Advertisement

gaya

  • Jun 10 2019 7:23AM
Advertisement

आज से नगर निगम में कामकाज के पटरी पर लौटने के आसार

 गया  : नगर निगम में जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों के बीच तीन महीने से जारी विवाद थमने के बाद सोमवार से नगर निगम में कामकाज तेजी से शुरू होने की उम्मीद है. विवाद थमने के बाद कर्मचारियों ने राहत की सांस ली है. वहीं, जलसंकट व नाला सफाई को लेकर लोगों के निशाने पर रहे वार्ड पार्षदों को भी राहत मिली है. 

 
नगर निगम से जुड़े सूत्रों की मानें तो सोमवार से जब निगम का कामकाज शुरू होगा, तो सबसे पहले नालों की सफाई के लिए जमादारों को अग्रिम राशि का भुगतान प्राथमिकता सूची में शामिल रहेगा. इसके लिए शनिवार को मेयर वीरेंद्र कुमार, डिप्टी मेयर मोहन श्रीवास्तव व नगर आयुक्त कंचन कपूर के बीच शांतिपूर्ण माहौल पर मिल-जुलकर काम करने पर सहमति बन चुकी है. सूत्र यह बताते हैं कि जिन बिंदुओं को लेकर विवाद शुरू हुआ, उसे हर हाल में बोर्ड व स्टैंडिंग के जरिये सुलझाया जा सकता है. 
 
 इसके लिए बोर्ड व स्टैंडिंग के सदस्यों के बीच करीब-करीब मौखिक सहमति बन चुकी है. एक पार्षद ने बताया कि इस विवाद को लेकर शहर के लोगों की प्रतिक्रिया यह रही कि भ्रष्टाचार के मसले पर जांच हो, लेकिन यह भी तय हो जाये कि जिम्मेदार पदों पर बैठे लोग जनता के हितों के साथ खिलवाड़ न करें.
 
12 को स्टैंडिंग व बोर्ड की आपात बैठक 
शनिवार को डीएम अभिषेक कुमार ने अपने आवास पर मेयर, डिप्टी मेयर व नगर आयुक्त को बुलाकर एक मीटिंग में विवाद समाप्त कराया था. साथ ही तालमेल बैठा कर काम करने की सलाह दी थी. इस बैठक में नगर आयुक्त ने वित्तीय शक्तियां नहीं होने की बात कही थीं. 
 
इसके बाद मेयर व डिप्टी मेयर ने यह आश्वासन दिया कि बोर्ड व स्टैंडिंग की बैठक में वित्तीय शक्ति छीनने संबंधी जो प्रस्ताव पारित हुआ उस पर विचार किया जा सकता है. इसी को लेकर आगामी 12 जून को सुबह 11 बजे स्टैंडिंग व दोपहर दो बजे बोर्ड की आपात बैठक बुलायी जा सकती है, ताकि बोर्ड व स्टैंडिंग में लिये गये निर्णयों पर पुन: विचार किया जा सके.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement