1. home Home
  2. election
  3. up assembly elections
  4. up chunav 2022 more than 27 thousand voters name removed from list in gorakhpur during voter list revision know the reason acy

UP Chunav 2022: गोरखपुर में मतदाता सूची पुनरीक्षण के दौरान 27 हजार से अधिक वोटरों के नाम कटे, जानें वजह

निर्वाचन आयोग के निर्देश पर गोरखपुर में 1 नवंबर से चल रहे मतदाता सूची पुनरीक्षण कार्यक्रम के तहत गोरखपुर में अब तक 27 हजार से अधिक मतदाताओं के नाम निरीक्षण सत्यापन के बाद हटा दिया गया है.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Gorakhpur
Updated Date
मतदाता सूची पुनरीक्षण
मतदाता सूची पुनरीक्षण
फाइल फोटो

UP Chunav 2022: उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर निर्वाचन विभाग के द्वारा गोरखपुर जनपद में मतदाता सूचियों का एक बार फिर से सुधार किया जा रहा है. इस दौरान जनपद के 27 हजार से अधिक मतदाताओं का नाम सूची से काट दिया गया. यह वह लोग हैं, जिनका नाम मतदाता सूची में एक बार से अधिक बार शामिल है. निर्वाचन आयोग के विशेष सॉफ्टवेयर की मदद से फोटो पीएसई श्रेणी में जिले में बड़ी संख्या में मतदाताओं को चिन्हित किया गया था.

निर्वाचन आयोग के सॉफ्टवेयर के द्वारा फोटो सिमिलर एंट्री के तहत जनपद के कई मतदाताओं की सूची तैयार की गई थी, जिसमें सत्यापन के बाद 27 हजार से भी अधिक लोगों के नाम मतदाता सूची से हटा दिए गए हैं.

दरअसल, जिला प्रशासन को निर्वाचन आयोग की तरफ से तकरीबन 60 हजार की संख्या में मतदाताओं की सूची दी गई थी जिनके पास एक से अधिक वोटर आईडी कार्ड हैं. निर्वाचन आयोग के सॉफ्टवेयर में एक जैसे दिखने वाले 60 हजार से अधिक वोटरों की पहचान करने के बाद निर्वाचन आयोग ने सूची तैयार कर जिला प्रशासन को भेजा. उसके बाद जिलाधिकारी गोरखपुर विजय किरण आनंद ने संबंधित बीएलओ को सत्यापन की जिम्मेदारी सौंपी, जिसके बाद जनपद के 27 हजार से अधिक वोटरों के नाम दो बूथों की मतदाता सूची पर दर्ज पाए गए. इस पर उनके नाम अब मतदाता सूची से हटा दिए गए हैं. बाकी के बचे हुए नामों का भी सत्यापन कराया जा रहा है.

बता दें, निर्वाचन आयोग के पास एक विशेष प्रकार का सॉफ्टवेयर है, जिस पर फोटो सिमिलर एंट्री प्रोग्राम से यह पता चला कि ऐसे मतदाता जो एक जैसे दिखते हैं, उनकी सूची को दोबारा से सत्यापन के लिए जिला प्रशासन को दिया गया. हालांकि इस लिस्ट में कुछ वह भी नाम शामिल हैं, जिनके चेहरे दूसरे मतदाताओं से मिलते जुलते होने की वजह से सॉफ्टवेयर ने उन्हें भी एक ही व्यक्ति मान लिया था. उनका भी सत्यापन कराया जा रहा है, लेकिन उनके नाम मतदाता सूची से नहीं हटाया जाएगा.

(रिपोर्ट- अभिषेक पांडेय, गोरखपुर)

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें