1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. devotees will chant the anant god in kshirsagar chaturdashi on tuesday ksl

Anant Chaturdashi 2020 : अनंत पूजा की कथा सुनने के बाद धारण करें चौदह गांठों वाला डोर

By Prabhat khabar Digital
Updated Date

पटना : कोरोना के इस दौर में त्योहारों को सेलिब्रेट करने का उत्साह लोगों में कम नहीं है. सोमवार को कुछ ऐसा ही उत्साह श्रद्धालुओं में अनंत चतुर्दशी को लेकर दिखा. बाजार में भी अनंत चतुर्दशी से संबंधित चीजें भी मिल रहे हैं. खरीदारी कर रहे राजापुल के निवासी बिजेंद्र सिन्हा कहते हैं कि इस पर्व में चौदह गांठों वाला डोर का विशेष महत्व होता है, घर में जितने सदस्य हो, लोग उतने डोर खरीदते हैं और अनंत पूजा की कथा सुनने के बाद धारण किया जाता है.

श्रद्धालु ब्रह्म नारायण की भक्ति में करेंगे पूजा

श्रद्धालु सृष्टिकर्ता निर्गुण ब्रह्म नारायण की भक्ति और पूजा करेंगे. सनातन धर्मावलंबी दुखों से मुक्ति व सुखों की प्राप्ति के लिए अनंत चतुर्दशी का व्रत रखेंगे. दूध-दही, पंचामृत आदि से निर्मित क्षीरसागर में कुश के बने अनंत भगवान का मंथन कर. इसकी विधिवत पूजा करेंगे. ब्राह्मण-पंडितो से कथा श्रवण कर अनंत डोर धारण करेंगे.

धनिष्ठा नक्षत्र में पूरे दिन होगी अनंत पूजा

ज्योतिषाचार्य पंडित राकेश झा शास्त्री ने कहा कि अनंत का त्योहार धनिष्ठा नक्षत्र में पुरे दिन मनाया जायेगा. इस दिन भगवान विष्णु की पूजा कर मधुर पकवान का भोग में अर्पित किया जायेगा. धनिष्ठा नक्षत्र के स्वामी मंगल होते है. इस दिन मंगलवार दिन होने इसकी महत्ता और बढ़ गयी है. इस नक्षत्र में भगवान विष्णु की पूजा करने से आरोग्यता, निरोग काया व प्रखर बुद्धि का वरदान मिलता है. अनंत पूजा के बाद अनंत सूत्र बांधने से मुसीबतो से रक्षा एवं साधको का कल्याण होता है. इस दिन विष्णु सहस्त्रनाम स्त्रोत का पाठ करना बहुत उत्तम होता है. इस दिन अनंत भगवान की कथा को सुनकर श्रद्धालु चौदह गांठों वाला अनंत डोर बांधते हैं. कुछ व्रती इस दिन अपने घरों में भगवान सत्यनारायण की पूजा कर कथा का रसपान भी करते है.

अनंत चतुर्दशी पूजा का शुभ मुहूर्त

चतुदर्शी तिथि- प्रात 8.45 बजे तक (उदयातिथि मान से पूरे दिन होगी पूजा)

घनिष्ठा नक्षत्र शाम 4.57 बजे तक

गुली काल मुहूर्त- मध्याय 11.19 बजे से 1.24 बजे तक

अभिजीत मुहूर्त- दोपहर 11.24 बजे से 12.14 बजे तक

मंदिरों में नहीं सुन पायेंगे अनंत चतुर्दशी की कथा

अनंत चतुर्दशी के अवसर पर शहर के सभी मंदिर बंद है. ऐसे में इस बार श्रद्धालु अनंत पूजा की कथा घरों में ही सुन पायेंगे. कई लोगों ने सोशल डिस्टैंसिंग का पालन करते हुए अपने घरों में ही पंडित को बुलाने की तैयारी की है. वहीं, कई श्रद्धालु इस बार बिना पंडित की ही अनंत पूजा करेंगे. बता दें कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए लॉक डाउन के दौरान शहर के सभी मंदिर बंद है. ऐसे में पंचमुखी मंदिर बेली रोड, पंचरूपी मंदिर बोरिंग रोड, शिव मंदिर कंकड़बाग, महावीर मंदिर जैसे सभी मंदिर सूने रहेंगे. इस बार अनलॉक चार के तहत 21 सितंबर से धार्मिक कार्य शुरू करने की घोषणा की गयी है. महावीर मंदिर न्यास परिषद के सचिव कुणाल किशोर ने बताया कि जब तक मंदिर खुल नहीं जाते, कुछ भी कहना मुश्किल है. मंदिरों में विधिवत पूजा हो रही है. फिलहाल श्रद्धालु घर रह कर ही पूजा करें.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें