शिबू सोरेन सहित तीन बने महानायक, परिश्रम से बनायी पहचान

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

रांची: मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि हर चीज में परिश्रम जरूरी है. इससे ही पहचान बनती है. इस राज्य में महानायक जन्म लेते रहे हैं. हम उनके सोच को आत्मसात कर राज्य को आगे बढ़ायें. वह रविवार को क्लीन मीडिया फाउंडेशन की ओर से एटीआइ सभागार में आयोजित ‘महानायक सम्मान 2014’ में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे.

उन्होंने कहा कि व्यक्ति नहीं, उसके कर्म ऊंचे होते हैं. उसके सोच बड़े या छोटे होते हैं. जिन्हें सम्मान मिला है, उन्हें यहां का जन-जन सम्मान की दृष्टि से देखता है. समारोह में पूर्व मुख्यमंत्री शिबू सोरेन, विद्वान व तर्कशास्त्री प्रोफेसर सुधाकर दीक्षित और उद्यमी राम स्वरूप रूंगटा को सम्मानित किया गया. शिबू सोरेन की अस्वस्थता के कारण उनके पुत्र, मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने पुरस्कार ग्रहण किया. इससे पूर्व वरिष्ठ पत्रकार बलबीर दत्त ने कहा कि मीडिया के बिना लोकतंत्र आगे नहीं बढ़ सकता, न इसके बिना राजनीति ही हो सकती है. जिन्हें सम्मानित किया गया है, उनका अपने कार्यक्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान रहा है. उदय शंकर ओझा ने शिबू सोरेन, पूर्व विधानसभाध्यक्षसीपी सिंह ने प्रो दीक्षित और इंदुकांत दीक्षित ने आरएस रूंगटा की जीवनी व उपलब्धियों पर प्रकाश डाला. क्लीन मीडिया की महानिदेशक व संपादक डॉ सुषमा दीक्षित ने अतिथियों का स्वागत किया.

रोहन पाठक ने देशभक्ति के गीत प्रस्तुत किये. समारोह में डॉ एके पांडेय, अशोक भगत, डॉ ऋता शुक्ल, सविता पांडेय, राजकुमार पाठक, प्रभाकर अग्रवाल, अरुण बुधिया, अनिल अग्रवाल, राजेश गुप्ता व अन्य उपस्थित थे.

    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें