1. home Hindi News
  2. religion
  3. rashi parivartan june 2022 grah gochar date rashi parivartan surya shukra and mangal shani vakri june horoscope in hindi sry

Rashi Parivartan June 2022: जून में 5 ग्रहों की बदलेगी चाल, इन राशि वालों को रहना होगा सावधान

ग्रहों के राशि परिवर्तन से कुछ राशि के जातकों के भाग्य में बदलाव देखने को मिलता है तो कुछ राशि के लोगों के जीवन में कुछ कष्ट आने प्रारंभ हो जाते हैं. जून के महीने भी कुछ ग्रहों का राशि परिवर्तन देखने को मिलेगा.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Rashi Parivartan June 2022
Rashi Parivartan June 2022
Prabhat Khabar Graphics

Rashi Parivartan June 2022: गुरु बृहस्पति ने अपनी स्वराशि मीन राशि में प्रवेश कर लिया है. गुरु ग्रह का गोचर 3 राशि वालों के लिए लाभप्रद साबित हो सकता है. आइए जानते हैं ये किन राशि के लोग हैं.

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक प्रत्येक ग्रह एक निश्चित समय अवधि पर एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करता है और इस गोचर का सीधा असर मानव जीवन और पृथ्वी पर पड़ता है. आपको बता दें कि ज्ञान और वृद्धि के कारक गुरु बृहस्पति ने 12 अप्रैल को अपनी मीन में गोचर कर लिया है. जो इनकी ही स्वराशि मानी जाती है.

ज्योतिष में गुरु ग्रह का संबंध ज्ञान, वृद्धि, शिक्षक, संतान, शिक्षा धन, दान और पुण्य से माना गया है. इसलिए गुरु ग्रह के गोचर का असर सभी राशियों पर पड़ेगा. लेकिन 3 राशियां ऐसीं हैं, जिनको यह राशि परिवर्तन विशेष लाभकारी साबित सकता है. आइए जानते हैं ये 3 राशियां कौन सीं हैं…

वृष राशि

आप लोगों की गोचर कुंडली से गुरु ग्रह का गोचर 11वें भाव में हुआ है. जिसे ज्योतिष में इनकम और लाभ का भाव कहा जाता है. इसलिए इस दौरान आपकी आय में अच्छी बढ़ोतरी हो सकती है. व्यापार में नए ऑर्डर प्राप्त हो सकते हैं. साथ ही आय के नए- नए स्त्रोत भी बन सकते हैं. कारोबार में अच्छा धनलाभ हो सकता है. साथ ही कोई बड़ी डील भी फाइनल हो सकती है. जिससे आपको लाभ हो सकता है.

वहीं इस समय आपकी कार्यशैली में भी निखार देखने को मिलेगा, जिससे आपके बॉस आपसे खुश रहेंगे और आपकी तारीफ हो सकती है. वहीं जो लोग नया व्यापार शुरू करना चाहते हैं तो उनके लिए समय अच्छा है. वह शुरू कर सकते हैं. साथ ही गुरु बृहस्पति आपके 8वें भाव के स्वामी है. इसलिए इस समय जो लोग रिसर्च से जुड़े हुए हैं उनको ये समय शानदार रहने वाला है. साथ ही कोई कोई पुरानी बीमारी से छुटकारा मिल सकता है. हालांकि यहां पर देखने वाली बात यहा है कि आपकी कुंडली में आपके राशि स्वामी शुक्र और गुरु के बीच भाव कैसा है.

मिथुन राशि

गुरु ग्रह का गोचर आप लोगों के लिए लाभप्रद रहने वाला है. क्योंकि गुरु ग्रह ने आपके दशम स्थान में गोचर किया है. जिसे नौकरी, व्यापार और कार्यक्षेत्र का स्थान ज्योतिष में माना गया है. इसलिए इस समय आपको नई नौकरी का प्रस्ताव आ सकता है. साथ ही इस समय आपके प्रमोशन और इंक्रीमेंट के भी योग हैं. हालांकि आपको नौकरी बदलते समय धैर्य से भी काम लेना होगा. वहीं अगर आप व्यापारी है तो आपको कारोबार में अच्छा मुनाफा हो सकता है.

साथ ही नए व्यवसायिक संबंध बन सकते हैं और कारोबार का विस्तार हो सकता है. वहीं जो लोग मार्केटिंग और मीडिया की लाइन से जुड़े हुए हैं उनके लिए यह समय लाभकारी रहने वाला है. वहीं मिथुन राशि राशि के स्वामी बुध देव हैं और ज्योतिष के अनुसार बुध और गुरु ग्रह में मित्रता है. इसलिए यह समय आपके लिए शुभ फलदायी साबित हो सकता है. इस समय आप एक पन्ना धारण कर सकते हैं, जिससे आपको अच्छा धनलाभ होगा.

कर्क राशि

आपकी राशि से गुरु बृहस्पति ने नवम भाव में गोचर किया है. जिसे भाग्य और विदेश यात्रा का स्थान कहा जाता है. इसलिए इस समय आपको किस्मत का पूरा साथ मिलेगा. साथ ही जो काम बहुत दिनों से अटके हुए थे वो काम बनेंगे. वहीं इस दौरान आप कारोबार के सिलसिले से यात्रा भी कर सकते हैं, जो फायदेमंद साबित हो सकती है. .

वहीं जिन लोगों का व्यापार खान- पान, होटल, रेस्टोरेंट से जुड़ा हुआ है, उन लोगों को इस समय विशेष धनलाभ हो सकता है. वहीं गुरु ग्रह आपके छठे स्थान के स्वामी हैं, जिसे रोग और शत्रु का भाव कहा जाता है. इसलिए इस समय आपको शत्रुओं पर विजय हासिल होगी और गुप्त शत्रुओं का नाश होगा. साथ ही जो छात्र प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं, उन लोगों को यह समय शानदार रहने वाला है. वह किसी परीक्षा में पास हो सकते हैं.

उपाय

अगर इन्सान अपना आचार व्यवहार सही रखे तो ग्रह अपने आप ही अनुकूल हो जाते है.
1) माता-पिता की सेवा से ( सूर्य-चन्द्र) अनुकूल होते है.
2) गुरु और वृद्ध जानो के प्रति सेवा और आदर भाव (बृहस्पति) अनुकूल होते है.
3) देश -भक्ति की भावना (शनि) अनुकूल होते है.
4) मजबूर और अपने अधीनस्थ कर्मचारियों के प्रति स्नेह भाव से शनि अनुकूल होते है.
5) अपने रक्त -सम्बन्धियों ,बहन-भाई आदि के साथ स्नेह और कर्तव्य भाव से (मंगल) अनुकूल होते है.
6) नारी जाति के प्रति सम्मान और श्रद्धा भाव से (शुक्र) अनुकूल होते है.
7) मधुर और अच्छी भाषा का प्रयोग से (बुध) अनुकूल होते है.
8) इस धरा के समस्त प्राणी -मात्र के प्रति दया भाव से ( राहू-केतु) अनुकूल होते है.
उपरोक्त बातें अगर कोई भी इंसान अपने जीवन में उतार लेता है तो कभी कोई दुःख पास नहीं आएगा.

संजीत कुमार मिश्रा
ज्योतिष एवं रत्न विशेषज्ञ
8080426594/9545290847

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें