रैंडमाइजेशन के बाद सभी की गई सुरक्षित

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

विधानसभा क्षेत्र वार नंबरों का डाटा किया गया लोड कंप्यूटरों में

2446 बूथों के लिए 3183 बीयू, 3154 सीयू, 3213 वीवीपीएटी आवंटन
आसनसोल : जिलाशासक शशांक सेठी ने शुक्रवार को अड्डा भवन के सभागार में सभी राजनैतिक पार्टी के प्रतिनिधियों की उपस्थिति में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (इवीएम) को रैंडमाइजेशन (अक्रमिकरण) के जरिये सभी नौ विधानसभाओं के लिए सुरक्षित कर लिया. इवीएम का दुबारा अक्रमिकरण विधानसभा स्तर पर करके होगा.
जिसके बाद ही सभी बूथों पर इवीएम को भेजा जायेगा. अतिरिक्त जिलाशासक (चुनाव) अरिंदम राय, जिला चुनाव प्रभारी सुसमय विश्वास, जिला इवीएम प्रभारी अरूमय भट्टाचार्य आदि उपस्थित थे.
लोकसभा चुनाव पारदर्शी तथा निष्पक्ष कराने के उद्देश्य से चुनाव आयोग हर प्रकार की सावधानी बरत रहा है. जिला में भेजी गई इवीएम की बैलट यूनिट (बीयू), कंट्रोल यूनिट (सीयू) और वोटर वेरिफिकेशन पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपीएटी) मशीनों का आंकड़ा नंबर के आधार पर इलेक्शन मैनेजमेंट सिस्टम (ईएमएस) के वेब एप्लिकेशन में अपलोड किया गया है. पश्चिम बर्दवान जिले में 2446 बूथों के लिए 3183 बीयू, 3154 सीयू और 3213 वीवीपीएटी आवंटन किया गया है. फर्स्ट लेवल चेकिंग (एफएलसी) के बाद इन मशीनों को चुनाव कराने योग्य घोषित किया गया है.
इन मशीनों की सूची ईएमएस में अपलोड की जा चुकी है. विधानसभा क्षेत्र में भेजी जानेवाली इवीएम में पारदर्शिता बरतने के लिए चुनाव आयोग के निर्देश पर शुक्रवार को जिले में अक्रमिकरण की प्रक्रिया सभी राजनैतिक पार्टी के प्रतिनिधियों की उपस्थिति में की गई. इस प्रक्रिया में ईएमएस के वेब एप में अपलोड इवीएम के नंबरों को कम्प्यूटर ने अपने हिसाब से अक्रमिकरण करके सभी विधानसभा के लिए मशीनों को छांट दिया. प्रोजेक्टर के जरिये अक्रमिकरण की प्रकिया राजनैतिक पार्टी के प्रतिनिधियों की संतुष्टिकरण तक जारी रही.
जिलाशासक श्री सेठी ने बताया कि इस प्रक्रिया के अपनाने से यह विवाद समाप्त हो गया कि प्रशासन ने अपने हिसाब से इवीएम की बूथों पर भेजा. एफएलसी में पहले से ही मशीनों की जांच पार्टी प्रतिनिधियों ने कर ली है. इसलिए इवीएम में धांधली को लेकर किसी प्रकार का कोई आरोप बेबुनियाद होगा.
जिला में कुल नौ विधानसभा पांडेश्वर, दुर्गापुर पूर्व, दुर्गापुर पश्चिम, रानीगंज, जामुड़िया, आसनसोल दक्षिण, आसनसोल उत्तर, कुल्टी और बाराबनी में किन –किन नंबरों की इवईम भेजी जायेगी, इसका अंतिम निर्णय कर लिया गया. अब किस बूथ पर कौन सी इवीएम जायेगी, इसे लेकर विधानसभा के लिए चयनित मशीनों को लेकर अक्रमिकरण की प्रक्रिया अपनायी जायेगी. उसके उपरांत ही इवीएम को सभी बूथों पर भेजा जायेगा.
उन्होंने कहा कि सभी विधानसभा क्षेत्र में मशीनों को भेजने के बाद बची हुई अतिरिक्त मशीन जिला प्रशासन के पास रहेगी. चुनाव के दिन यदि किसी बूथ पर इवीएम में गड़बड़ी हुयी तो यहां से भेजी जायेंगी.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें