1. home Hindi News
  2. sports
  3. ipl
  4. priyam garg did not even have money to buy cricket kit father was driver blasts in ipl today hyderabad defeat chennai super kings avd

IPL 2020 : किट खरीदने के लिए नहीं थे पैसे, पिता थे ड्राइवर, बेटा IPL में मचा रहा धमाल

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
PTI PHOTO

नयी दिल्ली : आईपीएल 2020 (IPL 2020) के 14वें मैच में युवा प्रियम गर्ग (Priyam Garg) और अभिषेक शर्मा की उम्दा बल्लेबाजी के दम पर सनराइजर्स हैदराबाद (Sunrisers Hyderabad) ने शुक्रवार को तीन बार की चैम्पियन चेन्नई सुपर किंग्स (Chennai Super Kings) को सात रन से हरा दिया. हैदराबाद की जीत में प्रियम गर्ग हीरो बनकर उभरे हैं. उन्होंने चेन्नई के खिलाफ विस्फोटक शतकीय पारी खेली और टीम को जीत दिलायी.

हैदराबाद की जीत के बाद प्रियम गर्ग की चर्चा हर तरफ हो रही है. गर्ग ने चेन्नई के खिलाफ केवल 26 गेंदों में 6 चौके और एक चौकी मदद से नाबाद 51 रनों की पारी खेली. उनकी पारी की खास बात रही कि जब वो बल्लेबाजी के लिए उतरे थे उस समय टीम की हालत बेहद खराब थी, दिग्गज बल्लेबाज आउट होकर पवेलियन लौट चुके थे.

अंडर 19 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया की कप्तानी कर चुके प्रियम गर्ग का क्रिकेट सफर काफी मुश्किलों भरा रहा है. गर्ग का जन्म उत्तर प्रदेश के मेरठ से 25 किलोमीटर दूर परिक्षितगढ़ में हुआ है. लेकिन उनके ऊपर से मां का साया बहुत जल्द उठ गया. जब वो 11 साल के थे उसी समय उनकी मां का निधन हो गया. मां का सपना था कि उनका बेटा बड़ा क्रिकटर बने. आज गर्ग कामयाब क्रिकेटर तो बन गये हैं, लेकिन यह देखने के लिए उनकी मांग जींदा नहीं हैं.

मां का सपना पूरा करने के लिए गर्ग ने की कड़ी मेहनत

मां का सपना पूरा करने के लिए प्रियम गर्ग ने कड़ी मेहनत की. बताया जाता है कि हर दिन पढ़ाई के साथ-साथ वो क्रिकेट के मैदान पर 7-8 घंटे अभ्यास किया करते थे. उनकी मेहनत का ही कमाल था कि उन्हें 2018 में उत्तर प्रदेश की रणजी टीम में खेलने का मौका मिल गया.

पिता थे ड्राइवर, ऐसे बनाया बेटे को क्रिकेटर

प्रियम गर्ग आज अगर कामयाब क्रिकेटर बने गये हैं, तो उसके पीछे उनके पिता का बड़ा रोल रहा है. गर्ग के पिता एक ड्राइवर थे. वो स्कूल वैन चलाया करते थे. पिता के पास पैसों की कमी रहती थी, लेकिन उन्होंने उसका अहसास कभी भी बेटे को नहीं होने दिया. पिता ने अपने दोस्तों से पैसे लेकर बेटे की हर चाहत पूरी की. 6 साल की उम्र से ही प्रियम के पिता ने उन्हें क्रिकेट कोचिंग में भेजना शुरू कर दिया था. बताया जाता है कि गर्ग के पास क्रिकेट किट खरीदने के लिए भी पैसे नहीं थे, लेकिन पिता ने कर्ज लेकर बेटे की डिमांड पूरी की.

Posted By - Arbind Kumar Mishra

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें