Advertisement

monghyr

  • Oct 23 2019 9:08AM
Advertisement

दूसरी प्रस्तावित सुरंग के लिए ब्लास्टिंग की प्रक्रिया आरंभ

 जमालपुर : पिछले कई वर्षों से प्रतिक्षित मालदा रेल मंडल के जमालपुर रतनपुर रेलवे स्टेशनों के बीच प्रस्तावित दूसरी सुरंग निर्माण का कार्य अंततः मंगलवार से आरंभ हो गया. अपराह्न 13:54 बजे विशेषज्ञों द्वारा सुरंग निर्माण के लिए यहां पहाड़ के जमालपुर साइड में पहला विस्फोट किया गया. सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गये थे. लगातार सायरन बजाये जा रहे थे और एहतियात के तौर पर रेल ट्रैफिक ब्लॉक किया गया था.

 
एक साथ 60 छेदों में किया गया था विस्फोट: बताया गया कि विस्फोट की तैयारी प्रातः से ही आरंभ कर दी गयी थी. जिस क्रम में बूमर मशीन के सहारे ड्रिल से 60 छेद किये गये थे. 
 
इन छेदों की गहराई लगभग 3 मीटर थी. इन्हीं में अत्याधुनिक विस्फोटक को पहले लोड किया गया और रिमोट के सहारे ब्लास्ट कराया गया. ब्लास्ट की आवाज लगभग 1 किलोमीटर तक गूंज गयी. बड़े-बड़े पत्थर के टुकड़े भी लगभग 100 मीटर तक उड़ते हुए पहुंच गए. वैसे एहतियात के तौर पर लगभग 300 मीटर के दायरे को खाली करा लिया गया था.
 
सायरन बजाकर और मेगा फोन से लोगों को किया गया सतर्क : विस्फोट को लेकर सुरक्षात्मक उपाय भी किए गए थे. 12:38 बजे ही विस्फोट स्थल से लोगों को हट जाने की चेतावनी जारी की गयी. 12:54 बजे  विस्फोटक सामग्री लेकर कड़ी सुरक्षा के बीच वाहन पहुंचा. 
 
रेलवे सुरक्षा बल के अधिकारी मोर्चा संभाले हुए थे. वहीं मनोज कुमार मेगा फोन से बार-बार आने-जाने वाले लोगों को आगाह कर रहे थे कि ब्लास्ट होने वाला है. इसलिए आस-पास कोई न रहें, न पहाड़ पर चढ़े. इसके अतिरिक्त भी ब्लास्ट स्थल से लगभग 200 मीटर की दूरी पर लाल रंग का रिबन लगा दिया गया था.
 
कड़ी सुरक्षा के बीच आसनसोल से लाया गया था विस्फोटक : बताया गया कि वास्तव में विस्फोटक को बंगाल के आसनसोल स्थित ईस्ट इंडिया एक्सप्लोसिव कंपनी से मंगाया गया था. 
 
जिसकी आपूर्ति नौवागढ़ी की नूर हसन एक्सप्लोसिव कंपनी द्वारा की गयी. पूरे रास्ते संबंधित थाना द्वारा विस्फोटक लेकर आ रहे वाहन का एस्कॉर्ट किया गया. नौवागढ़ी में रेलवे सुरक्षा बल के अधिकारियों को एस्कॉर्ट की जिम्मेवारी सौंपी गयी. जबकि नया रामनगर थानाध्यक्ष बृजेश कुमार सीमा क्षेत्र से एस्कॉर्ट कर विस्फोट स्थल तक पहुंचे थे.
 
दर्जनों विशेषज्ञ की उपस्थिति में दिया गया अंजाम : सुरंग निर्माण के ब्लास्ट की जिम्मेदारी एबीसीआई गुवाहाटी को मिली है. जिसके दर्जन भर विशेषज्ञ इस कार्य को अंजाम देने में लगे रहे. पहले बूमर मशीन से छेद किया गया. फिर उसमें एक्सप्लोसिव को लोड किया गया और फिर एक ही झटके में धड़ाम की आवाज के साथ विस्फोट करा दिया गया. 
 
इससे पहले विधिवत रूप से वहां धार्मिक अनुष्ठान भी पूरा किया गया था. जहां रेलवे के डिप्टी चीफ इंजीनियर (कंस्ट्रक्शन) रंजीत कुमार, सीनियर सेक्शन इंजीनियर निरंजन कुमार, रेलवे सुरक्षा बल के इंस्पेक्टर फिरोज अख्तर, रामनगर थानाध्यक्ष बृजेश कुमार सहित एनके सिंह मुख्य रूप से उपस्थित थे.
 
Advertisement

Comments

Advertisement

Other Story

Advertisement