जेपीएससी तैयार, विभाग नहीं बता रहे वेकेंसी, रुकी है बहाली

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
मनोज लाल
रांची : झारखंड लोक सेवा आयोग (जेपीएससी) विभिन्न विभागों में सिविल सेवा के अफसरों की बहाली नहीं कर पा रहा है. फिलहाल तीन वर्षों की रिक्तियों के विरुद्ध बहाली होनी है, लेकिन प्रक्रिया रुकी हुई है. कार्मिक, प्रशासनिक विभाग द्वारा लगातार सारे विभागों से रिक्तियों की मांग की जा रही है, लेकिन अभी तक सरकार के अधीनस्थ विभागों ने सिविल सेवा की रिक्तियां कार्मिक को नहीं भेजी है.
इस कारण सिविल सेवा की अधियाचना जेपीएससी को नहीं भेजी जा सकी है. जेपीएससी भी तीन सिविल सेवा परीक्षा लेने की तैयारी में है, लेकिन उसे अधियाचना ही प्राप्त नहीं हो रही है. इस मामले में जेपीएससी सचिव ने कहा है कि अधियाचना मिलते ही एक साथ सभी रिक्तियों के लिए परीक्षा की घोषणा कर दी जायेगी.
राज्य सिविल सेवा के पदों पर होनी है बहाली, कार्मिक ने विभागों से रिक्तियां भेजने काे कहा
कार्मिक ने अगस्त में ही मांगी थी रिक्तियाें की जानकारी
सिविल सेवा परीक्षा के अंतर्गत प्रशासनिक सेवा, पुलिस सेवा, शिक्षा सेवा, सूचना सेवा, कारा सेवा, कृषि सेवा आदि में नियुक्तियां की जानी है. कार्मिक विभाग ने दो अगस्त को सारे विभागों को पत्र भेज कर वर्ष 2017, 2018 और 2019 की रिक्तियां उपलब्ध कराने को कहा था.
पत्र में कहा गया था कि सारे विभाग 10 अगस्त तक रिक्तियां भेज दें, ताकि अधियाचना जेपीएससी को भेजी जा सके. लेकिन 10 अगस्त तक विभागों ने सूची उपलब्ध नहीं करायी. तब कार्मिक विभाग ने फिर से 16 सितंबर को सारे विभागों (महिला, बाल विकास एवं सामाजिक सुरक्षा विभाग को छोड़ कर) को रिमाइंडर भेजा. इसमें कहा गया कि बहाली के लिए रिक्तियाें की जानकारी आवश्यक है. ऐसे में सारे विभाग तत्काल रिक्तियां भेज दें.
नियुक्ति प्रक्रिया नियमित करने के लिए हो रही कार्रवाई
झारखंड गठन के बाद से ही सिविल सेवा के अधिकारियों के कई पद रिक्त हैं. जेपीएससी 19 वर्षों में अब तक केवल छह सिविल सेवा परीक्षा ही ले सका है. छठी सिविल सेवा (सिविल सेवा परीक्षा-2016) की मुख्य परीक्षा हो गयी है, लेकिन रिजल्ट व साक्षात्कार अभी बाकी है. अब नियुक्ति प्रक्रिया नियमित करने के लिए ही आयोग एक साथ तीन सिविल सेवा परीक्षा लेने पर विचार कर रहा है.
हजारों अभ्यर्थी को भुगतना पड़ रहा खमियाजा
जेपीएससी द्वारा समय से सिविल सेवा परीक्षा नहीं लिए जाने का खमियाजा राज्य के हजारों अभ्यर्थियों को भुगतना पड़ रहा है. कई अभ्यर्थियों की निर्धारित उम्र सीमा गुजरने में कुछ समय ही बाकी है, तो कई की उम्र सीमा पार भी हो चुकी है. ऐसे में वे परीक्षा में शामिल होने के लिए जेपीएससी की ओर ही नजरें जमाये बैठे हैं. अभ्यर्थी नियुक्ति के इंतजार में हैं, लेकिन आवेदन नहीं निकलने के कारण निराश हैं.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें