1. home Hindi News
  2. tech and auto
  3. modi govt whatsapp chatbot mygov corona helpdesk surpass 30m users know details rjv

Modi Govt के व्हाट्सऐप चैटबॉट ने बनाया रिकाॅर्ड, कोरोना वायरस से लड़ाई में बना हथियार

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
whatsapp chatbot for covid19 fight
whatsapp chatbot for covid19 fight
fb

Covid19, WhatsApp Chatbot: कोरोना वायरस (Coronavirus) से लड़ाई में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की सरकार ने व्हाट्सऐप (WhatsApp) पर एक नया रिकॉर्ड बना दिया है. कोरोना वायरस से लड़ने के लिए WhatsApp पर पिछले साल लॉन्च किये गए चैटबॉट (Chatbot) ने एक खास रिकॉर्ड बना लिया है. कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में आम लोगों की मदद के लिए ये खास चैटबॉट मददगार साबित हो रहा है.

MyGov Corona Helpdesk ने बनाया नया रिकॉर्ड

रिपोर्ट के मुताबिक, MyGov Corona Helpdesk ने WhatsApp में खास रिकॉर्ड बनाया है. COVID-19 की सटीक जानकारी और फेक न्यूज से लड़ने के लिए तैयार इस चैटबॉट (Chatbot) ने 3 करोड़ का आंकड़ा छू लिया है. सालभर में किसी चैटबॉट से जुड़ने का ये अनूठा मामला है.

चैटबॉट देता है कोरोना से जुड़ी जानकारी

सरकार का कोरोना वायरस संबंधित सूचना के साथ लोगों की मदद के लिए व्हाट्सऐप पर शुरू किये गये आधिकारिक 'चैटबॉट' का उपयोग करने वालों की संख्या तीन करोड़ को पार कर गयी है. एक सरकारी अधिकारी ने यह जानकारी दी. चैटबॉट एक कंप्यूटर प्रोग्राम है, जिसके जरिये संदेश देकर अथवा 'वॉयस कमांड' के जरिये सवाल पूछे जा सकते हैं और जानकारी ली जा सकती है. यह AI यानी कृत्रिम मेधा (Artificial Intelligence) पर आधारित होता है जिसका उपयोग मैसेजिंग ऐप के जरिये किया जा सकता है.

व्हाट्सऐप यूजर्स के लिए मुफ्त में उपलब्ध

स्वास्थ्य मंत्रालय और माई गॉव द्वारा शुरू आधिकारिक व्हाट्सऐप चैटबॉट व्हाट्सऐप उपयोग करने वालों के लिए मुफ्त में उपलब्ध है. इसका विकास कृत्रिम मेधा पर केंद्रित स्टार्टअप हैपतिक (Haptik) ने किया है. माई गॉव और डिजिटल इंडिया के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) अभिषेक सिंह ने डिजिटल तरीके से आयोजित सम्मेलन में कहा कि उन्होंने चैटबॉट के लिए हैपतिक को 13 मार्च को कॉल किया था और उसके 5-6 दिन बाद स्वास्थ्य मंत्रालय से मंजूरी के बाद इसे शुरू किया गया.

उन्होंने कहा कि एक साल में माई गॉव कोरोना हेल्पडेस्क टीकाकरण के बारे में जानकारी देने वाली महत्वपूर्ण प्रणाली बन गयी है और यह को-विन के बारे में भी सूचना दे रहा है. सिंह ने कहा कि हमने जो कठित मेहनत की, उसी का परिणाम है कि एक साल में ही ही इसके उपयोगकर्ताओं की संख्या 3.15 करोड़ पहुंच गयी है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें