दो महीने बाद शहर आयी सौ की नोट, दूर होगी किल्लत

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

मुजफ्फरपुर: शहर के इक्के-दुक्के एटीएम से ही सौ के नोट निकल रहे हैं. यह स्थिति करीब दो महीने से शहर में बनी है. शहरवासियों को इससे जल्द ही निजात मिलने वाली है. आरबीआइ से सौ के करेंसी आ चुके हैं, जल्द ही एटीएम में डाला जायेगा.

पांच सौ और हजार के सिर्फ नोटएटीएम में अभी पांच सौ या एक हजार के नोट ही निकल रहे हैं. इससे ग्राहकों को काफी परेशानी हो रही है. आप एटीएम से पांच सौ के गुणक में ही नोट निकाल सकते हैं. अगर आपके एकाउंट में चार सौ रुपये हैं, तो वह आप नहीं निकाल सकते हैं. इतना ही नहीं, कई बैंकों के एटीएम में जाते ही आपको वहां तैनात गार्ड सौ की नोट नहीं होने की जानकारी देता है. कई एटीएम के गेट पर इसका बोर्ड टंका होता है. ऐसे बैंकों के हजारों ग्राहक होंगे, जिसके एकाउंट में एक सौ से चार सौ रुपये ब्लॉक है. जिले में करीब सवा दो सौ एटीएम है. इसमें से करीब डेढ़ सौ एटीएम शाखा के बाहर है. एक एटीएम से करीब तीन सौ ग्राहक रोज पैसा निकालते हैं.

क्यों हो रही परेशानी
पिछले दो महीनों से आरबीआइ से बैंकों को 100 की करेंसी नोट नहीं मिली है. जिले में सरकारी व निजी मिलाकर 30 बैंक कार्यरत है. लेकिन जिले के छह बैंकों के एटीएम पर ही सब आश्रित है. इसमें सबसे अधिक 116 एटीएम एसबीआइ, पीएनबी के 22, सेंट्रल बैंक 22, आइसीआइसीआइ 20, एचडीएफसी 18, एक्सिस बैंक के 18 एटीएम है. अन्य बैंकों के दो से चार एटीएम कार्यरत है. ऐसे में अधिकांश लोग इन्हीं बैंकों के एटीएम पर निर्भर होते है. अगर एसबीआइ के एटीएम में करेंसी की दिक्कत होती है तो सभी बैंकों के एटीएम की स्थिति खराब हो जाती है. एटीएम में नोट फंसने के कारण पुराने नोट एटीएम में नहीं डाले जा रहे है. इस संबंध में विभिन्न बैंकों की करेंसी चेस्ट शाखा आरबीआइ से सौ के करेंसी की मांग कर चुकी है.

छात्रों को अधिक परेशानी
इससे सबसे अधिक परेशान छात्र, मध्यम वर्ग व पेंशन धारी होते हैं. ऐसे में अगर आपके एकाउंट में चार सौ रुपये है तो वह नहीं निकलेंगे. कॉलेज में पढ़ में छात्र अकसर तीन सौ या चार सौ रुपये ही निकालते हैं. ऐसे में किसी एटीएम में सौ के नोट नहीं होने से छात्र कई एटीएम में भटकते रहते हैं. अगर किसी छात्र ने पांच सौ या एक हजार का नोट निकाल भी लिया तो उसको खर्च करने के लिए आसानी से खुल्ला नहीं मिल पाता है.

    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें