sitamarhi

  • Feb 15 2020 9:26AM
Advertisement

नेपाल में आयोजित इज्तिमा में भाग लेने जा रहे लोगों को सीमा पर रोका गया, फिर...

नेपाल में आयोजित इज्तिमा में भाग लेने जा रहे लोगों को सीमा पर रोका गया, फिर...

सीतामढ़ी : जिले के फुलपरास अनुमंडल क्षेत्र के लोकही भारत-नेपाल सीमा पर इज्तिमा को लेकर नेपाल की सीमा पर पहुंचे भारत के विभिन्न राज्यों के मुसलमानों को एसएसबी ने रोक दिया है. इस कारण दिन भर बॉर्डर पर करीब पांच लाख लोगों का जमावड़ा लगा रहा. स्थानीय लोगों ने बताया कि नेपाल के सप्तरी जिले के झज्जर गांव में इज्तिमा का आयोजन नेपाल के ग्रामीणों के द्वारा किया गया है. नेपाल सरकार ने भारत के गृह मंत्री विभाग को पत्र लिख कर सीमा पर भारतीय मुसलमान को जाने से आज दिन भर रोक लगा दी थी. इस कारण देश के विभिन्न क्षेत्रों से आये मुसलमानों को नेपाल के सीमावर्ती क्षेत्र में प्रवेश पर एसएसबी ने रोक दिया. इस कारण सीमा स्थल पर काफी अफरातफरी का माहौल बना रहा. 

स्थानीय लोगों की मदद से इज्तिमा में आये लोगों को पानी एवं खाने की सुविधा भी दी गयी. स्थानीय नेता मुख्तार अहमद ने बताया कि नेपाल सरकार द्वारा भारत से आये मुस्लिम लोगों को इज्तिमा में जाने से रोक दिया गया था. शाम में नेपाल सरकार ने गृह मंत्रालय से बात करने के बाद देर रात तक इज्तिमा में आये लोगों ने विभिन्न जगहों पर फोन से बात कर इस समस्या के हल के लिए आग्रह किया. इसके बाद गृह मंत्रालय के निर्देश पर उन्हें नेपाल सरकार द्वारा इजाजत दी गयी है. भारत के मुस्लिमों ने नेपाल में प्रवेश शुरू कर दिया है. 

बताया जा रहा है कि नेपाल सरकार इज्तिमा में पाकिस्तान और बांग्लादेश छोड़ कर दुनिया के कई देशों के मुस्लिम कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए भारत की विभिन्न सीमाओं से प्रवेश कर रहे हैं. इस बात की सूचना नेपाल के दूतावास से भारत सरकार को दी गयी. भारत सरकार ने नेपाल सरकार से वार्ता कर प्रवेश करने की अनुमति दे दी है. इसके बाद इज्तिमा में जानेवाले मुसलमानों ने नेपाल सप्तरी जिला स्थित गाजर में कार्यक्रम स्थल पर पहुंचने के लिए प्रस्थान कर चुके हैं. 

मुख्तार अहमद ने बताया कि इज्तिमा में दुनिया के अन्य देशों के भी मुसलमान 15, 16 और 17 फरवरी को भाग लेंगे. कार्यक्रम स्थल पर 20 लाख मुसलमान को पहुंचने की संभावना है. एसडीओ ने बताया कि रोक नेपाल पुलिस द्वारा ही दूतावास को सूचना देने पर लगाया गया था. इसका निराकरण होने के बाद अब इज्तिमा में भाग लेनेवाले सभी मुसलमानों को नेपाल सीमा से प्रवेश कराया जा रहा है.

क्या होता है इज्तिमा?

इज्तिमा अरबी शब्द है. इसका अर्थ है इकट्ठा होना. लेकिन, अब इसका इस्तेमाल ऐसी भीड़ के लिए भी किया जाने लगा है, जहां मजहब की भलाई और उनके प्रचार-प्रसार की बातें हो. इस शब्द का इस्तेमाल 'धर्म प्रचार' के लिए भी किया जाने लगा है.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement