1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. calcutta
  5. three arrested for black marketing of rice in kolkata amid coronavirus fight 343 bags of rice seized

कोरोना के खिलाफ जंग के बीच कोलकाता में चावल की कालाबाजारी करने वाले तीन गिरफ्तार, 343 बोरी चावल जब्त

By Mithilesh Jha
Updated Date
Image for Representation Only.
Image for Representation Only.

कोलकाता : पश्चिम बंगाल (West Bengal) समेत पूरे देश में लॉकडाउन (Lockdown) घोषित है. केंद्र और राज्य सरकार ने स्पष्ट निर्देश दिये हैं कि कोई अनाज की जमाखोरी न करे. उसकी कालाबाजारी (Black Marketing) न करे. मुश्किल घड़ी में मुनाफाखोरी न करें. लेकिन, कोलकाता (Kolkata) के एक चावल व्यापारी (Rice Businessman) के लिए तो मानो लॉकडाउन जैसे वरदान के रूप में आया हो. उसने अनाज की कालाबाजारी शुरू कर दी. प्रशासन को जानकारी हुई, तो उसे गिरफ्तार कर लिया गया.

मामला प्रदेश की राजधानी कोलकाता के काशीपुर थाना क्षेत्र का है. थाना की पुलिस ने काशीपुर में चावल की कालाबाजारी करने वाले इस व्यापारी को गिरफ्तार कर लिया है. व्यापारी का नाम संतोष कुमार अग्रवाल उर्फ पप्पू है. उसके साथ इस धंधे में शामिल उसके साथियों को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

पप्पू के गोदाम से पुलिस ने चावल की 343 बोरियां जब्त की हैं. जानकारी के मुताबिक, पुलिस को खबर मिली थी कि काशीपुर इलाके में चावल का व्यवसाय करने वाले संतोष कुमार अग्रवाल उर्फ पप्पू काफी ऊंची कीमत पर चावल बेच रहा है. उसके गोदाम में चावल की बोरियों का बहुत बड़ा स्टॉक है. वह इसे बहुत ऊंची कीमत पर बेच रहा है.

इसकी जानकारी मिली, तो काशीपुर थाना की पुलिस ने अभियान चलाकर उस व्यापारी के गोदाम पर छापामारी की. पुलिस ने उसके गोदाम में मौजूद चावल की सभी बोरियों को जब्त कर लिया. इसके बाद आरोपी व्यापारी की मदद करने वाले दो और लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया.

अब पुलिस इन लोगों से पूछताछ कर रही है कि ये कब से ऐसा कर रहे थे. अब तक कालाबाजारी करके इन्होंने कितना मुनाफा कमाया है. पुलिस ने इनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली है और कहा है कि मुश्किल घड़ी में मुनाफाखोरी करने वाले इन व्यापारियों पर कठोर कार्रवाई होगी.

उल्लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ-साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी देश के लोगों से बार-बार अपील की है कि यह मुश्किल वक्त है. यह वक्त मुनाफा कमाने का नहीं है. बाजार में किसी चीज का नकली संकट दिखा, तो ऐसा करने वालों के खिलाफ कानून अपना काम करेगा.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें