1. home Hindi News
  2. career
  3. jee main result 2021 saket topper of bihar anmol came first in the state asj

JEE Main Result 2021: बिहार के साकेत टॉपर, अनमोल राज्य में आये अव्वल

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
साकेत झा
साकेत झा
प्रभात खबर

अनुराग, पटना. नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने जेइइ मेन फरवरी 2021 का रिजल्ट सोमवार की देर रात जारी कर दिया. इसमें छह स्टूडेंट्स ने 100 पर्सेंटाइल स्कोर हासिल किया है. वहीं, 41 स्टूडेंट्स टॉपर्स की लिस्ट में शामिल किये गये हैं.

100 स्कोर पाने वाले छह अभ्यर्थियों में बिहार के साकेत झा भी हैं. बिहार के अनमोल कुमार ने भी 99.987526 पर्सेंटाइल स्कोर हासिल कर बिहार का परचम लहराया है. अनमोल जेइइ मेन फरवरी 2021 के बिहार के टॉपर हैं. रिजल्ट एनटीए की वेबसाइट jeemain.nta.nic.in पर जाकर देख सकते हैं.

साकेत मूल रूप से शिवहर के चिरैया बराही (पोस्ट: बराही मोहन, थाना: पुरनहिया) गांव के रहने वाले हैं. हालांकि, साकेत ने राजस्थान से फॉर्म भरा था. वह नौवीं से ही कोटा में रह कर पढ़ाई कर रहे थे. उन्होंने डीडीपीएस, कोटा से 10वीं की परीक्षा 94 प्रतिशत के साथ पास की.

साकेत की आठवीं तक की पढ़ाई डीपीएस, बोकारो में हुई है. इनके पिता संजय कुमार झा राज्य संपोषित उच्च विद्यालय, टांड़ बालीडीह, बोकारो के प्राचार्य हैं. माता सुनीता झा गृहिणी हैं. साकेत की सफलता से परिवार काफी खुश है. इनके गांव शिवहर के चिरैया बराही से लेकर बोकारो तक लोग खुशी मना रहे हैं.

मालूम हो कि इस साल चार बार जेइइ मेन होना है. फरवरी के बाद मार्च, अप्रैल व मई में यह परीक्षा होगी. मई की परीक्षा के बाद चारों परीक्षा के आधार ऑल इंडिया रैंक जारी होगा. इस रैंक के आधार पर ढाई लाख स्टूडेंट्स जेइइ एडवांस में बैठेंगे. जेइइ एडवांस में सफल स्टूडेंट्स का आइआइटी में एडमिशन होता है.

कुछ देर के लिए वेबसाइट क्रैश

रिजल्ट जारी होने के साथ जेइइ मेन की वेबसाइट कुछ देर के लिए क्रैश हो गयी थी. काफी देर के बाद जाकर रिजल्ट का विंडो खुला. जेइइ मेन के स्कोर के आधार पर ही देश के 31 एनआइटी सहित देश के अन्य प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग कॉलेजों में एडमिशन का मौका मिलेगा.

एनसीइआरटी आधारित सिलेबस पर किया फोकस : साकेत

100 पर्सेंटाइल लाकर टॉपर बनने वाले साकेत कहते हैं कि मैं चार साल से कोटा में पढ़ाई कर रहा हूं. जेइइ की तैयारी के लिए एनसीइआरटी आधारित सिलेबस पर फोकस किया. ज्यादा-से-ज्यादा रिवीजन किया. मेरी कोशिश रहती थी कि पढ़ते समय ज्यादा-से-ज्यादा डाउट्स सामने आएं, ताकि फैकल्टीज से उसे क्लीयर कर सब्जेक्ट पर मजबूती बना सकें.

अब जेइइ एडवांस क्रेक करने के साथ 12वीं में बेहतर करने का लक्ष्य है. साकेत पांचवीं से आठवीं तक आर्यभट मैथेमेटिक्स ओलंपियाड में रैंक वन हासिल करते रहे हैं. क्लास 11 में एनएसइए लेवल फर्स्ट व आरएमओ क्वालिफाइड हैं.

एक बहन पारूल अभी रिम्स, रांची से एमबीबीएस कर रही हैं. उनसे छोटी बहन आकांक्षा बीआइटी, सिंदरी से सिविल इंजीनियरिंग में बीटेक कर रही हैं. सबसे बड़ी बहन शिप्रा कोल इंडिया में असिस्टेंट मैनेजर हैं.

Posted by Ashish Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें