वार्ड के हर क्षेत्र में सफाई को लेकर लोगों की नाराजगी चरम पर

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
  • वार्ड संख्या चार में नौ हजार की आबादी पर सिर्फ पांच सफाई कर्मी
  • कूड़ेदान की कमी के कारण कचड़ा जहां-तहां बिखरा पड़ा, नालियां जाम
  • मच्छरों के प्रकोप से लोग परेशान, बीमारी फैलने की आशंका प्रबल
जामुड़िया : नगर निगम के बोरो एक अंतर्गत जामुड़िया में वार्ड संख्या चार में सफाई कर्मियों की भारी कमी के अभाव में इलाके की सफाई व्यवस्था बुरी तरह प्रभावित है. जिसे लेकर लोगों में भारी नाराजगी है. वार्ड के हर क्षेत्र में कचड़ा भरा है. नियमित सफाई की कोई व्यवस्था न होने से गंदगी के कारण मच्छरों का प्रकोप भारी बढ़ गया है.
बोरो एक के चेयरमैन सह पार्षद शेख शानदार ने कहा कि सफाई कर्मियों की कमी के बावजूद इलाके में सफाई व्यवस्था दुरुस्त है. नियमित सफाई के साथ कीटनाशक और ब्लीचिंग पावडर का छिड़काव किया जाता है. पार्षद का दावा जमीनी हकीकत से काफी दूर है. नौ हजार की आबादी वाले इस वार्ड में सफाई कर्मियों की संख्या महज पांच है.
आंखों देखी.
वार्ड के मस्जिद पाड़ा, जामुड़िया हाटतला, ग्वालापाड़ा, कालीमंदिर इलाके में जहां-तहां कचड़ा का ढ़ेर पड़ा है. रानीसती लेन स्थित गली को लोगों ने पेशाबखाने में तब्दील कर दिया है. दुर्गंध के कारण यहां के लोगों का रहना मुश्किल हो गया है. इलाके में कूड़ेदान की कमी के कारण लोग जहां-तहां कचड़ा फेंकने को मजबूर हैं.
क्या कहते हैं स्थानीय नागरिक?
ग्वालापड़ा निवासी रफीक मियां ने कहा कि उनके मोहल्ले में जहां-तहां कचड़ा फैला रहता है. सफाई कर्मी 3 से 4 माह के अंतराल पर आते हैं.
ग्वालापाड़ा निवासी शिवकरण यादव ने कहा कि छह-सात माह पूर्व सफाई कर्मी इलाके में फैले कचड़ा को साफ कर गए थे. उसके बाद दोबारा वे इलाके में नहीं आए.
्वालापाड़ा के निवासी मानकर यादव ने कहा कि इलाके में गंदगी की भरमार है. कुछ माह पूर्व पार्षद से शिकायत करने पर इलाके में सफाई की गई थी. नियमित सफाई न होने से स्थिति पुनः वही बन गयी है.
जामुड़िया बाजार इलाके के निवासी विश्वनाथ यादव ने कहा कि क्लीन आसनसोल,ग्रीन आसनसोल सिर्फ नारा बनकर रह गया है. फॉगिंग मशीन वैज्ञानिक तरीके से जन बहुल क्षेत्र से होकर गुजर जाती है. नालियों में कीटनाशक और ब्लीचिंग पावडर का छिड़काव नहीं किया जाता है. हर नाली में मच्छर का लार्वा भरा पड़ा है. सफाई के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की जा रही है.
रानीसती लेन के निवासी बजरंग केसरी ने कहा कि उनके इलाके में नियमित सफाई ना होने से जगह-जगह कचड़ा भरा पड़ा है. कभी कभार सफाई कर्मी आते हैं. वे लोग अपने हिसाब से जैसे-तैसे काम करके चले जाते हैं.
डॉ पंकज बैनर्जी लेन इलाके के निवासी अशोक बनर्जी ने कहा कि उनके मोहल्ले में साफ सफाई नियमित रूप से नहीं होती है. चारों तरफ गंदगी फैली रहती है. नालियां जाम होकर ओवरफ्लो हो रही है. शिकायत करने पर कभी-कभार साफ सफाई कर दी जाती है.
क्या कहते हैं वार्ड पार्षद?
जामुड़िया बोरो चेयरमैन सह चार नंबर वार्ड के पार्षद शेख शानदार का कहना है कि उनके वार्ड में नियमित रूप से सफाई होती है. कुल 5 सफाईकर्मी हैं. कीटनाशक तथा ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव नियमित रूप से किया जाता है. वार्ड में कूड़ेदान की कमी है. कहीं से भी कचड़ा अधिक होने की शिकायत मिलते ही तत्काल सफाई करवाई जाती है. सफाई कर्मियों की संख्या बढ़ाने के लिए नगर निगम में अपील की गयी है.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें