1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. ballia
  5. for the convenience of the people in the lockdown transactions are going on in banks but the problem of congestion in many banks and non adherence to social distance is coming to the notice

बैंक एकाउंट के अंतिम अंक के आधार पर निकासी की तय होगी तारीख

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
पेज तीन की लीड.....बैंक एकाउंट के अंतिम अंक के आधार पर निकासी की तय होगी तारीख
पेज तीन की लीड.....बैंक एकाउंट के अंतिम अंक के आधार पर निकासी की तय होगी तारीख

बलिया : लॉकडाउन में लोगों की सुविधा के लिए बैंकों में लेनदेन जारी है, लेकिन कई बैंकों में भीड़ होने और सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं होने की समस्या संज्ञान में आ रही है. इसी भीड़ को नियंत्रित रखने व सोशल डिस्टेंस अनुपालन सुनिश्चित कराने के लिए वित्त मंत्रालय खाता संख्या के अंतिम अंक के आधार पर निकासी की तारीख तय की है. उसी आधार पर बैंकों से धन की निकासी हो सकेगी.जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने बताया कि जिनके बैंक एकाउंट का अंतिम अंक 6 से 7 होगा, वे 8 अप्रैल को निकासी के लिए अपने बैंक शाखा में जायेंगे. इसी तरह जिनके खाता में अंतिम अंक 8 से 9 होगा वे 9 अप्रैल को, 0 से 1 अंक वाले 10 अप्रैल को, खाता संख्या के अंतिम 2 से 3 अंक वाले 13 अप्रैल को और 4 से 5 अंक वाले खाता धारक 15 अप्रैल को निकासी के लिए बैंक में जायेंगे. जिलाधिकारी ने सभी शाखा प्रबंधकों से कहा है कि इस महामारी के दृष्टिगत खाताधारकों द्वारा धनराशि की निकासी के लिए इन तिथियों का फ्लैक्स बाहर लगवाएं. बैंक में सोशल डिस्टेंस का पालन कराते हुए ही लेनदेन का कार्य हों. जिले के अग्रणी जिला प्रबंधक डीके सिन्हा को भी यह सुनिश्चित कराने को कहा है. उन्होंने यह भी कहा है कि पुलिस विभाग के अधिकारी भी भ्रमण के दौरान बैंकों पर निरीक्षण करते रहें. कहीं उल्लंघन मिले तो संबंधित बैंक या उपभोक्ता के विरुद्ध कार्यवाही भी होगी. महिलाओं की बैंकों पर लग रही लंबी कतारबैंकों के बाहर लगी महिलाओं की भीड़ को हटाने में नाकाम दिख रही पुलिस बलिया: कोरोना वायरस के मद्देनजर केंद्र सरकार ने गरीब महिलाओं के जनधन खाते में गरीब कल्याण योजना के तहत पांच सौ रुपये की धनराशि भेजी गयी थी, जिसे सरकार ने सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए महिलाओं को अपने बैंक शाखा पर खाता नंबर के अंतिम अंकों के आधार पर जाकर धनराशि निकासी का फरमान जारी किया था. बावजूद इसके बैंकों की शाखाओं पर महिलाओं की लंबी कतारें लग रही हैं. जिससे बैंक कर्मचारी से लेकर अधिकारी तक परेशान हैं. उनकी समझ में नहीं आ रहा है कि आखिर इस समस्या से किस तरीके से निबटा जाये. बैंकों में महिलाओं की भीड़ को देखने के बाद भी पुलिस प्रशासन इसे गंभीरता से नहीं ले रहा है. इससे बैंकों में पहुंची महिलाएं सुबह में ही बैंक की शाखाओं पर जाकर कतारबद्ध हो जा रही हैं. बैंकों के बाहर लगी भीड़ को हटाने में जहां बैंक प्रशासन नाकाम है, वहीं जिला प्रशासन भी कहीं भी एक्शन में नहीं दिख रहा है. ऐसे में ग्राहकों की बैंकों के बाहर लंबी कतार लग जा रही है. इस पर गहरी नाराजगी जताते हुए बैंक के जिला अग्रणी प्रबंधक दिनेश कुमार विश्वकर्मा ने एक पत्र जारी करते हुए सोशल डिस्टेंस का हर हाल में पालन करने का निर्देश दिया है. इस पत्र को पुलिस अधीक्षक को भेजकर इसे कड़ाई से पालन करने को कहा है. बता दें कि देश के प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने 25 मार्च को पूरे देश को लॉकडाउन की घोषणा की थी. इसी दौरान केंद्र सरकार ने गरीब महिलाओं के जनधन खाते में गरीब कल्याण योजना के तहत पांच सौ रुपये की धनराशि खाते में भेज दिया, जिसे निकालने के लिए महिलाओं का हुजूम बैंक शाखाओं और बैंकों के ग्राहक सेवा केंद्रों पर उमड़ रही है. हर बैंकों पर महिलाओं का हुजूम देखकर जिला अग्रणी बैंक ने सोशल डिस्टेंस लागू कराने के लिए सभी बैंकों के शाखा प्रबंधकों व पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखा है. --------

जिलाधिकारी ने सभी शाखा प्रबंधकों से कहा है कि इस महामारी के दृष्टिगत खाताधारकों द्वारा धनराशि की निकासी के लिए इन तिथियों का फ्लैक्स बाहर लगवाएं. बैंक में सोशल डिस्टेंस का पालन कराते हुए ही लेनदेन का कार्य हों. जिले के अग्रणी जिला प्रबंधक डीके सिन्हा को भी यह सुनिश्चित कराने को कहा है. उन्होंने यह भी कहा है कि पुलिस विभाग के अधिकारी भी भ्रमण के दौरान बैंकों पर निरीक्षण करते रहें. कहीं उल्लंघन मिले तो संबंधित बैंक या उपभोक्ता के विरुद्ध कार्यवाही भी होगी. महिलाओं की बैंकों पर लग रही लंबी कतारबैंकों के बाहर लगी महिलाओं की भीड़ को हटाने में नाकाम दिख रही पुलिस बलिया: कोरोना वायरस के मद्देनजर केंद्र सरकार ने गरीब महिलाओं के जनधन खाते में गरीब कल्याण योजना के तहत पांच सौ रुपये की धनराशि भेजी गयी थी, जिसे सरकार ने सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए महिलाओं को अपने बैंक शाखा पर खाता नंबर के अंतिम अंकों के आधार पर जाकर धनराशि निकासी का फरमान जारी किया था.

बावजूद इसके बैंकों की शाखाओं पर महिलाओं की लंबी कतारें लग रही हैं. जिससे बैंक कर्मचारी से लेकर अधिकारी तक परेशान हैं. उनकी समझ में नहीं आ रहा है कि आखिर इस समस्या से किस तरीके से निबटा जाये. बैंकों में महिलाओं की भीड़ को देखने के बाद भी पुलिस प्रशासन इसे गंभीरता से नहीं ले रहा है. इससे बैंकों में पहुंची महिलाएं सुबह में ही बैंक की शाखाओं पर जाकर कतारबद्ध हो जा रही हैं. बैंकों के बाहर लगी भीड़ को हटाने में जहां बैंक प्रशासन नाकाम है, वहीं जिला प्रशासन भी कहीं भी एक्शन में नहीं दिख रहा है. ऐसे में ग्राहकों की बैंकों के बाहर लंबी कतार लग जा रही है. इस पर गहरी नाराजगी जताते हुए बैंक के जिला अग्रणी प्रबंधक दिनेश कुमार विश्वकर्मा ने एक पत्र जारी करते हुए सोशल डिस्टेंस का हर हाल में पालन करने का निर्देश दिया है. इस पत्र को पुलिस अधीक्षक को भेजकर इसे कड़ाई से पालन करने को कहा है. बता दें कि देश के प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने 25 मार्च को पूरे देश को लॉकडाउन की घोषणा की थी. इसी दौरान केंद्र सरकार ने गरीब महिलाओं के जनधन खाते में गरीब कल्याण योजना के तहत पांच सौ रुपये की धनराशि खाते में भेज दिया, जिसे निकालने के लिए महिलाओं का हुजूम बैंक शाखाओं और बैंकों के ग्राहक सेवा केंद्रों पर उमड़ रही है. हर बैंकों पर महिलाओं का हुजूम देखकर जिला अग्रणी बैंक ने सोशल डिस्टेंस लागू कराने के लिए सभी बैंकों के शाखा प्रबंधकों व पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखा है.

    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें