूनिवर्सिटी के शीर्ष वैज्ञानिकों के एक अध्ययन के मुताबिक बढ़ती आबादी और गर्मी के कारण देश के चार बड़े शहर नई दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं. वैज्ञानिकों का कहना है कि बाहरी भीड़ को नहीं रोका गया तो तापमान तेजी से बढ़ेगा यह स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह साबित होगा.

पिछली जनगणना के मुताबिक भारत की की कोई 31.1 प्रतिशत आबादी, जो कि 37.7 करोड़ होती है, शहरों में बसती है और अनुमान अहि की सन 2050 तक और 40 करोड़ लोग शहर का रुख करेंगे, ऐसे में शहरों का बढ़ता तापमान न केवल पर्यावरणीय संकट है, बल्कि सामाजिक-आर्थिक त्रासदी-असमानता और संकट का कारक भी बनेगा, गर्मी अकेले शरीर को नहीं प्रभावित करती, इससे इंसान की कार्यक्षमता प्रभावित होती है , पानी और बिजली की मांग बढ़ती है, उत्पादन लागत भी बढ़ती है.

शिकागो विश्वविद्यालय के एक शोध से पता चला है कि वर्ष 2100 तक दुनिया में गर्मी का प्रकोप इतना ज्यादा होगा कि महामारी, बीमारी, संक्रमण से भी ज्यादा लोग भीषण गर्मी, लू और प्रदूषण से मरने लगेंगे. अगर ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन पर जल्द ही लगाम नहीं लगाई गई जो आज से 70-80 साल बाद की दुनिया हमारे रहने लायक भी नहीं रह जाएगी.

शहरों में बढ़ते तापमान के कई कारण हैं – सबसे बड़ा तो शहरों के विस्तार में हरियाली का होम होना. भले ही दिल्ली जैसे शहर दावा करें कि उनके यहां हरियाली की छतरी का विस्तार हुआ है लेकिन हकीकत यह है की इस महानगर में लगने वाले अधिकांश पेड़ पारंपरिक ऊंचे वृक्ष की जगह जल्दी उगने वाले झाड़ हैं, जो कि धरती के बढ़ते तापमान की विभीषिका से निबटने में अक्षम हैं.

शहरी ऊष्मा द्वीप शहरों की कई विशेषताओं के कारण बनते हैं. बड़े वृक्षों के कारण वाष्पीकरण और वाष्पोत्सर्जन होता है जो कि धरती के बढ़ते तापमान को नियंत्रित करता है. वाष्पीकरण अर्थात मिट्टी, जल संसाधनों आदि से हवा में पानी का प्रवाह. वाष्पोत्सर्जन अर्थात पौधों की जड़ों के रास्ते रंध्र कहलाने वाले पत्तियों में छोटे छिद्रों के माध्यम से हवा में पानी की आवाजाही. शहर के डिवायडर पर लेगे बोगेनवेलिया या ऐसी ही हरियाली धरती के शीतलीकरण की नैसर्गिक प्रक्रिया में कोई भूमिका निभाते नहीं हैं.

महानगरों की गगनचुंबी इमारतें भी इसे गरमा रही हैं, ये भवन सूर्य की तपन से गर्मी को प्रतिबिंबित और अवशोषित करते हैं. इसके अलावा, एक-दूसरे के करीब कई ऊंची इमारतें भी हवा के प्रवाह में बाधा बनती हैं, इससे शीतलन अवरुद्ध होता हैं. शहरों की सड़कें उसका तापमान बढ़ने में बड़ी कारक हैं. महानगर में सीमेंट और कंक्रीट के बढ़ते जंगल, डामर की सड़कें और ऊंचे ऊंचे मकान बड़ी मात्रा में सूर्य की किरणों को सोख रहे हैं.

इस कारण शहर में गर्मी बढ़ रही है. वैज्ञानिकों के मुताबिक तापमान में जितनी वृद्धि होगी बीमारियां उतना ही गुणा बढ़ेंगी और लोग मौत के मुंह में समा जाएंगे. सड़क डामर की हो या कंक्रीट की, यह गर्मी को अवशोषित करते हैं और फिर वायुमंडल का तापमान जैसे ही कम हुआ तो उसे उत्सर्जित कर देते हैं. शहर को सुंदर और समर्थ बनाने वाली कंक्रीट की ऊष्मा क्षमता बहुत अधिक होती है और यह ऊष्मा के भंडार के रूप में कार्य करती है. इसके अलावा, शहरों के ऊपर वायुमंडलीय स्थितियों के कारण अक्सर शहरी हवा जमीन की सतह के पास फंस जाती है, जहां इसे गर्म शहरी सतहों से गर्म किया जाता है.

यदि इन शहरों से कोई 50 किलोमीटर दूर किसी कस्बे या या गांव में जाएं तो गर्मी का तीखापन इतना नहीं लगता, गर्मी अपने साथ बहुत सी बीमारियां ले कर आ रही है, गर्मी के कारण शहर के नालों के पानी का तापमान बढ़ता है और यह जल जब नदी में मिलता है तो उसका तापमान भी बढ़ जाता है,

जिससे नदी का जैविक जीवन, जिसमें वनस्पति और जीव दोनों है, को खतरा है, जान लें किसी भी नदी की पावनता में उसमें उपस्थित जैविक तत्वों की अहम् भूमिका होती है. शहरों की घनी आबादी संक्रामक रोगों के प्रसार का आसान जरिया होते हैं. देश के सभी बड़े शहर इन दिनों कूड़े को निबटाने की समस्या से जूझ रहे हैं. कूड़े को एकत्र करना और फिर उसका शमन करना, एक बड़ी चुनौती बनता जा रहा है. यह सब चुनौतियां बढ़े तापमान में और भी दूभर हो जाती हैं .

यदि शहर में गर्मी की मार से बचना है तो अधिक से अधिक पारंपरिक पेड़ों का रोपना जरूरी है, साथ ही शहर के बीच बहने वाली नदियां, तालाब, जोहड़ आदि यदि निर्मल और अविरल रहेंगे तो बढ़ी गर्मी को सोखने में ये सक्षम होंगे, कार्यालयों के समय में बदलाव, सार्वजनिक परिवहन को बढ़ावा, बहुमंजिला भवनों का इकोफ्रेंडली होना, उर्जा संचयन सहित कुछ ऐसे उपाय हैं, जो बहुत कम व्यय में शहर को भट्टी बनने से बचा सकते हैं. हां – अंतिम उपाय तो शहरों की तरफ पलायन रोकना ही होगा.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें