1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. muzaffarpur
  5. aes confirmed in the child treated in skmch piku ward two new patients suffering from chamchi fever were admitted rdy

SKMCH पीकू वार्ड में इलाजरत बच्चे में एइएस की हुई पुष्टि, चमकी बुखार से पीड़ित दो नये मरीज किये गये भर्ती

SKMCH पीकू वार्ड में इलाजरत बच्चे में एइएस की पुष्टि हुई है. पीड़ित बच्ची की रिपोर्ट मुख्यालय भेजी गयी है. पीड़ित बच्ची में हाइपोग्लाइसीमिया की पुष्टि हुई है. इधर, चमकी बुखार के दो बच्चे भर्ती किये गये हैं. उनका ब्लड सैंपल जांच के लिए लैब भेजा है.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
इलाजरत बच्चे में एइएस की पुष्टि
इलाजरत बच्चे में एइएस की पुष्टि
सोशल मीडिया

मुजफ्फरपुर. जिले में एइएस से पीड़ित होने वाले बच्चों का आंकड़ा हर दिन बढ़ रहा है. शुक्रवार को एसकेएमसीएच के पीआइसीयू वार्ड में भर्ती एक और बच्चे में एइएस की पुष्टि हुई है. पीड़ित बच्चा जिले के मुशहरी प्रखंड का रहने वाला है. वहीं चमकी बुखार से पीड़ित दो बच्चे भर्ती हुए हैं. उपाधीक्षक सह शिशु विभागाध्यक्ष डॉ गोपाल शंकर सहनी ने बताया कि मुशहरी के रखौवर दास की एक साल की पुत्री सोनिया कुमारी में एइएस की पुष्टि हुई है. पीड़ित बच्ची की रिपोर्ट मुख्यालय भेजी गयी है. पीड़ित बच्ची में हाइपोग्लाइसीमिया की पुष्टि हुई है. इधर, चमकी बुखार के दो बच्चे भर्ती किये गये हैं. उनका ब्लड सैंपल जांच के लिए लैब भेजा है.

लगातार मिल रहे चमकी बुखार से पीड़ित बच्चे

इस साल जनवरी से अप्रैल तक एइएस पीड़ित दो बच्चों की मौत हो चुकी है. अबतक मुजफ्फरपुर में 23, मोतिहारी व सीतामढ़ी चार-चार, वैशाली में दो, बेतिया व अररिया में एक-एक केस सामने आये हैं. इनमें से सीतामढ़ी व वैशाली के एक-एक बच्चे की मौत इलाज के दौरान मौत हो चुकी हैं. 32 बच्चे स्वस्थ होकर घर लौट चुके हैं. शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ गोपाल शंकर सहनी ने बताया कि पीकू वार्ड में भर्ती बच्चे का प्राटोकॉल के तहत इलाज किया जा रहा है. ये बच्चे दो से तीन दिन में ठीक हो रहे हैं.

एइएस का केस बढ़ने की आशंका

एसकेएमसीएच के शिशु रोग विभागाध्यक्ष डॉ गोपाल शंकर सहनी ने कहा कि गर्मी के साथ उमस बढ़ने से एइएस का केस बढ़ने की आशंका है. इन दिनों तेज बुखार से पीड़ित होकर आने वाले बच्चों की संख्या बढ़ी है. लेकिन, अधिकतर बच्चों में एइएस के लक्षण नहीं है. इसके अलावा डायरिया और जॉडिस से पीड़ित बच्चे भी आ रहे हैं. अब तक यहां एइएस से पीड़ित 35 बच्चों की भर्ती की गयी. इनमें से तीन इलाजरत है. दो बच्चों की मौत हो चुकी है. अब तक 29 बच्चे ठीक होकर घर जा चुके है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें