1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. gumla
  5. tb patients will be surveyed in gumla 100 days campaign will run srn

गुमला में टीबी मरीजों का होगा सर्वे, चलेगा 100 दिन का अभियान

जिला स्वास्थ्य विभाग गुमला की बैठक गुरुवार को उपायुक्त शिशिर कुमार सिन्हा की अध्यक्षता में आईटीडीए भवन में हुई. आयुष्मान भारत योजना की समीक्षा करते हुए जिले के गरीब एवं वंचित परिवारों को योजना का अधिकाधिक लाभ दिलाने पर जोर दिया.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
गुमला में टीबी मरीजों का होगा सर्वे
गुमला में टीबी मरीजों का होगा सर्वे
Prabhat Graphics

जिला स्वास्थ्य विभाग गुमला की बैठक गुरुवार को उपायुक्त शिशिर कुमार सिन्हा की अध्यक्षता में आईटीडीए भवन में हुई. बैठक में उपायुक्त ने आयुष्मान भारत योजना की समीक्षा करते हुए जिले के गरीब एवं वंचित परिवारों को योजना का अधिकाधिक लाभ दिलाने पर जोर दिया. उन्होंने आयुष्मान भारत योजना के तहत सूचीबद्ध बीमारियों की जानकारी सूची प्रतिवेदित करने एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालित सभी योजनाओं का विस्तृत प्रतिवेदन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया.

अपर समाहर्त्ता सुधीर कुमार गुप्ता ने प्रखंडवार आयुष्मान भारत योजना के आंकड़े प्रतिवेदित करने पर जोर दिया. बैठक में जिला यक्ष्मा पदाधिकारी डॉ केके मिश्रा ने बताया कि जिलांतर्गत यक्ष्मा मरीजों के इलाज के लिए पिरामल फाउंडेशन द्वारा कोविड संबंधित जागरूकता सह टीबी के सक्रिय मामलों के निष्कर्ष के लिए 100 दिवसीय अभियान चलाया जाना है.

अभियान के तहत पिरामल फाउंडेशन द्वारा सभी प्रखंडों में उनकी टीम द्वारा सर्वेक्षण कराते हुए टीबी के मरीजों को चिन्हित किया जायेगा जो मरीज टीबी से ग्रसित पाये जायेंगे. उनका समुचित इलाज प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में कराय़ा जायेगा. इस पर अपर समाहर्ता ने घरों में सर्वेक्षण के लिए जाते वक्त मरीज सहित परिवार के प्रत्येक सदस्यों से कोविड-19 टीकाकरण की जानकारी भी प्राप्त करने का निर्देश दिया.

वहीं जिलांतर्गत यक्ष्मा मरीजों की अद्यतन जानकारी देते हुए बताया गया कि वर्तमान में जिलांतर्गत 272 चिन्हित टीबी मरीज हैं. इस पर अपर समाहर्ता ने जिला यक्ष्मा पदाधिकारी को सभी 272 मरीजों की रेखा सूची के आधार पर पंचायतवार डाटाबेस तैयार करने का निर्देश दिया. साथ ही पंचायतवार डेटाबेस तैयार करने के बाद चरणबद्ध तरीके से वैसे क्षेत्र जहां टीबी मरीजों की संख्या कम है, को पहले टारगेट करते हुए यक्ष्मा मुक्त बनाने पर बल दिया. उन्होंने जिला यक्ष्मा पदाधिकारी को यक्ष्मा मरीजों की पंचायतवार सूची अगले एक सप्ताह के अंदर प्रतिवेदित करने का निर्देश दिया. बैठक में डीडीसी कर्ण सत्यार्थी, सीएस डॉक्टर राजू कच्छप, जिला यक्ष्मा पदाधिकारी केके मिश्रा, डीएसओ गुलाम समदानी, पिरामल स्वास्थ्य फाउंडेशन के प्रतिनिधि व अन्य उपस्थित थे.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें