भागवत ने फिर छेड़ा 'भारत हिंदू राष्ट्र' का राग

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
एजेंसियां, मुंबई राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है. रविवार को एक कार्यक्र म में उन्होंने कहा कि भारत एक हिंदू राष्ट्र है, हिंदुत्व इसकी पहचान है और यह (हिंदुत्व) अन्य (धमार्ें) को स्वयं में समाहित कर सकता है. कांग्रेस ने भागवत के इस बयान की निंदा की है. पार्टी के महासचिव दिग्िविजय सिंह ने ट्वीट किया, मुझे लगता था कि हमारे पास सिर्फ'एक हिटलर है, पर अब लगता है दो हैं...'भगवान बचाये. संघ प्रमुख विहिप के स्वर्ण जयंती समारोह के उद्घाटन कार्यक्र म में हिस्सा लेने के लिए कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर मुंबई पहुंचे थे. विहिप की स्थापना 29-30 अगस्त, 1964 को मुंबई में हुई थी. उन्होंने कहा, अगले पांच सालों में विहिप का लक्ष्य देश के सभी हिंदुओं के बीच समानता सुनिश्चित करना होना चाहिए. सभी हिंदुओं को एक जगह पानी पीना चाहिए, एक जगह प्रार्थना करनी चाहिए और मौत के बाद एक ही जगह दाह संस्कार होना चाहिए. जल्द बनेगा राम मंदिरइस अवसर पर विहिप के नेता प्रवीण तोगडि़या भी मौजूद थे. राम मंदिर के निर्माण को लेकर पूछे गये सवाल पर उन्होंने कहा कि किसी भी कीमत पर भव्य राम मंदिर का निर्माण होगा. तोगडि़या ने कहा कि जब तक राम मंदिर बन नहीं जाता, तब तक हमारे एजेंडे में रहेगा. उन्होंने कहा कि जब तक पाकिस्तान भारतीय प्रशासन द्वारा वांछित लोगों को सौंप नहीं देता, तब तक उसके द्वारा उठाये गये किसी भी कदम को शांति बहाली की दिशा में उठाया गया कदम नहीं समझा जाना चाहिए. पहले भी बोले थे संघ प्रमुखपिछले सप्ताह भी कटक में भागवत ने कहा था, भारत के सभी लोगों की सांस्कृतिक पहचान हिंदुत्व है और देश के वर्तमान निवासी इसी महान संस्कृति के वंशज हैं. उन्होंने सवाल किया था कि यदि इंगलैंड के लोग अंगरेज हैं, जर्मनी के लोग जर्मन हैं, अमेरिका के लोग अमेरिकी हैं तो हिंदुस्तान के सभी लोग हिंदू के रूप में क्यों नहीं जाने जाते?भड़की कांग्रेस उधर, कांग्रेस ने संघ प्रमुख मोहन भागवत पर निशाना साधा है. भागवत के विवादित बयान पर निशाना साधते हुए कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने ट्विटर पर लिखा... हम लोग एक ही हिटलर को जानते थे, लेकिन यहां दो हैं... अब भारत को भगवान ही बचायें. दिग्विजय सिंह ने भागवत से पूछा है कि जब हिंदुत्व एक धार्मिक पहचान है, तो सनातन धर्म क्या है? दिग्गी राजा ने आरएसएस के विचारधारा की तुलना तालिबान से करते हुए कहा है कि ऐसी सोच रखने वाले लोग देश की शांति को बिगाड़ रहे हैं. संघ पर निशाना साधते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा है कि धर्म को राजनीति से दूर रखना चाहिए और धर्म के नाम पर मासूम लोगों को मूर्ख नहीं बनाना चाहिए. हमें अपने सनातन धर्म और दूसरों के प्रति अपनी सहिष्णुता पर गर्व है.'आप' के तेवर भी कड़ेइस बीच आम आदमी पार्टी ने भी संघ प्रमुख के बयान की आलोचना की है. पार्टी के प्रवक्ता आशुतोष ने कहा कि जो लोग संघ और मोदी को अलग-अलग समझते हैं वे नहीं जानते कि दोनों समान गुण वाले हैं और मोदी संघ के विचारधारा की कठपुतली हैं.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें