खेतों से लेकर गली-मोहल्लों तक पानी ही पानी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

मॉनसून मेहरबान . तीन दिनों से रुक-रुक कर हो रही बारिश, जनजीवन अस्त-व्यस्त, शहर में जलजमाव

सीतामढ़ी : बारिश का पानी, लेकिन मंजर बाढ़ सा. पिछले तीन दिनों से इलाके में रूक-रूक कर हो रहीं बारिश के बाद पूरा का पूरा शहर बारिश के पानी में तैरता दिख रहा है.
शहर का हर गली-मुहल्ला चौक व चौराहा न केवल जल जमाव की गिरफ्त में है, बल्कि तमाम सड़कें कीचड़ से सन गयी है. लिहाजा आवागमन में परेशानी हो रहीं है, वहीं वाहनों का परिचालन भी बाधित हो रहा है. कीचड़ में सन कर सड़कें कातिल बन गयी है. हर घंटे हादसे हो रहे है.
उधर, नालों की सफाई नहीं होने के चलते बारिश के बाद गंदा पानी लोगों के घरों में घुस कर परेशानी का सबब बन गया है. सड़क पर जल जमाव के चलते स्कूली बच्चों को भी परेशानी उठानी पड़ रहीं है. जबकि माता जानकी की जन्मस्थली जानकी स्थान मंदिर परिसर व इसके आपास का इलाका भी जल जमाव की गिरफ्त में है. लिहाजा श्रद्धालुओं व पर्यटकों को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.
पिछले तीन दिनों से इलाके में जारी बारिश ने लोगों को बेदम कर दिया है. खास कर बारिश ने एक बार फिर शहर वासियों की परेशानी बढ़ा दी है. शहर के जानकी स्थान, भवदेपुर, सोनापट्टी, लोहापट्टी, कोट बाजार, जयप्रकाश नगर, उर्दू मोहल्ला, स्टेशन रोड, बाइपास, बाइपास बस पड़ाव, सरकारी बस पड़ाव, इंदिरा नगर, आयकर गली, लोहिया नगर, गुदरी बाजार, राम पदार्थ नगर व सिंह कॉलोनी समेत शहर के तमाम इलाके जल जमाव की गिरफ्त में है. सड़क पर बारिश के पानी ने स्थायी जगह बना लिया है. लिहाजा लोगों का घर से निकलना मुश्किल हो रहा है. दूसरी ओर नालों के जाम रहने के कारण कहीं नालों का गंदा व जमा पानी बारिश के पानी में मिल कर सड़क पर बह रहा है तो कहीं लोगों के घरों में घुस रहा है. लिहाजा लोग परेशान होकर रह गये है.
खुली नगर परिषद की सफाई व्यवस्था की पोल: सीतामढ़ी : आषाढ़ का महीना अब अंतिम दौर में है. सावन की बौछार व भादों की कयामत अभी बांकी हैं. लेकिन इलाके में बारिश की शुरूआत में हीं नगर परिषद की सफाई व्यवस्था की पोल खुल गयी है. वहीं यह बारिश नव निर्वाचित पार्षदों की परीक्षा लेना शुरू कर दिया है. साल दर साल सफाई व्यवस्था पर लाखों रुपये खर्च होते रहे है, बावजूद इसके जल जमाव की समस्या का स्थायी समाधान नहीं निकाला गया है.
नालों पर अतिक्रमण के बढ़ते जाल व नियमित रूप से नालों की सफाई नहीं होने के चलते जल जमाव का दायरा लगातार बढ़ रहा है. वहीं लोग परेशान हो रहे है.
पानी की निकासी की व्यवस्था नहीं : सीतामढ़ी : शहर के आवासीय इलाकों के साथ व्यापारिक इलाके तो जलजमाव की गिरफ्त में हैं हीं, धार्मिक स्थलों पर भी जल जमाव का व्यापक असर पड़ा है. फिलहाल बारिश के बाद शहर स्थित जानकी स्थान मंदिर परिसर में भारी जलजमाव है. बारिश का पानी मंदिर परिसर में स्थायी रूप से जगह बना लिया है. पानी का निकास नहीं हो पाने के कारण जल जमाव से जहां आस पास के व्यवसायी परेशान है, वहीं मंदिर में दर्शन करने पहुंच रहे श्रद्धालु व पर्यटकों को भी भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. इधर, जानकी स्थान मंदिर के अलावा आसपास का इलाका भी जल जमाव की गिरफ्त में है. एक पखवाड़ा पूर्व स्थानीय लोगों ने सड़क जाम कर बवाल काटा था. जहां लोगों को शीघ्र हीं जल जमाव से मुक्ति दिलाने का आश्वासन दिया गया था. बावजूद इसके समस्या बरकरार है.
कहती हैं सभापति
सीतामढ़ी शहर में जलजमाव बड़ी परेशानी बन कर उभरी है, जल जमाव के स्थायी निदान के लिए नगर परिषद द्वारा तैयारी की जा रही है. तत्काल नालों की सफाई का आदेश दिया गया है. शीघ्र ही जल जमाव की समस्या के स्थायी निदान की व्यवस्था की जायेगी.
विभा देवी, सभापति, सीतामढ़ी नगर परिषद
घर से निकलना मुश्किल
लोगों के घरों में घुस रहा नाले का गंदा पानी
कीचड़ से पट गयीं शहर की सड़कें
वाहनों के परिचालन व आवागमन में भी हो रही परेशानी
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें