गुमला : फर्जी प्रमाण पत्र बना बेचा जा रहा नाबालिग बच्चियों को

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
दुर्जय पासवान
दिल्ली से मुक्त हुई रूबी ने सुनायी आपबीती, कहा : नाबालिगों का यौन शोषण भी होता है
पहले 20 हजार में बेचते थे, अब 40 हजार में एक नाबालिग को बेचते हैं
गुमला : गुमला जिले की नाबालिग बेटियों का फर्जी उम्र प्रमाण पत्र बना कर मानव तस्कर दिल्ली में बेच दे रहे हैं. दिल्ली ले जाने के बाद पहले लड़कियों को प्लेसमेंट एजेंसी के कार्यालय में रखा जाता है. वहां उनका फर्जी प्रमाण पत्र बनता है. इसके बाद उन लड़कियों को बेच दिया जाता है.
यह खुलासा दिल्ली से मुक्त होकर गुमला पहुंची 16 वर्षीया रूबी कुमारी (बदला हुआ नाम) ने किया है. घाघरा की रहनेवाली रूबी के घर की आर्थिक स्थिति बेहद खराब है. अप्रैल 2018 में मानव तस्कर गीता नौकरी दिलाने का झांसा देकर रूबी को दिल्ली ले गयी और गुड़गांव के एक प्लेसमेंट एजेंसी को 40 हजार रुपये में बेच दिया. उस एजेंसी के संचालक सुनील कुमार ने उसके साथ दुष्कर्म करने का प्रयास किया.
इसका उसने विरोध किया. तब सुनील ने उसे एक घर में काम करने के लिए बेच दिया. रूबी के अनुसार, सुनील की प्लेसमेंट एजेंसी में और करीब 30 लड़कियां हैं, जिसमें अधिकांश लड़कियां झारखंड की रहनेवाली हैं. उसने कहा किइनमें से कई लड़कियों का यौन शोषण हुआ है. उन लड़कियों पर विशेष नजर रखी जाती है. उन्हें धमकी दी जाती है कि जुबान खोलने पर अंजाम बुरा होगा. भयवश बेबस लड़कियां जुल्म सहने को विवश हैं. जानकारी के अनुसार, पहले गुमला की लड़कियों को 20 हजार रुपये में बेच दिया जाता था. अभी मानव तस्कर 40 हजार रुपये में बेच देते हैं.
फर्जी उम्र प्रमाण पत्र बनाकर मुझे बेचा गया : रूबी
पांचवीं तक पढ़ी रूबी ने कहा कि प्लेसमेंट एजेंसी के संचालक सुनील कुमार ने सबसे पहले उसका फर्जी उम्र प्रमाण पत्र बनाया. इसमें 16 की जगह 18 वर्ष उम्र अंकित किया गया. सुनील ने मोटी रकम लेकर मुझे एक घर में काम करने के लिए बेच दिया. एक दिन मौका देख वहां से भाग निकली और मेट्रो स्टेशन पहुंची. वहां दिल्ली पुलिस ने उससे पूछताछ की. रूबी ने जब उन्हें आपबीती बतायी, तो उसे रिमांड होम भेज दिया गया. वहां से रूबी को मंगलवार को गुमला लाया गया.
रूबी का बयान दर्ज किया जा रहा है. जो भी बयान आयेगा. उसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जायेगी. साथ ही इस मामले की बाल संरक्षण आयोग रांची को भी सूचना दी जायेगी. जिससे दिल्ली में कम उम्र की बच्चियों को अधिक उम्र का दिखा कर बेचनेवालों की जांच कराकर कार्रवाई की जा सके.
शंभु सिंह, चेयरमैन, सीडब्ल्यूसी, गुमला
Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें