Advertisement

crime

  • May 27 2019 6:29AM
Advertisement

हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस से टकराव

  •  तीन दिन से तलाश जारी रहने के बाद भी नहीं मिल रहा था उसका सुराग
  • बढ़ते दुर्गंध के कारण स्थल तक पहुंचे ग्रामीण, पुलिस, योजना के तहत हत्या
  • खोजी कुत्ता के सहयोग से पेड़ के नीचे मिला मृतक का अधजला परिचय पत्र   
आसनसोल :  विगत तीन दिनों से लापता  केडी सिंह कोलियरी निवासी सुमंत रुईदास का शव रविवार की सुबह उसके ग्राम के ईंट भट्ठा के निकट की जमीन को खोद कर पुलिस ने बरामद किया. पुलिस को आशंका है कि पूर्व नियोजित योजना के तहत उसकी हत्या कर हत्यारों ने उसका शव जमीन में दफन कर दिया है.
 
 शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाने पर स्थानीय ग्रामीणों ने  पुलिसकर्मियों को   रोक दिया. वे हत्यारों की गिरफ्तारी तथा उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग कर रहे थे. इस मुद्दे पर पुलिसकर्मियों के साथ उनका जमकर विवाद हुआ.
 
सनद रहे कि मृतक स्थानीय बिस्कुट कारखाने में कार्य करता था. दो दिन पहले रात्रि में कारखाना से निकलने के बाद वह घर नहीं पहुंचा. परिजनों ने पूरी रात उसकी तलाश की. लेकिन कोई सुराग नहीं मिला.
 
 उन्होंने स्थानीय थाने में शिकायत कराने की कोशिश की. लेकिन पुलिस अधिकारियों ने 24 घंटों तक इंतजार करने को कहा. शनिवार की सुबह एक तालाब के पास उसकी साइकिल बरामद हुई. ग्रामीणों को लगा कि उसके साथ अनहोनी हो गई है.
 
 उन्होंने सुबह ही शीतला मोड़ पर नेशनल हाइवे-दो जाम कर दिया. पुलिस पर उन्होंने उसकी तलाश का दबाब बनाया. पुलिस अधिकारियों ने स्थानीय लोगों की मदद से तालाब में काफी देर तक अभियान चलाया. लेकिन उसकी बरामदगी नहीं हो सकी. पुलिस अधिकारियों ने प्रशिक्षित गोताखोरों को बुलाने की पहल की. देर रात्रि तक कोई सुराग नहीं मिला.    
 
रविवार की सुबह बरपुकुरिया तालाब की ओर  स्नान करने जा रहे कुछ ग्रामीणों को निकट के जंगल से भारी दुर्गंध मिली. उन्होँने तुरंत इसकी सूचना दूसरे ग्रामीणों को दी. सूचना पाकर आसनसोल नॉर्थ थाना से पुलिस  अधिकारी ईंट भट्ठा की ओर बढ़े. निकटवर्ती स्थान की खुदाई करने  पर जमीन में दबा शव दिखा. उसे सावधानी से मिट्टी से बाहर निकाला गया. परिजनों ने शव की शिनाख्त लापता सुमंत के रूप में की. इसके बाद ग्रामवासी आक्रोशित हो उठे.
 
पुलिस अधिकारियों ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने की पहल की. लेकिन पुलिस को ग्रामीणों   ने रोक दिया. उनका कहना था कि पुलिस की लापरवाही से ही उसकी हत्या हो गई. पुलिस हत्यारों की शिनाख्त कर तत्काल गिरफ्तार  करें. गिरफ्तारी होने तक शव ले जाने से रोक दिया. उनका कहना था कि एक बार शव चले जाने के बाद पुलिस इसे गंभीरता से नहीं लेगी. 
 
ग्रामीणों के बढ़ते आक्रोश को देखते हुए पुलिस ने खोजी कुत्ते की मदद ली. खोजी कुत्ते को शव के पास लाया गया. कुत्ता शव के बरामदगी स्थल से कुछ दूर  जाकर ताड़ के पेड़ के पास जाकर रुक गया. साथ चल रहे पुलिस ने ताड़ के पेड़ के पास मृतक का अधजला पहचान पत्र बरामद किया. 
 
मृतक के पिता श्यामा रुईदास ने कहा कि हत्यारे आसपास के ही हो सकते हैं. परिजनों ने हत्यारों को तुरंत गिरफ्तार करने की मांग की. पुलिस अधिकारी ने कहा कि पोस्टमार्टम के बाद स्थिति और स्पष्ट हो सकेगी. हत्यारों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जायेगा. 
 
मेयर परिषद सदस्य (क्रीड़ा व संसकृति) अभिजीत घटक, मेयर परिषद सदस्य ( रोजगार व आदिवासी उन्नयन) श्याम सोरेन के समझाने और सहयोग का आश्वासन  देने पर ग्रामीण शव ले जाने देने को तैयार हुए. आसनसोल नॉर्थ थाना प्रभारी शांतनू अधिकारी ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है. उन्होंने इसे साजिश के तहत की गयी हत्या बताया. 
 

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement