27.9 C
Ranchi
HomeSearch

sarhul - search results

If you're not happy with the results, please do another search.

Sarhul: कहीं खद्दी, तो कहीं बाहा के नाम से मनाया जाता है प्रकृति पर्व सरहुल, ये है मान्यता

Sarhul: सरहुल का जश्न सिर्फ नाच - गाने और सजने सवरने तक ही सीमित नहीं रहता है पर इसके मनाने के पीछे बहुत सारे महत्वपूर्ण कारण होते है. यह त्योहार हमे आदिवासियों की समृद्ध संस्कृति के बारे में बताता है.

Sarhul 2024 : सरहुल गीत

Sarhul 2024 प्रकृति पर्व सरहुल के अवसर पर सरहुल गीत गाए जाते हैं, जो सबका मन मोह लेते हैं.

Sarhul: स्वस्थ संसार की कामना के साथ मनाया जाता है सरहुल पर्व

प्रकृति पर्व सरहुल के मौाके पर प्रकृति की पूजा की जाती है और स्वस्थ संसार की कामना की जाती है.

Sarhul: झारखंड में काफी मशहूर है सरहुल का त्योहार, जानें क्या है इसकी शोभायात्रा से जुड़ा इतिहास

Sarhul: झारखंड के लोगों के लिए काफी खास है सरहुल का त्योहार, ऐसे में जानें क्या है इसका इतिहास और इसकी शोभायात्रा की कब हुई थी शुरुआत.

Sarhul: इन आउटफिट्स आइडियाज के साथ सरहुल के पर्व को बनाएं यादगार

Sarhul: अगर आप सरहुल मनाने जा रहे हैं तो ऐसे में यह वीडियो आपकी काफी मदद कर सकती है. आज इस वीडियो में हमने आपके साथ सरहुल के दिन पहनने के लिए कुछ आउटफिट आइडियाज शेयर किया है.

झारखंड में कैसे हुई थी सरहुल शोभायात्रा की शुरुआत, डॉ रामदयाल मुंडा का था बड़ा योगदान

सरना नवयुवक संघ के अध्यक्ष डॉ हरि उरांव बताते हैं कि पहले आदिवासी समुदाय में अपने गीतों और नृत्यों के प्रदर्शन को लेकर हिचक होती थी. दूसरे प्रदेशों से आये लोग भी इसे हेय दृष्टि से देखते थे.

प्रकृति का नववर्ष है चैत्र : हिंदू नववर्ष, सरहुल, रामनवमी, बैसाखी और पोइला बोइशाख इसी माह

चैत्र मास में हिंदू नववर्ष मनाते हैं. बंगाल के लोग पोइला बोइशाख मनाते हैं. सिख समुदाय 13 अप्रैल को हर वर्ष बैसाखी पर्व मनाता है.

Sarhul Festival 2024: हर तरफ गूंज रहे सरहुल के गीत, थिरक रहे पांव

Sarhul Festival 2024: सरहुल पर्व के दस्तक देते ही गीत-संगीत से पूरा झारखंड गूंज रहा है. सरहुल गीत पर लोगों के पांव खुद-ब-खुद थिरकने लगे हैं.

फैशन के रंग में सराबोर प्रकृति पर्व सरहुल, ट्राइबल ज्वेलरी बना रही दीवाना

सरहुल पर फैशन के रंग में सराबोर है. ट्राइबल आउटफिट और ज्वेलरी का क्रेज बढ़ा हुआ है. झारखंड में 11 अप्रैल को सरहुल शोभायात्रा निकाली जाएगी.

सरहुल की तैयारी : सरना झंडों से पटी रांची, 10 को उपवास, जलरखाई और 11 को भव्य शोभायात्रा

सरहुल की तैयारी रांची में अंतिम चरण में है. पूरे शहर को सरना झंडों से पाट दिया गया है. 10 को उपवास और जलरखाई है. 11 अप्रैल को भव्य शोभायात्रा निकलेगी.

Most Popular

ऐप पर पढें