garhwa

  • Dec 9 2019 5:39PM
Advertisement

गढ़वा : रमकंडा में हाथियों के बाद बाघ का आतंक, एक महिला को मारा, आधा हिस्‍सा खाया

गढ़वा : रमकंडा में हाथियों के बाद बाघ का आतंक, एक महिला को मारा, आधा हिस्‍सा खाया

रमकंडा/गढ़वा : रमकंडा थाना क्षेत्र के कुशवार गांव निवासी नईम नायक की 47 वर्षीय पत्नी कलसिया देवी को रविवार की रात करीब 10 बजे एक बूढ़े बाघ ने बुरी तरह से नोंचकर मार डाला. इस दौरान उक्त बाघ ने शव के आधे हिस्से को पूरी तरह खा लिया. वहीं, दूसरी तरफ भंडरिया थाना क्षेत्र के कुरुण गांव में भी बाघ द्वारा एक भैंस के बच्चे को भी मारकर खाने की पुष्टि हुई है. ग्रामीणों के अनुसार किसी लकड़बग्घे या तेंदुआ द्वारा इस घटना को अंजाम दिये जाने की बात कही जा रही थी. 

 

घटना की सूचना मिलते ही रमकंडा थाना प्रभारी त्रिलोचन तामसोय, एएसआई संतोष कुमार सहित पुलिसकर्मी घटनास्थल पर पहुंचकर मामले की जानकारी ली. वहीं, शव को कब्जे में लेकर अंत्यपरीक्षण के लिए गढ़वा भेज दिया. इसके साथ ही भंडरिया वन क्षेत्र के वनकर्मी कमलेश कुमार, तुषार कुमार, आनंद, ललन और उपेंद्र ने पहुंचकर मामले की जानकारी ली.

 

समाचार के अनुसार मृतक कलसिया देवी अपने झोपड़ीनुमा घर में वर्षों से अकेले रहती थी. रविवार को बाजार से वह चिकन लेकर आयी थी. आशंका व्यक्त की जा रही है कि इसी चिकन के गंध से आदमखोर जानवर वहां पहुंचा. झोपड़ीनुमा घर होने की वजह से आदमखोर जानवर मृतक के घर में घुसकर उसे नोंचकर मार डाला. वहीं, मृतक द्वारा लाये गये चिकन सहित उसके आधे शरीर को खाने के बाद भाग निकला. 

 

जब सुबह मृतक के अन्य परिजनों ने उसे नहीं देखा, तो घर में देखने पर उसका शव क्षत-विक्षत अवस्था में मिला. घटना की जानकारी मिलते ही लोगों की भीड़ जमा हो गयी.  ग्रामीणों ने बताया कि कुछ दिन पहले ही मृतक की पुत्री को धान काटकर लौटने के दौरान हाथी ने पटककर घायल कर दिया था. इधर घटना के बाद गढ़वा जिले के सुदूरवर्ती रमकंडा व भंडरिया वन क्षेत्र में पिछले कई महीनों से हाथियों के आतंक से लोग दहशत में थे.

 

अब बाघ द्वारा एक ही रात में दो जगहों पर घटना को अंजाम देने के बाद पूरे क्षेत्र के लोग दहशत में हैं. इस मौके पर मुखिया अनिता देवी, उपमुखिया मो मोस्ताक अंसारी, धर्मेंद्र ठाकुर, रघुनाथ साव सहित कई लोग थे. 

बाघ ने घटना को दिया है अंजाम : रेंजर 

इस संबंध में जानकारी देते हुये भंडरिया वन क्षेत्र पदाधिकारी गोपाल चंद्रा ने बताया कि जांच के दौरान मिले पदचिह्नों से बाघ द्वारा घटना को अंजाम दिये जाने की पुष्टि हुई है. कहा कि बेतला से निकले बाघ ने रमकंडा के कुशवार में महिला को मारने के बाद कुरुन गांव में भी पहुंचकर एक भैंस के बच्चे को खाया है. प्रशासनिक प्रक्रिया पूरी होते ही वन विभाग द्वारा मृतक के परिजनों को चार लाख रुपये मुआवजे की राशि दी जायेगी. 

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement