1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. parents passing through barbed wire to take their children to school on time in agra sht

अभिभावकों की ये कैसी अग्निपरीक्षा! बच्चों को समय से स्कूल पहुंचाने के लिए कटीले तारों से गुजरते पेरेंट्स

आगरा के एक स्कूल में बच्चों को समय से ले जाने के लिए अभिभावकों को कटीले तारों के बीच से निकलना पड़ता है, जिसका वीडीयो अब तेजी से वायरल हो रहा है. इस वीडियो में अभिभावक अपने मासूम बच्चों को जोखिम उठाते हुए कटीले तारों की फेंसिंग के बीच से निकालते हुए नजर आ रहे हैं.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Agra
Updated Date
कटीले तारों से गुजरते छात्र और पेरेंट्स
कटीले तारों से गुजरते छात्र और पेरेंट्स
Prabhat khabar

Agra News: स्कूल में बच्चों को समय से ले जाने के लिए अभिभावकों का कटीले तारों के बीच से निकलने का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. इस वीडियो में अभिभावक अपने मासूम बच्चों को जोखिम उठाते हुए कटीले तारों की फेंसिंग के बीच से निकालते हुए नजर आ रहे हैं.

जिला प्रशासन ने दिया आश्वासन

सोशल मीडिया पर वायरल हुए इस वीडियो को खुद अभिभावकों ने बनाया है. वहीं इस मामले की शिकायत आगरा के जिलाधिकारी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से भी की गई है. जिला प्रशासन इस समस्या को ज.ल्द दूर करने की बात कह रहा है.

कड़ी मशक्कत के बाद स्कूल पहुंचते हैं छात्र

प्राप्त जानकारी के अनुसार, शहर के थाना न्यू आगरा क्षेत्र के अंतर्गत दयालबाग क्षेत्र में दिल्ली पब्लिक स्कूल की जूनियर विंग स्थित है. वहीं स्कूल के आसपास कई फार्म हाउस और खेत मौजूद हैं. जिन पर कटीली फेंसिंग लगी हुई है. सुबह स्कूल जाते समय रास्ता सकरा होने के चलते इस रास्ते पर जाम की स्थिति पैदा हो जाती है. इस बीच अभिभावकों को बच्चों को समय से स्कूल पहुंचाने के लिए कड़ी मशक्कत का सामना करना पड़ता है.

कटीले तारों के बीच से गुजरते हैं छात्र और अभिभावक

दरअसल, सुबह जब अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल छोड़ने जाते हैं, तो रास्ते पर अत्यधिक वाहन होने के चलते जाम लग जाता है. जिससे अभिभावकों को बच्चों के स्कूल पहुंचने में देरी का अंदेशा होता है. जिसके बाद उन्हें बच्चों को समय से पहुंचाने के लिए खेतों में लगी हुई कटीले तारों की फेंसिंग के बीच से निकालना पड़ता है. ऐसे में कई बार बच्चे फेंसिंग से चोटिल हो जाते हैं और उन्हें खरोच तक आ जाती है. जिसके बाद अभिभावक अपने बच्चों को टिटनेस से बचाने के लिए इंजेक्शन भी लगवाते हैं. इस समस्या के चलते रोजाना अभिभावकों को इस प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है.

रिपोर्ट- राघवेंद्र गहलोत

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें