1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. ranchi sadar hospital huge shortage of medical staff only 60 doctors are working out of 140 srn

रांची के सदर अस्पताल में मेडिकल स्टाफ की भारी कमी, 140 में सिर्फ 60 चिकित्सक हैं कार्यरत

रांची के सदर अस्पतालों में डॉक्टरों की भारी कमी है जबकि यहां दिन प्रतिदिन मरीज बढ़ते जा रहे हैं. फिलहाल अनुबंध पर कर्मियों की बहाली के प्रयास किया जा रहे हैं

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
रांची के सदर अस्पताल में मेडिकल स्टाफ की कमी
रांची के सदर अस्पताल में मेडिकल स्टाफ की कमी
फाइल फोटो

रांची: सदर अस्पताल में हर माह लगभग 25 हजार मरीज इलाज कराने आते हैं. कोरोना संक्रमण थमने के बाद अस्पताल में गाइनी, मेडिसिन, पिडियाट्रीक, ऑर्थो विभाग और इमरजेंसी में मरीजों की संख्या में काफी इजाफा हुआ है. दूसरी ओर स्वास्थ्यकर्मियों की संख्या में कमी आयी है. मानव संसाधनों की कमी के कारण मरीजों को इलाज कराने में परेशानी हो रही है.

अस्पताल में डॉक्टर्स सहित अन्य मेडिकल स्टाफ की काफी कमी है. कोरोना के दौरान सदर अस्पताल में आउटसोर्सिंग एजेंसी के माध्यम से रखे गये 326 कर्मियों को पहले ही हटा दिया गया था. इसके अलावा मार्च माह में भी आउटसोर्स पर काम करने वाले 244 कर्मियों की सेवा समाप्त कर दी गयी.

जरूरत 140 चिकित्सक की, कार्यरत हैं 60 :

अस्पताल में 500 बेड के हिसाब से करीब 140 चिकित्सक होने चाहिए. जबकि, यहां सिर्फ 60 चिकित्सक कार्यरत हैं. इसी तरह पारा मेडिकल स्टाफ, एएनएम, जीएनएम, वार्ड अटेंडेंट, सफाईकर्मी, ट्रॉली मैन, बॉडी कैरी करने वाले लोडर और ड्रेसर की भी किल्लत है. क्षमता से आधी संख्या में कर्मचारी काम कर रहे हैं. कर्मियों की नियुक्ति अलग-अलग ढंग से होने के कारण उनके बीच काम करने को लेकर हमेशा विवाद बना रहता है.

नियुक्ति होने तक बनी रहेगी असुविधा

मरीजों की तादाद को देखते हुए सदर अस्पताल में 273 कर्मियों की अनुबंध पर बहाली के प्रयास चल रहे हैं. इनमें एएनएम स्टाफ नर्स, लैब टेक्नीशियन, काउंसेलर, फार्मासिस्ट सहित कई अन्य शामिल हैं. करीब 31 पदों पर इन्हें बहाल किया जायेगा.

डॉक्टरों को उठानी पड़ती है अन्य जिम्मेदारियां :

डॉक्टरों को ओपीडी में सेवा देने के साथ-साथ स्वास्थ्य विभाग के कार्यक्रम जैसे- टीकाकरण, यक्ष्मा, मलेरिया, कुष्ठ और नियमित तौर पर लगने वाले स्वास्थ्य शिविरों के साथ ही वीआइपी ड्यूटी आदि जिम्मेदारी भी संभालनी पड़ती है.

इस साल किस माह किस विभाग में कितने मरीज पहुंचे

विभाग मरीज पहुंचे

बाल रोग 1,125

स्त्री एवं प्रसूति 4,313

मेडिसिन 2,366

आपातकालीन 2,461

कुल संख्या 18,627

फरवरी

बाल रोग 1,121

स्त्री एवं प्रसूति 4,737

मेडिसिन 2,445

आपातकालीन 2,225

कुल संख्या 22,655

मार्च

विभाग मरीज पहुंचे

बाल रोग 1,655

स्त्री एवं प्रसूति 5,346

मेडिसिन 2,895

आपातकालीन 3,123

कुल संख्या 27,149

Posted By: Sameer Oraon

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें