24.7 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

रात में बंद रहती है सीटी स्कैन जांच, घायलों की जा रही जान

रात में बंद रहती है सीटी स्कैन जांच, घायलों की जा रही जान

प्रभात खबर पड़ताल वरीय संवाददाता, भागलपुर जेएलएनएमसीएच में रात में सीटी स्कैन जांच बंद रहती है. इस कारण सड़क दुर्घटना के बाद इलाज के लिए लाये गये मरीजों का बेहतर इलाज नहीं हो पा रहा है. शनिवार देर रात को जगदीशपुर में सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल मारवाड़ी कॉलेज के दो छात्र विशाल व राहुल को लाया गया था. अस्पताल पहुंचते ही विशाल ने दम तोड़ दिया था. वहीं राहुल को इमरजेंसी विभाग के ऑपरेशन थियेटर में प्राथमिक इलाज के बाद रेफर कर दिया गया था. राहुल को सिर में गंभीर रूप से चोट आयी थी. डॉक्टर ने राहुल के सर का सीटी स्कैन जांच कराने को कहा. लेकिन ऑपरेटर थियेटर के बगल में स्थित सीटी स्कैन सेंटर बंद था. डॉक्टरों ने बिना सीटी स्कैन रिपोर्ट के ही इलाज कर दिया. राहुल को शहर के एक निजी अस्पताल में इलाज के लिए ले जाया गया. इलाज में काफी विलंब के कारण उसकी जान नहीं बच पायी. मामले पर अस्पताल के रेडियोलॉजी विभाग के एचओडी डॉ सचिन ने कहा कि रात में सीटी स्कैन जांच बंद नहीं होती है. पता लगाया जायेगा कि शनिवार की रात ड्यूटी पर कौन था. कहीं वह ड्यूटी से गायब तो नहीं था. मशीन के हैंग होने की भी आशंका बनी रहती है. ट्रॉमा सेंटर के अभाव में घायल बच नहीं रहे : जेएलएनएमसीएच के इमरजेंसी वार्ड में ही ट्रॉमा सेंटर का बोर्ड लगा है. लेकिन सड़क हादसा, दुर्घटना व मारपीट में घायल लोगों के बेहतर इलाज की व्यवस्था नहीं हो पाती है. 13 अप्रैल की रात भी जीरोमाइल चौक पर सड़क हादसे में स्थानीय निवासी एक युवक की मौत हो गयी थी. अस्पताल में युवक को लाने के बाद युवक ने दम तोड़ दिया था. रात में इमरजेंसी वार्ड में कोई सीनियर डॉक्टर भी नहीं रहते हैं. बरारी रोड में बन रहे सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में अत्याधुनिक ट्रॉमा वार्ड बनाया गया है. लेकिन इसे अबतक चालू नहीं किया गया है. इस समय सिर में चोट लगे अधिकांश मरीजों को रेफर किया जा रहा है.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें