पटना : तीन जुलाई तक प्लस टू स्कूलों में पढ़ाने लगेंगे अतिथि शिक्षक, 5200 शिक्षक होंगे नियुक्त

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
प्लस-टू स्कूलों में 5200 अतिथि शिक्षक होंगे नियुक्त
पटना : राज्य में उच्च माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षकों की कमी दूर करने के लिए चल रही अतिथि शिक्षकों की भर्ती 25 जून तक पूरी कर ली जायेगी. राज्य सरकार करीब 5200 अतिथि शिक्षकों की भर्ती करेगी.
अतिथि शिक्षक तीन जुलाई तक स्कूलों में अपनी सेवाएं देने लगेंगे. इन शिक्षकों को प्रतिदिन एक हजार रुपये तथा माह में अधिकतम 25 हजार रुपये मानदेय दिया जायेगा. माध्यमिक शिक्षा निदेशक राजीव प्रसाद सिंह रंजन ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को भर्ती को लेकर संशोधित समय तालिका जारी कर दी है. अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति के लिए विद्यालयवार और विषयवार रिक्तियों के लिए आने वाले आवेदनों और आवेदकों का मूल्यांकन जिला शिक्षा पदाधिकारी करेंगे.
16 जून तक सभी डीईओ अपने-अपने जिले की औपबंधिक मेधा सूची का प्रकाशन करने के साथ ही दावा-आपत्ति की मांग करेंगे. 25 जून तक अतिथि शिक्षकों की अंतिम रूप से मेधा सूची जारी कर दी जायेगी. 26 जून से 30 जून तक चयनित अभ्यर्थियों से यह विकल्प लिये जायेंगे कि वह किस विद्यालय में पढ़ाना चाहते हैं.
चयनित अतिथि शिक्षक ने जिस विद्यालय का विकल्प दिया था, उसी विद्यालय के प्रधानाचार्य द्वारा अतिथि शिक्षक को आमंत्रण पत्र जारी किया जायेगा. वहीं, शिक्षा निदेशक माध्यमिक ने डीईआे को तीन जुलाई तक अतिथि शिक्षकों का स्कूलों में योगदान सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं.
समय तालिका जारी
राज्य में अतिथि शिक्षकों की भर्ती के लिए जिलावार ब्योरा मंगाया जा रहा है. प्रदेश में करीब 5200 अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति होगी. सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को समय तालिका जारी कर दी गयी है.
-राजीव प्रसाद सिंह रंजन, निदेशक, माध्यमिक शिक्षा
किसको कितनी मिलेगी वरीयता
स्नातकोत्तर प्रशिक्षित अभ्यर्थी एसईईटी (पेपर-टू) उत्तीर्ण को प्रथम वरीयता दी जायेगी. संबंधित विषय में प्लस टू के रिटायर्ड शिक्षक को दूसरी वरीयता दी जायेगी. हालांकि, ऐसे शिक्षक की उम्र 65 साल से अधिक न हो.
स्नातकोत्तर प्रशिक्षित अभ्यर्थी को तृतीय वरीयता दी जायेगी. एमटेक, बीटेक, योग्यताधारी बीएड प्रशिक्षित उम्मीदवारों को गणित, भौतिकी एवं रसायन शास्त्र विषय के लिए उपरोक्त तीनों श्रेणी में योग्य उम्मीदवारों की अनुपलब्धता की स्थित में मेधा सूची में शामिल किया जायेगा. हालांकि, इसके लिए विद्यालय को संबंधित विषय, रिक्त पद आदि की जानकारी देते हुए पहले अनुमोदन लेना होगा.
Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें