25.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

Rooftop Gardening : छत पर बागवानी घर के कमरों को रख रहा ठंडा, सीधी धूप से बचा रहे कई ग्रीन प्लांट्स

अभी भीषण गर्मी पड़ रही है. लोग गर्मी से बचने के लिए तरह-तरह के उपाय कर रहे हैं. इस भीषण गर्मी में एसी और कूलर भी किसी काम के नहीं बचे हैं और लगातार इन के चलने की वजह से बिजली की खपत भी बढ़ रही है. गर्मी में हमारे घर में सबसे ज्यादा गर्म होने वाली जगह होती है, हमारे घर की छत. छत सुबह से लेकर शाम तक गर्मी सोखती रहती है और यह धीरे-धीरे हमारे घर के कमरों को भी गर्म करती चली जाती है, ऐसे में सवाल उठता है कि हमारे घर की छत को ठंडा कैसे रखा जाए, आइए जानते हैं.

Rooftop Gardening : पेड़-पौधे गर्मी को कम करने में काफी कारगर होते हैं. कहा जाता है कि जहां पेड़-पौधे अधिक होते हैं, वहां का तापमान आसपास के क्षेत्र से छह से आठ डिग्री नीचे रहता है. ऐसे में यदि आप भी अपने घर के आस-पास पेड़-पौधे या छत पर बागवानी करते हैं, तो इसका असर आपको देखने को मिल सकता है.

घर की छतों पर बागवानी ग्रीन शेड्स की तरह काम करती है, जो सीधी धूप से आपकी छत को बचाती है. इससे आपका कमरा अन्य दूसरे कमरों की अपेक्षा ज्यादा कूल रहता है. इतना ही नहीं इसमें आपको 3-4 डिग्री का फर्क भी दिख सकता है. ऐसे में छत पर जितना अधिक पेड़-पौधे होंगे, कमरे का तापमान उतना कम रहेगा.

अपने पटना शहर के कई ऐसे लोग हैं, जो भीषण गर्मी से बचने के लिए टेरेस व रूफ गार्डनिंग का सहारा लेकर न केवल सीधी धूप से अपनी छत को गर्म होने से बचा रहे हैं, बल्कि छत पर बागवानी कर घर के कमरों को भी कूल रख रहे हैं.

छत पर बागवानी कर ये अपने रूम टेंपरेचर को कर रहे कम

1. पौधों की वजह से हमें एसी कम चलाना पड़ता है : मनोरंजन सहाय
इस्ट लोहानी नगर के रहने वाले मनोरंजन सहाय और उनकी पत्नी रजनी सहाय 1989 से टेरेस गार्डनिंग कर रहे हैं. इनके टेरेस पर फ्लावरिंग प्लांट्स से लेकर कई तरह के पेड़-पौधे हैं. इनके रुफ गार्डन में फल से लेकर सब्जियां और मेडिसिनल प्लांट्स तक मौजूद हैं. छत पर 30 बाय 40 फीट के एरिया में ये गार्डनिंग करते हैं. मनोरंजन सहाय कहते हैं, हरियाली से तापमान नियंत्रित रहता है. पेड़-पौधे और अन्य वनस्पतियां ग्रीष्मकाल में पड़ने वाली गर्मी को कम करने में अहम भूमिका निभाते हैं. हमारे यहां सौ से अधिक पौधे हैं, जिससे छत का अधिकांश एरिया इससे कवर है. इसकी खासियत है कि गर्मी में घर का कमरा कूल रहता है. एसी का भी इस्तेमाल कम हो जाता है, इससे बिजली की भी बचत होती है. पौधे से घर का माहौल बिल्कुल अलग रहता हैं. इतनी गर्मी में भी सुबह-शाम ताजी हवा और ठंडक बनी रहती हैं.


2. हरे-भरे पौधे ऑक्सीजन देते हैं, तापमान कम करते हैं : सुनीता अग्रवाल

राजेंद्र पथ स्थित मधुराज बिल्डिंग के रहने वाले राजीव अग्रवाल और सुनीता अग्रवाल पिछले 40 साल से टेरेस गार्डनिंग कर रहे हैं. सुनीता बताती हैं कि मेरा टेरेस गार्डन 2500 स्क्वायर फीट में है. इसमें सीजनल फूल, सब्जियां और कई तरह के पेड़-पौधे लगे हुए हैं. पौधों की वजह से शुद्ध हवा के साथ-साथ गर्मी में भी काफी हद तक राहत मिलती है. पौधों की वजह से धूप सीधे छत पर नहीं आती है और दिन व रात के समय में सामान्य से कुछ डिग्री घर का तापमान कम बना रहता है. वे कहती हैं, पेड़-पौधे व हरियाली से घर की सुंदरता तो बढ़ती है, जीवन भी सुंदर रहता है. गर्मी में हम सबको इससे काफी राहत मिलता है. सुबह-सुबह ताजी हवा और दोपहर व शाम के समर घर कूल-कूल रहता है.


3. रूफ गार्डन की वजह से छत पर सीधी धूप नहीं आती : मनोहर सिंह

गर्मी के मौसम में घर का छत काफी गर्म हो जाया करता था. इससे कमरा भी दिनभर गर्म रहता था. इससे बचने के लिए मैंने साल 2000 में रूफ गार्डनिंग की शुरुआत की. यह कहना है इस्ट बोरिंग कैनाल रोड के रहने वाले मनोहर सिंह का. वे कहते हैं मेरे घर की छत पर कई तरह के पेड़-पौधे हैं. 350 गमले हैं जिसमें फूल, फल और सब्जियां हैं. 2000 स्क्वायर फीट में बने इस गार्डन में गमलों के अलावा क्यारियां भी है, जिसमें केला, पपीता, आंवला, सिंदूर आदि के पौधे लगे हैं. सेंटर में घास का लॉन भी है. गार्डनिंग की वजह से उनके छत पर चिड़ियों के अलावा तितलियां और मधु मक्खियां भी नजर आ जाती हैं. गर्मी में धूप की किरणें सीधे छत पर नहीं पड़ती, जिससे काफी हद तक घर का तापमान बाहर के तापमान से कम रहता है.


4.  इंडोर पौधों से भी घर का तापमान बना रहता है : मो जावेद

कंकड़बाग स्थित नेचर क्लब ऑफ इंडिया पटना के को-ऑर्डिनेटर मो जावेद आलम हाइड्रोपोनिक्स विधि को बढ़ावा दे रहे हैं. वे बताते हैं कि पटना में इसकी शुरुआत साल 1991 में की गयी थी. हाइड्रोपोनिक्स की कई विधियां हैं, जिनमें पानी में पौधे उगाना (वाटर कल्चर), रेत या बालू में पौधे उगाना (सैंड कल्चर), नारियल की बुरादे से पौधे उगाना (कोकोपीट कल्चर) आदि शामिल है. वे बताते हैं कि आप इस विधि से घर में ऑर्नामेंटल प्लांट्स, फ्लावरिंग प्लांट्स और सब्जियों के पौधे आसानी से उगा सकते हैं. इससे न सिर्फ घर की शोभा बढ़ती है, बल्कि सिमित तापमान यह पौधे आपके घर को ठंडक के साथ ऑक्सीजन भी भरपूर मात्रा में देते हैं.

ये पांच पौधे घर को रखेंगे कूल


कई ऐसे पेड़-पौधे हैं, जो अपने आसपास के तापमान को कम करने का काम बड़ी ही आसानी से करते हैं. इन पौधों को आप अपने कमरों में रख सकते हैं और गर्मी से राहत भी पा सकते हैं.

1. एलोवेरा : एलोवेरा का पौधा स्किन पर किसी तरह के जलन को तो शांत करता ही है, ये तापमान को कम रखने में भी मदद कर सकता है. दरअसल, एलोवेरा हवा से टॉक्सिक चीजों को हटाने और ऑक्सीजन लेवल को बढ़ाने का काम तेजी से करता है. इस तरह प्राकृतिक तरीके से यह कमरे को ठंडा कर सकता है.

2. बेबी रबर प्‍लांट : बेबी रबर प्‍लांट आसानी से वातावरण में मौजूद कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करता है और ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ाता है. जिससे हीट लेवल अपने आप कम होने लगती है. यही नहीं, ये इन्फ्लेमेशन को कम करने में भी मदद करता है.

3.  गोल्डन पोथोज : गोल्‍डन पोथोज भी हवा को ठंडा करने में काफी कारगर पौधा है. यह दरअसल मनी प्‍लांट का ही एक प्रकार है, जो एयर से धूल और कार्बन को तेजी से फिल्‍टर करने का काम करता है.

4. स्‍नेक प्‍लांट : स्‍नेक प्‍लांट एक बहुत ही कॉमन प्लांट है जो घरों में रखा जाता है. यह भी हवा को फ्रेश करने के साथ साथ ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ाता है. जिससे आसपास के तापमान में तेजी से कमी आ सकती है.

5. लेमन ग्रास : लेमन ग्रास एक खुशबूदार पौधा है जिसकी महक से न केवल आपका मन ताजगी से भर उठेगा, बल्कि यह मच्छरों को भी दूर रखेगा. इसे खिड़की के पास या बालकनी में लगाएं तो बेहतर रहेगा.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें