अब नजारत भी आरबीआइ के पास करेगा दावा

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

भागलपुर : जिला कल्याण कार्यालय के बाद अब जिला नजारत भी सृजन घोटाले में गंवाये पैसे को वापस लाने के लिये आरबीआइ सहित संबंधित बैंक से रिकवरी का दावा ठोकेगा. इसको लेकर जिला नजारत में प्रशासनिक स्तर पर तैयारी भी शुरू हो गयी है. महालेखाकार की अंतरिम रिपोर्ट पर गठित टीम का अध्ययन भी आ गया, जिसमें घोटाले की राशि सवा करोड़ रुपये बढ़ने का खुलासा हुआ था. प्रशासन ने पिछले दिनों वित्त विभाग से घोटाले के बाद बंद पड़े विकास कार्य को शुरू कराने का जो मार्गदर्शन मांगा था, उसमें भी राशि के रिकवरी करने पर कार्रवाई की सलाह दी गयी थी.

बंद है जिला नजारत से लेनदेन
सृजन घोटाले के कारण जिला नजारत से लेनदेन बंद है. इस कारण समाहरणालय के विभिन्न विभागों में सामान्य खर्च भी सदर अनुमंडल के नजारत से लेना पड़ रहा. वित्त विभाग का मार्गदर्शन मिलते ही जिला नजारत की गतिविधि को चालू करने का दबाव बढ़ गया है. जिला नजारत के तमाम पुराने खाते सीबीआइ जांच के दायरे में है. जिला नजारत के विभिन्न बैंक खातों में रखे पैसे का हिसाब-किताब हो रहा है. जिन खातों की जरूरत नहीं होगी, उन्हें तत्काल बंद किया जायेगा. सृजन घोटाले में अगर संबंधित खाते से राशि निकल गयी होगी तो उसकी रिकवरी की दिशा में काम होगा. एक मद से एक ही खाता रखा जायेगा.
कोऑपरेटिव के निदेशक मंडल की बैठक में सृजन का भी आया मुद्दा
दी भागलपुर सेंट्रल कोऑपरेटिव बैंक के निदेशक मंडल की बैठक में सृजन घोटाले में गयी बैंक की राशि का भी मुद्दा आया. बैंक के प्रबंध निदेशक सुभाष कुमार ने नवनिर्वाचित अध्यक्ष देवेंद्र प्रसाद सिंह, उपाध्यक्ष सुभाष यादव सहित तमाम निदेशक मंडल को घोटाले के बाद अब तक की हुई कार्रवाई का ब्योरा दिया. अध्यक्ष देवेंद्र प्रसाद सिंह ने कहा कि पहली बैठक थी, इसमें सभी नवनिर्वाचित सदस्यों के परिचय हुआ. सृजन घोटाले में जो भी जिम्मेवार होगा, उसके खिलाफ कार्रवाई होगी. राशि की रिकवरी का काम होगा. उन्होंने कहा कि अगले महीने आम सभा होगी.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें